कोरोना: न्यूयॉर्क के गवर्नर की चेतावनी- सिर्फ 2 हफ्ते बचे हैं, जांच में सामने आईं ट्रंप सरकार की गलतियां

कोरोना: न्यूयॉर्क के गवर्नर की चेतावनी- सिर्फ 2 हफ्ते बचे हैं, जांच में सामने आईं ट्रंप सरकार की गलतियां
अमेरिका में 4 करोड़ लोग हुए बेरोजगार

गवर्नर क्योमो ने कहा, 'न्यूयार्क शहर में हर ढाई दिन में संक्रमण के मामलों की संख्या दोगुनी होती जा रही है जो सकते में डालने वाला आंकड़ा है. यह सुनामी की तरह है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2020, 5:18 PM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
न्यूयार्क/ वाशिंगटन. न्यूयार्क (New York) के गवर्नर एंड्रयू क्योमो (Andrew Cuomo) ने चेतावनी दी है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) मामलों की सुनामी के कारण अगले दो से तीन सप्ताह में राज्य की स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली चरमरा जाएगी. गौरतलब है कि अमेरिका में कोविड-19 के सर्वाधिक मामले न्यूयॉर्क से सामने आए हैं जहां इस संक्रमण के कारण 157 लोगों की मौत हो चुकी है.

क्योमो ने कहा, 'न्यूयार्क शहर में हर ढाई दिन में संक्रमण के मामलों की संख्या दोगुनी होती जा रही है जो सकते में डालने वाला आंकड़ा है. हमें तेजी से बढ़ते उस वक्राकार ग्राफ को समतल करना होगा, यह वक्र लहर की तरह नहीं बल्कि सुनामी की तरह है. यह लहर दस दिन से लेकर तीन सप्ताह के भीतर हमारी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को चरमरा देगी.' इस बीच, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चिकित्सा आपूर्ति और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों की जमाखोरी को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण आदेश जारी किया है.

जांच में सामने आई बड़ी खामियां
उधर एसोसिएट प्रेस की समीक्षा में पाया गया कि देश की शीर्ष स्वास्थ्य एजेंसी में एक के बाद एक कई गलत कदमों की वजह से कोरोना वायरस के विश्वसनीय प्रयोगशाला परीक्षणों की कमी आई जिससे समूचे अमेरिका में इस महामारी के प्रसार को रोकने के संघीय प्रयासों में मुश्किलों का सामना करना पड़ा. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस महीने के शुरू में अमेरिकी लोगों को आश्वस्त किया था कि रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) द्वारा विकसित कोविड-19 टेस्ट 'बिल्कुल सही' है और 'कोई भी जो जांच करना चाहता है करा सकता है.'



हकीकत यह है कि अमेरिका में इस बीमारी का पहला मामला सामने आने के दो महीने से ज्यादा बीतने के बाद भी कई लोगों की जांच अब भी नहीं हो सकी है. फरवरी के महीने में जब वायरस ने अमेरिकी जनसंख्या में जड़ें जमानी शुरू कर दी थीं तब सीडीसी के आंकड़ों के मुताबिक सरकारी प्रयोगशालाओं ने कोविड-19 के 352 परीक्षण ही किये थे- यानी औसतन रोजाना 12 परीक्षण. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एधोनोम घेब्रेयेसस ने हाल में कहा था, 'आप आंख पर पट्टी बांध कर आग बुझाने का काम नहीं कर सकते. अगर हमें यह नहीं पता कि इस बीमारी से कौन संक्रमित है तो हम इस महामारी को नहीं रोक सकते.' स्वास्थ्य एवं मानव सेवा विभाग के तहत ही सीडीसी आता है और अब विभाग ने अपनी गलतियों के आकलन के लिये आंतरिक समीक्षा शुरू कर दी है.



जटिल टेस्ट और मनमानी ने बिगाड़ी हालत
बाहरी पर्यवेक्षकों और संघीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने हालांकि चार प्राथमिक मुद्दे बताएं हैं जिन्होंने मिलकर राष्ट्रीय प्रक्रिया को बाधित किया- विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अपनाए गए परीक्षण को स्वीकार नहीं करना, सीडीसी द्वारा विकसित और जटिल टेस्ट की कमियां, किसका परीक्षण किया जा सकता है इसे सीमित करने वाले सरकारी दिशानिर्देश और जांच की सुविधा को बढ़ाने के लिये निजी क्षेत्र को इसमें जोड़ने में हुई देरी.

हॉवर्ड के ग्लोबल हेल्थ इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ. आशीष के झा ने एपी को बताया, 'कई मौके थे, जिनकी वजह से आज की स्थिति से बच सकते थे. असल में उन्होंने इसे सामान्य तौर पर लिया … और ऐसा इसलिये हुआ क्योंकि व्हाइट हाउस से संदेश था कि यह कोई बड़ी बात नहीं है, यह फ्लू से बुरा नहीं है. इस संदेश ने वास्तव में एफडीए और सीडीसी के अंदर ऐसा माहौल बनाया कि इसके इलाज में अत्यावश्यक जैसी कोई चीज नहीं है.' निजी प्रयोगशालाओं को भी दो हफ्ते पहले ही सरकारी नियामकों से मंजूरी मिली है.

एक दिन में सामने आए 10 हज़ार से ज्यादा केस
अमेरिका में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 10,000 से अधिक मामले सामने आए हैं, जिसके बाद कोविड—19 से पीड़ित मरीजों की संख्या 43,700 तक पहुंच गयी. इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने चिकित्सा आपूर्ति और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों की जमाखोरी को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण आदेश जारी किया है. अमेरिका में पहली बार कोरोना वायरस के कारण एक दिन में 130 से अधिक लोगों की मौत हो गयी और सोमवार की रात तक मृतकों की संख्या बढ़कर 550 तक पहुंच गयी. ट्रम्प ने एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करते हुए चेतावनी दी कि उनकी सरकार महत्वपूर्ण मेडिकल और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के साथ-साथ सेनेटाइजर तथा मास्क आदि की जमाखोरी और कीमतें बढ़ा कर बेचे जाने पर सख्त कार्रवाई करेगी.

 

ये भी पढ़ें:

मॉस्को में 65 साल से ऊपर होंगे घरों में कैद, 67 साल के पुतिन नियम से बाहर
व्हाइट हाउस के कोरोना वायरस एक्सपर्ट गायब, ट्रंप से हुआ था मतभेद
कोरोना वायरस से बचने के लिए ट्रंप की ‘सलाह’ मानकर मर गया एक शख्स!
कोरोना वायरस: साउथ कोरिया से सीख सकते हैं, संक्रमण पर कैसे पाया जाता है काबू
कोरोना वायरस एक्सपर्ट से बुखार का नाम सुनते ही ट्रंप के छूटे पसीने!
First published: March 24, 2020, 5:17 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading