अमेरिका: नौकरी के साथ इंग्लिश बोलने वालों को इमीग्रेशन में मिलेगी तरजीह

मौजूदा व्यवस्था के तहत करीब 66 फीसद ग्रीन कार्ड उन लोगों को दिया जाता है जिनके पारिवारिक संबंध हों और सिर्फ 12 फीसद ही योग्यता पर आधारित है

रॉयटर्स
Updated: May 16, 2019, 10:32 AM IST
अमेरिका: नौकरी के साथ इंग्लिश बोलने वालों को इमीग्रेशन में मिलेगी तरजीह
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप
रॉयटर्स
Updated: May 16, 2019, 10:32 AM IST
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप गुरुवार को इमीग्रेशन को लेकर नए नियम कानून ले कर आ रहे हैं. इसके तहत अब उन्हीं लोगों को इमीग्रेशन में तरजीह मिलेगी जिसके पास अमेरिका में जॉब का ऑफर हो और साथ वो इंग्लिश बोलता हो.

हालांकि कहा जा रहा है कि ट्रंप के इस नए इमीग्रेशन प्लान को कांग्रेस से हरी झंडी नहीं मिलेगी. कई दशकों से अमेरिका में इमीग्रेशन परिवार आधारित रहा है. इसके तहत हर साल दो तिहाई ऐसे लोगों को ग्रीन कार्ड दिए जाते हैं जिनका अमेरिका में कोई परिवारिक संबंध रहा हो.



ट्रंप के इस नए नियम लागू होने से हर साल करीब 11 लाख लोगों को इमीग्रेशन दिए जाएंगे. अब हाई स्किल्ड लोगों को ही नौकरी में प्राथमिकता दी जाएगी. मौजूदा व्यवस्था के तहत करीब 66 फीसद ग्रीन कार्ड उन लोगों को दिया जाता है जिनके पारिवारिक संबंध हों और सिर्फ 12 फीसद ही योग्यता पर आधारित है.

ट्रंप की इस नई योजना का गुरुवार दोपहर व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में ऐलान करने का कार्यक्रम है. हालांकि इस योजना को अमलीजामा पहनाना कांग्रेस के विभाजित होने, खासकर इमीग्रेशन सुधार के मुद्दे पर, मुश्किल भरा काम होने वाला है.

राष्ट्रपति अपने रिपल्बिकन सांसदों को इस मुद्दे पर समझाने में सफल हो जाएं तो भी सांसद नैंसी पेलोसी के नेतृत्व वाले डेमोक्रेट और दूसरे नेता इसके धुर विरोध में खड़े हैं.

ये भी पढ़ें:

20 साल में चुराई 100 कार, करा लेता था प्लास्टिक सर्जरीकेदारनाथ की इस गुफा में ध्यान करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार