लाइव टीवी

तुर्की के सीरिया पर हमले के बाद हजारों ने छोड़ा घर, एर्दोआन ने किया 100 से ज्‍यादा आतंकी ढेर करने का दावा

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 10:05 AM IST
तुर्की के सीरिया पर हमले के बाद हजारों ने छोड़ा घर, एर्दोआन ने किया 100 से ज्‍यादा आतंकी ढेर करने का दावा
तुर्की समर्थित सीरियाई विद्रोहियों ने कुर्दों के कब्‍जे वाले पूर्वोत्तर सीरिया में 9 अक्टूबर को सैन्य कार्रवाई की.

ब्रिटेन से संचालित संगठन (British Organisation) सीरियन ऑब्ज़र्वटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने बताया कि रास-अल अयिन, ताल अब्याद और देरबशिया से सबसे ज्‍यादा लोगों ने घर छोड़ा (Displaced) है. संगठन ने कहा कि सीरिया-तुर्की सीमा (Syria-Turkey Border) के पांच किलोमीटर के दायरे में रहने वाले 4,50,000 लोगों की सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं दी गई और सभी पक्षों ने संयम नहीं बरता तो इन लोगों को सबसे ज्‍यादा खतरा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 10:05 AM IST
  • Share this:
दमिश्‍क. तुर्की (Turkey) ने उत्‍तर सीरिया (North Syria) में कुर्द विद्रोहियों के खिलाफ जंग छेड़ दी है. इस कार्रवाई के 24 घंटे में सीरिया के 50 हजार से ज्‍यादा लोग अपने-अपने घर छोड़कर दूसरी जगहों पर चले गए हैं. युद्ध की निगरानी कर रहे ब्रिटेन से संचालित संगठन (British Organisation) सीरियन ऑब्ज़र्वटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने बृहस्‍पतिवार को बताया कि अधिकतर लोग पूर्वी हसाकेह शहर की ओर बढ़ रहे हैं. वहीं, तुर्की के राष्‍ट्रपति आरटी एर्दोआन (Recep Tayyip Erdogan) ने दावा किया है कि सीरिया में की गई सैन्‍य कार्रवाई में 100 से ज्‍यादा कुर्द आतंकियों (Kurd Terrorist) को ढेर कर दिया गया है.

सीरियाई सीमा के अंदर बफर क्षेत्र बनाना चाहता है तुर्की
ह्यूमन राइट्स संगठन के प्रमुख रामी अब्देल रहमान ने बताया कि रास-अल अयिन, ताल अब्याद और देरबशिया से सबसे ज्‍यादा लोगों ने घर छोड़ा (Displaced) है. बता दें कि अंतरराष्ट्रीय चेतावनी के बावजूद तुर्की समर्थित सीरियाई विद्रोहियों ने कुर्दों के कब्‍जे वाले (Kurdish Controlled) पूर्वोत्तर सीरिया में 9 अक्टूबर को सैन्य कार्रवाई की. शुरुआत में हवाई हमले (Aerial Attacks) और गोलाबारी (Bombing) के बाद लड़ाकों ने इलाके के अहम सीमावर्ती इलाकों में कार्रवाई की. अंकारा 2011 में सीरिया में शुरू हुए गृहयुद्ध के बाद उसकी सीमा में आए 36 लाख शरणार्थियों को वापस भेजने के लिए सीरियाई सीमा के 30 किमी अंदर एक बफर क्षेत्र बनाना चाहता है.

14 मानवाधिकार संगठनों ने दी गंभीर परिणामों की चेतावनी

सीरियन ऑब्ज़र्वटरी ने चेतावनी दी है कि आठ साल से चल रहे संघर्ष के बीच इस हमले से नागरिकों के लिए हालात पहले से ज्‍यादा घातक बन सकते हैं. सीरिया-तुर्की सीमा के पांच किलोमीटर के दायरे में 4,50,000 लोग रहे हैं. अगर सभी पक्षों ने संयम नहीं बरता और नागरिकों की सुरक्षा को प्राथमिकता नहीं दी गई तो यहां रहने वाले लोगों को सबसे ज्‍यादा खतरा है. इस बयान पर 14 मानवाधिकार संगठनों (Human Rights Organisations) ने हस्ताक्षर किए हैं. इन संगठनों ने चेतावनी दी है कि ऐसे लोगों की बड़ी संख्या होगी, जिनको सहायता नहीं पहुंचाई जा सकेगी.

तुर्की ने शरणार्थियों को यूरोप की ओर मोड़ने की दी धमकी
इस बीच राष्ट्रपति एर्दोआन ने दावा किया कि सीरिया में एक दिन पहले अंकारा की कार्रवाई में 109 आतंकवादी मारे गए. उन्होंने यूरोपीय संघ को अंकारा की सीरिया में कार्रवाई को घुसपैठ नहीं बताने की चेतावनी दी. साथ ही सीरियाई शरणार्थियों की बाढ़ यूरोप की ओर मोड़ने की धमकी दोहराई. एर्दोआन ने सत्तारूढ़ पार्टी के पदाधिकारियों से 10 अक्टूबर को कहा कि तुर्की सीरिया सीमा से लगते इलाके को आतंकी राज्य बनने से रोकना चाहता है. तुर्की समर्थित सीरियाई विद्रोहियों के प्रवक्ता मेजर युसूफ हम्मउद ने ट्वीट किया कि वे तेल अब्याद शहर के नजदीक यबिसा में हैं. उन्‍होंने कहा कि आजादी हासिल करने वाला यह पहला गांव है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

पाकिस्‍तानी सेना ने राफेल विमान पूजन मामले में राजनाथ सिंह का किया बचाव

शी जिनपिंग के दौरे से पहले चीन ने भारत के लिए कही बड़ी बात

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 10:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...