चीन की आलोचना कर रहे ट्रंप कोरोना से निपटने में उसी को कॉपी कर रहे हैं!

चीन की आलोचना कर रहे ट्रंप कोरोना से निपटने में उसी को कॉपी कर रहे हैं!
अमेरिका में 4 करोड़ लोग हुए बेरोजगार

कोरोना को 'चीनी वायरस' कहकर संबोधित करने वाले ट्रंप ने रविवार को फिर आरोप लगाया कि चीन वायरस से जुड़ी अहम जानकारी साझा करने की जगह उसे रहस्य की तरह छिपा कर रखने की कोशिश में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2020, 5:34 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
वाशिंगटन. दुनिया भर में बढ़ते कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के मामले और चीन (China) में इस पर काबू पा लिए जाने के बाद से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) खुलकर चीनी सरकार की आलोचना कर रहे हैं. कोरोना को 'चीनी वायरस' कहकर संबोधित करने वाले ट्रंप ने रविवार को फिर आरोप लगाया कि चीन वायरस से जुड़ी अहम जानकारी साझा करने की जगह उसे रहस्य की तरह छिपा कर रखने की कोशिश में है. उधर न्यूयॉर्क में चीन की ही तरह अस्थायी अस्पतालों का निर्माण कर कोरोना से निपटने की तैयारी शुरू हो गयी हैं.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगर बीजिंग ने इस आसन्न खतरे के बारे में पहले ही चेतावनी दे दी होती तो अमेरिका और पूरा विश्व इसके लिए ज्यादा बेहतर तरीके से तैयार होता. हालांकि ट्रंप ने उन खबरों से इनकार कर दिया कि जनवरी और फरवरी में अमेरिकी खुफिया रिपोर्टों में आगामी महामारी के बारे में आगाह किया गया था. उन्होंने कहा कि अमेरिका को तब तक इस प्रकोप की जानकारी नहीं थी जब तक यह सार्वजनिक रूप से सामने नहीं आया.

चीन को भी नुकसान हुआ है: ट्रंप
ट्रंप ने कहा, 'आप इसे समझिए, चीन यहां फायदे में नहीं रहा है. चीन में करोड़ों लोग हैं. चीन को इसका बहुत बुरा परिणाम भुगतना पड़ा है. मैंने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से बात की है. मैं बस यह सोचता हूं कि काश उन्होंने हमें यह पहले बताया होता. उन्हें पता था कि उनके यहां पहले से समस्या थी. काश उन्होंने यह बता दिया होता.' ट्रंप एक हफ्ते से भी ज्यादा वक्त से रोजाना व्हाइट हाउस के संवाददाताओं को संबोधित कर रहे हैं और प्रत्येक सम्मेलन एक घंटे से ज्यादा वक्त का हो रहा है.



ट्रंप ने बताया, 'चीन ने कोरोना वायरस को रहस्य की तरह रखा. उन्होंने बहुत छिपाया और यह दुर्भाग्यपूर्ण है.' ट्रंप ने दोहराया कि वह चीन का बहुत सम्मान करते हैं और अपने चीनी समकक्ष शी चिनफिंग के साथ उनके बहुत अच्छे संबंध हैं लेकिन उन्होंने चीन के ईमानदार न रहने और कोरोना वायरस की गंभीरता के बारे में विश्व को सजग करने में धीमा रुख अपनाने को लेकर निराशा भी व्यक्त की.



'चीन को जिम्मेदार ठहराए दुनिया'
पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने एक ट्वीट में कहा कि चीन ने भंडाफोड़ करने वालों को चुप करा दिया, पत्रकारों को निकाल दिया, नमूने बर्बाद किए और मौत एवं संक्रमित लोगों की संख्या छिपाई. उन्होंने कहा कि दरअसल बड़े पैमाने पर पर्दा डाला गया और चीन जिम्मेदार है. बोल्टन ने मांग की, 'दुनिया को उन्हें जिम्मेदार ठहराना चाहिए.'

इस बीच, अमेरिका में घातक कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 26,686 पर पहुंचने के बाद ट्रंप ने अमेरिकी नागरिकों से 'घर पर रहने और जान बचाने का' आह्वान किया है. अमेरिका में एक दिन में संक्रमण के मामलों में 7,000 से अधिक का इजाफा हुआ है. देश में अब तक 340 लोगों की जान जा चुकी है और पिछले 24 घंटे में 80 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है.

राज्य और स्थानीय सरकारों की ओर से घर पर रहने के आदेश जारी करने के साथ ही कैलिफोर्निया, इलिनोइस, न्यूयॉर्क और कनेक्टिकट में 7.5 करोड़ लोगों को पृथक रहने का निर्देश दिया गया है. कनेक्टिकट ने तो यहां तक कहा है कि वह उल्लंघन करने पर लोगों पर जुर्माना लगाएगा. संघीय सरकार की ओर से ऐसी कोई अधिसूचना नहीं जारी की गई है लेकिन ट्रंप ने स्वयं साथी नागरिकों से घरों के भीतर रहने की अपील की है. उन्होंने कहा, 'हम बड़ी जीत हासिल करेंगे. हम जल्द ही बड़ी जीत का जश्न मनाएंगे.' कोरोना वायरस से लड़ने की जंग में शामिल होते हुए अमेरिका के लगभग सभी मंदिरों और गुरुद्वारों ने घोषणा की है कि वहां प्रार्थनाएं नहीं होंगी. पूरे अमेरिका में होने जा रहे भारतीय-अमेरिका समुदाय के कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं.

चीन की तरह अस्थायी अस्पताल बनाने की कोशिश में न्यूयॉर्क
न्यूयॉर्क, 22 अमेरिका (एपी) कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अमेरिका के न्यूयॉर्क राज्य के गवर्नर एंड्रयू कुओमो ने कहा कि उनका प्रशासन अस्थायी अस्पताल बनाने के लिए संभावित स्थानों की तलाश कर रहा है. न्यूयॉर्क में हवाई यातायात नियंत्रण के एक कर्मचारी के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से शहर आने वाली उड़ानों को आंशिक रूप से रोका गया था. न्यूयॉर्क में कोरोना वायरस के 11,000 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है और शनिवार देर रात तक इस बीमारी ने 60 लोगों की जान ले ली. कोलंबिया विश्वविद्यालय के सर्जरी विभाग के प्रमुख ने जल्द ही अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ने को लेकर आगाह किया है.

कुओमो ने कहा कि राज्य के अस्पतालों की क्षमता को मौजूदा करीब 50,000 से बढ़ाकर 75,000 करने का लक्ष्य है. अब तक करीब 16,000 लोगों को अस्पतालों में भर्ती किया गया है. गवर्नर ने कहा कि राज्य उन संभावित स्थानों की तलाश कर रहा है, जहां अस्थायी अस्पताल बनाए जा सकते हैं. इन अस्पतालों का निर्माण 'आर्मी कोर ऑफ इंजीनियरिंग' करेगी. उन्होंने कहा कि जो भी किया जा सकता है, वह सब कुछ किया जा रहा है. कुओमो ने कहा कि राज्य अस्पतालों में मास्कों की आपूर्ति भी कर रहा है. इसके अलावा राज्य को वेंटिलेटर की भी जरूरत है. उन्होंने बताया कि छह हजार वेंटिलेटर खरीद कर अधिक प्रभावित इलाकों में भेजे जा रहे हैं. साथ में यह भी देखा जा रहा है कि क्या एक वेंटिलेटर, कई मरीजों को लगाया जा सकता है?

 

ये भी पढ़ें: 

अमेरिका में शर्मनाक है कोरोना वायरस के संक्रमण की जांच का तौर तरीका

पाकिस्‍तान में कोरोना की दहशत के बीच मुनाफाखोर मस्‍त, दवाओं के दाम बढ़े

 
First published: March 22, 2020, 5:34 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading