Home /News /world /

किम जोंग और डोनाल्ड ट्रंप की DMZ में हुई तीसरी मुलाकात, उत्तर और द‌क्षिण कोरिया के लिए साबित हो सकता है बड़ा कदम

किम जोंग और डोनाल्ड ट्रंप की DMZ में हुई तीसरी मुलाकात, उत्तर और द‌क्षिण कोरिया के लिए साबित हो सकता है बड़ा कदम

इससे पहले ट्रंप और‌ किम इसी साल फरवरी में मिले थे.

इससे पहले ट्रंप और‌ किम इसी साल फरवरी में मिले थे.

ट्रंप ने कहा, 'देखते हैं क्या होता है. हम कोशिश कर रहे हैं. यह काफी संक्षिप्त होगी लेकिन इसमें कोई हर्ज नहीं है और केवल हाथ मिलाना भी बहुत है.’

    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप रविवार को दोनों कोरयाई देशों को बांटने वाले असैन्यकृत क्षेत्र पहुंच गए हैं. यहां उनकी मुलाकात उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन के साथ बिना पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के हुई.  इस मौके दोनों एक-दूसरे से हाथ मिलाते नजर आए. इतना ही नहीं इस मौके पर नॉर्थ कोरिया के नेता किम जोंग उन की मुलाकात साउथ कोरिया के राष्ट्रपति मून जाई इन से भी हुई. इन दोनों देशों के लिए यह मुलाकात बेहद अहम साबित हो सकता है. मुलाकात में ट्रंप की मौजूदगी को दोनों देशों के बीच शांति की दिशा में एक बड़ा कदम बताया जा रहा है.

    इसके साथ ही डोनाल्ड ट्रंप ऐसे पहले मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति बन गए हैं, जो उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच के असैन्यकृत क्षेत्र (DMZ) में पहुंचे हैं.

    इससे पहले ट्रंप ने रविवार सुबह किए अपने ट्वीट में किम का जिक्र किए बगैर आज डीएमजेड जाने की जानकारी दी है. ट्रंप ने इसके बाद सियोल में व्यापारिक नेताओं से कहा कि वे किम ‘‘मिलना चाहते हैं.’’

    कोरियाई देशों के DMZ में ट्रंप और किम जोंग की मुलाकात.


    किम में मिलने के लिए इतने उत्सुक क्यों हैं ट्रंप, मिलेगी केवल हाथ मिलना चाहते हैं?
    इस बारे में ट्रंप ने कहा, 'देखते हैं क्या होता है. हम कोशिश कर रहे हैं. यह काफी संक्षिप्त होगी लेकिन इसमें कोई हर्ज नहीं है और केवल हाथ मिलाना भी बहुत है.' उल्लेखनीय है कि ट्रंप और किम कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण के मामले पर अभी तक दो बार शिखर वार्ता कर चुके हैं. सबसे पहले वे पिछले साल सिंगापुर में मिले थे और इसके बाद दोनों ने इसी साल फरवरी में हनोई में शिखर वार्ता के लिए मिले थे.



    ट्रंप के इस बर्ताव से चौंक गए लोग
    अमेरिकी राष्ट्रपति के टि्वटर पर इस आमंत्रण ने विश्लेषकों को आश्चर्यचकित कर दिया था. ट्रंप ने ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान टि्वटर पर चौंकाने वाला आमंत्रण देते हुए लिखा था, ‘‘ यदि उत्तर कोरिया के अध्यक्ष इसे देखते हैं तो मैं उनसे महज हाथ मिलाने और ‘हेलो’ कहने के लिए सीमा/डीएमजेड पर मिलूंगा.’’



    क्या है कारण क्यों बस हैलो बोलने के लिए इतनी दूर जा रहे हैं ट्रंप
    ट्रंप ने बाद में कहा कि उन्हें किम के साथ उत्तर कोरिया में प्रवेश करने में भी कोई समस्या नहीं होगी. ट्रंप ने पत्रकारों से कहा था, 'निश्चित तौर पर मैं करूंगा, ऐसा करने में मैं सहज महसूस करूंगा.'



    निमंत्रण पर उत्तर कोरिया की आधिकारिक समाचार एजेंसी ‘केसीएनए’ ने उप विदेश मंत्री चोई सन हुई के हवाले से कहा था, 'हमें लगता है कि यह काफी दिलचस्प सुझाव है लेकिन हमें इस संबंध में कोई आधिकारिक प्रस्ताव नहीं मिला है.'

    यह भी पढ़ेंः ऑस्ट्रेलिया के PM ने ली सेल्फी, कहा- कितने अच्छे हैं मोदी

    इस पर सियोल में ‘सेजोंग इंस्टीट्यूट’ के एक वरिष्ठ शोधकर्ता चेओंग सेओंग-चांग ने कहा कि किम ने ट्रंप का निमंत्रण "व्यावहारिक रूप से स्वीकार कर लिया है.' उन्होंने कहा, 'अगर उन्हें (किम) इसमें रुचि नहीं होती तो वह इस तरह का कोई बयान जारी नहीं करते.'

    Tags: America, Donald Trump, Kim Jong Un, North Korea, United States (US)

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर