Coronavirus Vaccine Update: फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन में पड़ेगी तीसरे डोज की जरूरत! मंजूरी पाने की तैयारी में कंपनी

फाइजर-बायोएनटेक ने गुरुवार को घोषणा की है कि वे अपनी कोविड-19 वैक्सीन के लिए रेग्युलेटरी अप्रूवल की मांग करेंगे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Pfizer Vaccine: कंपनी अंतरिम ट्रायल (Interim Trial) के डेटा के मद्देनजर मंजूरी प्राप्त करने की कोशिश करेगी, जिसमें पता चला था कि पहले दो डोज की तुलना में तीसरा डोज एंटीबॉडी लेवल को पांच से दस गुना बढ़ा सकता है.

  • Share this:
    न्यूयॉर्क. फाइजर-बायोएनटेक (Pfizer-BioNTech) अब कोविड-19 वैक्सीन 'Comirnaty' के तीसरे डोज की तैयारी कर रही हैं. रिपोर्ट्स के अनुसार, कोरोना वायरस के ओरिजिनल स्ट्रेन के खिलाफ बेहतर काम करने के लिए तीसरे डोज की जरूरत पड़ सकती है. हाल ही में आए अंतरिम डेटा के मुताबिक, संभावना जताई जा रही थी कि वैक्सीन का तीसरा डोज बीटा और डेल्टा वेरिएंट पर भी बेहतर सुरक्षा दे सकता है. कंपनी तीसरे डोज के लिए मंजूरी पाने की भी कोशिश में है.

    फाइजर-बायोएनटेक ने गुरुवार को घोषणा की है कि वे अपनी कोविड-19 वैक्सीन के लिए रेग्युलेटरी अप्रूवल की मांग करेंगे. कंपनी अंतरिम ट्रायल के डेटा के मद्देनजर मंजूरी प्राप्त करने की कोशिश करेगी, जिसमें पता चला था कि पहले दो डोज की तुलना में तीसरा डोज एंटीबॉडी लेवल को पांच से दस गुना बढ़ा सकता है. वहीं, हाल ही में खबरें आई थीं कि वैक्सीन SARS-CoV-2 वायरस के डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ कम प्रभावी है.

    यह भी पढ़ें: पूरी दुनिया में उम्मीद जगा रही भारत की कोवैक्सीन, जानें क्या बोला अंतरराष्ट्रीय संगठन

    नेचर जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी में पता चला था कि वैक्सीन का सिंगल डोज मुश्किल से कोविड-19 के डेल्टा स्ट्रेन के खिलाफ न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडीज तैयार करता है. वहीं, इजरायली सरकार ने भी इस हफ्ते कहा था कि फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन की प्रभावकारिता कथित रूप से 6 महीनों बाद कम हो रही है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय का डेटा दिखाता है कि फाइजर की कोविड-19 वैक्सीन ने 6 जून से शुरुआती जुलाई के बीच देश के 64 प्रतिशत लोगों को सुरक्षा दी. जबकि, पहले यह आंकड़ा 94 फीसदी पर था.

    इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कंपनी ने कहा था कि पूरे टीकाकरण के बाद सुरक्षा के लिए 6-12 महीनों के भीतर तीसरे डोज की जरूरत पड़ सकती है. वहीं, इन डेटा से मिली जानकारी के बाद फाइजर-बायोएनटेक ने घोषणा की थी कि कंपनियां खास डेल्टा वेरिएंट की वैक्सीन पर काम कर रही हैं, जिसकी पहली खेप जर्मनी स्थित बायोएनटेक की फैसिलिटी में तैयार की जा चुकी है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.