सऊदी अरब पहुंचे पीएम मोदी, FII में बताएंगे भारत कैसे बनेगा 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था?

पीएम मोदी सोमवार देर रात सऊदी अरब पहुंचे.

पीएम मोदी सोमवार देर रात सऊदी अरब पहुंचे.

पीएम मोदी FII को संबोधित करने के अलावा सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज और उनके युवराज (Crown Prince) मोहम्मद बिन सलमान के साथ द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. इस दौरान दोनों देशों के बीच स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप काउंसिल पर एमओयू, एनर्जी सेक्टर में डील्स, भारत के नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड इनवेस्टमेंट फंड में सऊदी निवेश और सिक्योरिटी में आपसी सहयोग को लेकर समझौते हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2019, 9:43 AM IST
  • Share this:

रियाद. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) सोमवार देर रात सऊदी अरब पहुंचे. रियाद एयरपोर्ट पर उनका जोरदार स्वागत किया गया. आज पीएम मोदी सऊदी अरब (Saudi Arab) के सालाना वित्तीय सम्मेलन फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशटिव (FII) में शिरकत करेंगे. इस समिट में पीएम 'भारत के आगे क्या' विषय पर भाषण देंगे. इस दौरान मोदी बताएंगे कि भारत कैसे 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनेगा.

इस सम्‍मेलन में पीएम मोदी के अलावा पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) और कई अन्य देशों के नेता भी हिस्सा ले रहे हैं. 'फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव फोरम' का उद्देश्य खाड़ी देश को तेल आधारित अर्थव्यवस्था को विविध रूप देने में मदद के लिए विदेशी निवेशकों को आकर्षित करना है.

FII फोरम का आयोजन सऊदी अरब की अर्थव्यवस्था में बड़े बदलाव से जुड़े विजन 2030 के तहत किया जा रहा है. विजन 2030 के तहत सऊदी अरब ने स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप के लिए भारत समेत 8 देशों चीन, ब्रिटेन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, जापान और दक्षिण कोरिया को चुना है.



मोहम्मद बिन सलमान से बातचीत
पीएम मोदी FII को संबोधित करने के अलावा सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज और उनके युवराज (Crown Prince) मोहम्मद बिन सलमान के साथ द्विपक्षीय बातचीत करेंगे. इस दौरान दोनों देशों के बीच स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप काउंसिल पर एमओयू, एनर्जी सेक्टर में डील्स, भारत के नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड इनवेस्टमेंट फंड में सऊदी निवेश और सिक्योरिटी में आपसी सहयोग को लेकर समझौते हो सकते हैं. स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप काउंसिल के अध्यक्ष प्रधानमंत्री मोदी और सऊदी क्राउन प्रिंस होंगे. इसकी बैठक हर दो साल पर होगी.

एयरपोर्ट पर पीएम मोदी का जबरदस्त स्वागत किया गया

रुपे कार्ड होगा लॉन्च

सऊदी अरब में रुपे (RuPay) कार्ड के लॉन्च के साथ दोनों देशों के लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने की भी योजना है. बता दें कि रुपे कार्ड सऊदी अरब में बड़ी संख्या में मौजूद भारतीय समुदाय के साथ ही हज पर जाने वाले यात्रियों के लिए भी फायदेमंद साबित होगा.

पीएम मोदी का पूरा शेड्यूल (भारतीय समयानुसार:-

मंगलवार (29 अक्टूबर)

>>ऊर्जा मंत्री से मुलाकात- दोपहर 1:00 बजे

>>विदेश मंत्री से मुलाकात- 1: 20 बजे

>>श्रम मंत्री से मुलाकात- 1: 40 बजे

>>कृषि मंत्री से मुलाकात- 2:00 बजे

>>किंग सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद के साथ लंच- शाम 4:30 बजे

>>सलमान बिन अब्दुल अजीज अल सऊद के साथ बैठक- 5:20 बजे

>>सऊदी अरब और भारत के बीच समझौते- 5:50 बजे

>>FII कार्यक्रम में पीएम मोदी का भाषण- रात 8:00 बजे

>>क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात- 9:30 बजे

>>क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की ओर से डिनर- 10:30 बजे

>>भारत वापसी- बुधवार 12:45 AM

पीएम मोदी बोले- भारत-सऊदी के बीच घनिष्‍ठ संबंध

प्रधानमंत्री ने यात्रा पर रवाना होने से पहले नई दिल्ली में कहा, 'भारत और सऊदी अरब के बीच पारंपरिक रूप से घनिष्ठ तथा प्रगाढ़ संबंध रहे हैं. सऊदी अरब भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं की पूर्ति में सबसे बड़े और भरोसेमंद आपूर्तिकर्ताओं में से एक रहा है.' पीएम मोदी ने कहा, 'मैं सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान से भी मिलूंगा और द्विपक्षीय सहयोग के विभिन्न मुद्दों तथा पारस्परिक हित के क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर भी चर्चा करूंगा.' मोदी ने कहा कि सऊदी अरब के साथ रक्षा, सुरक्षा, संस्कृति, शिक्षा और लोगों के बीच संपर्क, द्विपक्षीय सहयोग के अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा, 'यात्रा के दौरान, रणनीतिक भागीदारी परिषद् की स्थापना के लिए समझौता भारत-सऊदी अरब रणनीतिक भागीदारी को और मजबूत कर नए स्तर पर ले जाएगा.'

FII को क्यों कहते हैं रेगिस्तान का दावोस?

FII को ‘रेगिस्तान का दावोस’ कहा जाता है. दरअसल, स्व‍िट्जरलैंड के शहर दावोस में दुनिया के सबसे बड़े इकोनॉमी-बिजनेस के कार्यक्रम वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम का आयोजन किया जाता है. वहीं, सऊदी अरब के रियाद में फ्यूचर इनवेस्टमेंट इनिशिएटिव आयोजित होने वाला एक सालाना निवेश मंच है. इसमें वैश्विक अर्थव्यवस्था और निवेश वातावरण के ट्रेंड पर चर्चा होती है. इसलिए इसे 'रेगिस्तान का दावोस' भी कहते हैं.

(भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

अंडरवर्ल्ड डॉन के साथ कनेक्शन पर शिल्पा शेट्टी के पति से ED करेगी पूछताछ

JNU प्रशासन ने कहा: बीमार प्रोफेसर की एंबुलेंस रोकी, स्टूडेंट यूनियन का इनकार

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज