ट्रंप ने चुनाव सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां देने से किया इनकार, डेमोक्रेट्स भड़के

ट्रंप ने चुनाव सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां देने से किया इनकार, डेमोक्रेट्स भड़के
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

US Elections 2020: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने चुनावों से ठीक पहले चुनाव सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां कैपिटोल हिल के साथ न साझा करने का फैसला किया है. ट्रंप के इस फैसले के खिलाफ डेमोक्रेट्स का आरोप है कि इसके बाद अब जनता ये नहीं जान पाएगी कि अमेरिकी चुनावों में कितना विदेशी दखल हो रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 9:37 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald trump) ने फैसला किया है कि शीर्ष खुफिया अधिकारी का कार्यालय कैपिटोल हिल को व्यक्तिगत तौर पर चुनाव सुरक्षा से जुड़ी जानकारियां अब नहीं देगा. ट्रंप ने राष्ट्रीय खुफिया निदेशक जॉन रैटक्लिफ के इस निर्णय को सही ठहराया है. हालांकि डेमोक्रेट्स का आरोप है कि ट्रंप के इस फैसले के बाद आगामी राष्ट्रपति चुनाव में विदेशी दखल के बारे में जनता को कोई जानकारी नहीं मिल पाएगी.

ट्रंप ने कहा कि प्रशासन कांग्रेस द्वारा चुनाव सुरक्षा संबंधी जानकारियां सार्वजनिक करने की खुफिया सूचनाओं से 'त्रस्त' हो गया था. संवाददाताओं से बातचीत में ट्रंप ने कहा, 'उन्होंने सूचनाएं लीक कीं... सबसे खराब बात यह कि उन्होंने गलत सूचनाएं दीं और हम इससे तंग आ चुके थे.' हालांकि, ट्रंप ने अपनी बात साबित करने के लिए कोई ब्योरा नहीं दिया. नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में कथित हस्तक्षेप की विदेशी कोशिशों के बारे में संसद में व्यक्तिगत रूप से जानकारी देते रहने के लिए ट्रंप प्रशासन को बाध्य करने को लेकर डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता रविवार को जद्दोजहद करते नजर आये.

कांग्रेस को लिखित में देंगे जानकारी
राष्ट्रीय खुफिया निदेशक जॉन रैटक्लिफ ने कहा है कि मतदाताओं को प्रभावित करने के प्रयासों के बारे में प्रशासन जो कुछ जानता है, उसके बारे में अधिकतर जानकारी कांग्रेस को अब लिखित में दी जाएगी. उन्होंने कहा कि पहले इस तरह की जानकारियां सभी सदस्यों को व्यक्तिगत रूप से देने से इन्हें राजनीतिक मकसद से लीक किये जाने के मामले सामने आये हैं. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कैलीफोर्निया से डेमोक्रेटिक जनप्रतिनिधि तथा प्रतिनिधि सभा की खुफिया समिति के अध्यक्ष एडम शिफ ने कहा, 'राष्ट्रपति का एक और झूठ.'
रैटक्लिफ ने कहा कि जिन सांसदों को जानकारियां और गोपनीय सूचनाएं प्राप्त करने का अधिकार हैं, उन्हें सूचना अब भी मिलेगी और प्रमुख रूप से ब्रीफिंग लिखित में होगी. उन्होंने कहा, 'हम प्रतिनिधि सभा और सीनेट के सभी सदस्यों को ब्रीफिंग नहीं देने वाले.' राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि रैटक्लिफ ने यह निर्णय इसलिए लिया क्योंकि प्रशासन कांग्रेस द्वारा चुनाव सुरक्षा संबंधी जानकारियां सार्वजनिक करने की खुफिया सूचनाओं से 'तंग' आ गया था. सीनेटर एंगस किंग ने कहा कि राष्ट्रीय खुफिया निदेशक का कार्यालय अमेरिकी चुनावों के लिए विदेशी खतरों पर कांग्रेस को जानकारी देना बंद करेगा,यह विचार ही एक प्रकार का 'उल्लंघन' है और यह कि लिखित बातें 'स्पष्ट रूप से नाकाफी' हैं.




अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज