ट्रंप का आरोप, 'चीन बौद्धिक संपदा के लिए कर रहा अपने छात्रों का इस्‍तेमाल'

ट्रंप ने आरोप लगाया कि चीन छात्रों और शोधकर्ताओं का इस्तेमाल बौद्धिक संपदा को एकत्रित करने के लिए करता है. फाइल फोटो
ट्रंप ने आरोप लगाया कि चीन छात्रों और शोधकर्ताओं का इस्तेमाल बौद्धिक संपदा को एकत्रित करने के लिए करता है. फाइल फोटो

ट्रंप ने आरोप लगाया कि चीन अपने कुछ छात्रों ज्यादातर परास्नातक और शोधकर्ताओं का इस्तेमाल बौद्धिक संपदा को एकत्रित करने के लिए करता है, इसलिए पीएलए से जुड़े चीनी छात्रों या शोधकर्ताओं के चीनी अधिकारियों के हाथों इस्तेमाल होने का अधिक जोखिम है और यह चिंता का सबब है.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) और चीन (China) में दिन ब दिन तनाव बढ़ता जा रहा है. इसके मद्देनजर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से संबंध रखने वाले चीन के छात्रों और शोधकर्ताओं के देश में प्रवेश पर रोक लगाने की घोषणा की है. उन्होंने अमेरिका से बौद्धिक संपदा और प्रौद्योगिकी हासिल करने के लिए स्नातक छात्रों का इस्तेमाल करने की चीन की कोशिशों को खत्म करने के लिए यह कदम उठाया है. व्यापार, कोरोना वायरस (Corona Virus) की उत्पत्ति, हांगकांग में बीजिंग की कार्रवाई और विवादित दक्षिण चीन सागर में चीन की आक्रामक सैन्य गतिविधियों को लेकर अमेरिका और चीन में बढ़ती तनातनी के बीच ट्रंप ने यह घोषणा की है.

इस संबंध में शुक्रवार को घोषणा करते हुए ट्रंप ने कहा कि चीन ने अपनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के आधुनिकीकरण के लिए संवदेनशील अमेरिकी प्रौद्योगिकियों और बौद्धिक संपदा को हासिल करने के लिए व्यापक अभियान चलाया हुआ है. उन्होंने कहा कि चीन की यह गतिविधि अमेरिका की दीर्घकालीन आर्थिक शक्ति और अमेरिकी लोगों की सुरक्षा के लिए खतरा है.

चीनी छात्रों के चीनी अधिकारियों के हाथों इस्तेमाल होने का खतरा 
ट्रंप ने आरोप लगाया कि चीन अपने कुछ छात्रों ज्यादातर परास्नातक और शोधकर्ताओं का इस्तेमाल बौद्धिक संपदा को एकत्रित करने के लिए करता है, इसलिए पीएलए से जुड़े चीनी छात्रों या शोधकर्ताओं के चीनी अधिकारियों के हाथों इस्तेमाल होने का अधिक जोखिम है और यह चिंता का सबब है. इसे देखते हुए मैंने फैसला किया कि अमेरिका में पढ़ाई या शोध करने के लिए 'एफ' या 'जे' वीजा मांगने वाले कुछ चीनी नागरिकों का प्रवेश अमेरिका के हितों के लिए खतरनाक होगा.' चीन ने अमेरिका में उसके छात्रों पर प्रतिबंध लगाने की ट्रंप की धमकी को शुक्रवार को नस्लवादी बताया था.
ये भी पढ़ें - सऊदी अरब ने मदीना में मौजूद 'पैगंबर की मस्जिद' खोलने की इजाजत दी, कुछ प्रतिबंध लागू



              US : चीनी नागरिकों के प्रवेश पर रोक, हांगकांग के लिए ट्रैवल एडवाइजरी में बदलाव

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज