लाइव टीवी

सऊदी अरब में थियेटर की वापसी, महिलाएं रंगमंच पर दिखाएंगी अपनी कला

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 1:17 PM IST
सऊदी अरब में थियेटर की वापसी, महिलाएं रंगमंच पर दिखाएंगी अपनी कला
यह पहली बार है कि सऊदी अरब में रंगमंच को बढ़ावा और इसमें महिलाओं को पूरी तरह महत्‍व दिया जा रहा है.

मशहूर कलाकार, नाट्य लेखक, समीक्षक अब्‍दुल अजीज अल इस्‍माइल ने कहा कि महिलाओं के बिना कोई भी मंचीय नाटक पूरा नहीं होगा. मंचीय नाटकों में महिलाओं को शामिल किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 1:17 PM IST
  • Share this:
प्रिंस बदर बिन अब्दुल्ला बिन मुहम्मद बिन फरहान अल सऊद (Badr bin Abdullah bin Mohammed bin Farhan Al Saud) सऊदी अरब में संस्कृति के पहले और वर्तमान मंत्री हैं, जिन्‍होंने किंग फहद कल्‍चरल सेंटर रियाद में राष्‍ट्रीय थियेटर का आगाज किया है. इस मौके पर सऊदी अरब (Saudi Arabia) और अन्य अरब देशों में थियेटर आर्ट में दिलचस्‍पी रखने वालीं शख्सियतें, बुद्धिजीवी और कलाकार मौजूद रहे.

इस अवसर पर शहजादा बदर बिन अब्‍दुल्‍ला ने घोषणा की, 'सऊदी विजन 2030 संस्‍कृति को जीवन की कसौटी का आधार मानता है. हम देश में थियेटर (Theatre) की संस्‍कृति को बढ़ावा देने के लिए दृढ़ संकल्‍प हैं. थियेटर कलाकारों को अवसर मुहैया किए जाएंगे.' उन्‍होंने विश्‍वास दिलाया, 'संस्‍कृति मंत्रालय राष्‍ट्रीय थियेटर को कला के तौर पर आगे तक ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार है.'

राष्‍ट्रीय थियेटर के प्रबंधक और मशहूर कलाकार व नाट्य लेखक समीक्षक अब्‍दुल अजीज अल इस्‍माइल ने कहा, 'सऊदी थियेटर पूरे तौर पर वापस आ रहा है. महिलाएं रंगमंच पर अपनी कला को दिखाएंगी. थियेटर संस्‍कृति को आम करने के लिए जरूरी काम किए जाएंगे.'

उन्‍होंने 45 साल से ज्‍यादा का समय थियेटर की सेवा में गुजारा है. कलाकार, नाट्य लेखक निर्देशक, समीक्षक, प्रबंधक और बतौर नेतृत्‍वकर्ता उन्‍होंने अलग-अलग तरह काम किए हैं. उन्‍होंने कहा, 'राष्‍ट्रीय थियेटर संस्‍कृति मंत्रालय के अहम कार्यक्रमों में से एक है. दुनिया भर में राष्‍ट्रीय थियेटर की सेवा और अनुभवों को मद्देनजर रखकर सऊदी अरब में थियेटर को आगे बढ़ाया जाएगा.'

अब्‍दुल अजीज अल इस्‍माइल ने कहा, 'थियेटर स्‍थानीय टीमों की मदद से तैयार होंगे. बड़ों और बच्‍चों सबके लिए होंगे. इसमें सांगीतिक थियेटर, ओपेरा, मोनो ड्रामा, शैक्षिक नाटक और सांस्‍कृतिक नाटक सब कुछ शामिल होगा.' उन्‍होंने बताया, 'महिलाओं के बिना कोई भी मंचीय नाटक पूरा नहीं होगा. मंच नाटकों में महिलाओं को शामिल किया जाएगा. स्‍थानीय परंपराओं और संस्‍कृति को मद्देनजर रख कर काम किया जाएगा. राष्‍ट्रीय थियेटर को आगे बढ़ाने में महिलाएं बराबर की शरीक होंगी.'

ये भी पढ़ें :- 

लड़की का आरोप-हॉट तस्‍वीरें पोस्‍ट कींं तो मुझे नौकरी से निकाल दियाभारत में हर 10 में से एक आदमी को कैंसर का खतरा, 15 में से एक मरीज की होगी मौत

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 11:50 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर