लाइव टीवी

ट्रंप ने कहा- थका हुआ तालिबान अमेरिका के साथ चाहता है शांति समझौता

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 10:13 AM IST
ट्रंप ने कहा- थका हुआ तालिबान अमेरिका के साथ चाहता है शांति समझौता
तालिबान चाहता है अमेरिका के साथ शांति समझौता (फोटो-AP)

ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मीडिया से कहा कि अमेरिकी बलों की घर वापसी का समय आ गया है. तालिबान (Taliban) युद्ध से थक चुका है और अमेरिका (America) के साथ शांति समझौता करना चाहता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 10:13 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने भारत की अपनी यात्रा के लिए रवाना होने से पहले रविवार को कहा कि अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान युद्ध से थक चुका है और अमेरिका (America) के साथ शांति समझौता करना चाहता है. ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मीडिया से कहा कि अमेरिकी बलों की घर वापसी का समय आ गया है. उन्होंने तालिबान (Taliban) के साथ शांति समझौते से जुड़े प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा, 'हम 19 साल से वहां हैं. हमें लगता है कि वे समझौता करना चाहता है. हम समझौता करना चाहते है. मुझे लगता है कि यह संभव हो जाएगा.'

मोबाइल सेवाएं बहाल की गई
इस बीच, काबुल से मिली खबरों के अनुसार अफगानिस्तान में शनिवार से शुरु हुए एक हफ्ते के आंशिक संघर्ष विराम के बीच तालिबान के कब्जे वाले इलाकों में मोबाइल फोन सेवाएं बहाल हो गईं. हिंसा में कमी के बीच दूरसंचार ऑपरेटरों ने देशभर में नेटवर्क बहाल करने आरंभ कर दिए हैं. अफगानिस्तान के दूरसंचार नियामक प्राधिकरण के उपाध्यक्ष नकीबुल्लाह सैलाब ने कहा, 'करीब 730 सेल टॉवरों को बहाल किया गया हैं.' इस संघर्ष विराम को अफगानिस्तान युद्ध का एक अहम मोड़ माना जा रहा है.

समझौते से लोगों में है खुशी



उधर देश में जारी संघर्ष विराम और जल्द ही अमेरिका और तालिबान के बीच समझौते की बढ़ती संभावना के बीच सालों से युद्ध के कारण कष्ट झेल रहे अफगान नागरिक अब युद्ध खत्म होने के सपने देश रहे हैं. तालिबान, अमेरिका और अफगान सुरक्षा बलों के बीच हिंसा में कमी को लेकर बनी सहमति विद्रोहियों और अमेरिका के बीच संभावित समझौते के पहले हुई है. जिसके बाद अमेरिका अफगानिस्तान से अपने हजारों सैनिकों को वापस बुला सकता है.

बीते एक लंबे अरसे से लोगों ने राजमार्गों पर सुरक्षित सफर नहीं किया है. तालिबान ने उन्हें रोका, मारा, अपहरण किया जिसके कारण वहां के लोग शांति से जीवन तक नहीं रहे थे.

ये भी पढ़ें: शाह महमूद कुरैशी का दावा, 'PAK के बिना US-तालिबान शांति वार्ता असंभव थी'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 10:10 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर