Home /News /world /

पराग अग्रवाल के CEO बनते ही चीन पर बड़ी 'एयरस्ट्राइक', सरकारी प्रोपेगेंडा फैलाने वाले हजारों अकाउंट हुए बंद

पराग अग्रवाल के CEO बनते ही चीन पर बड़ी 'एयरस्ट्राइक', सरकारी प्रोपेगेंडा फैलाने वाले हजारों अकाउंट हुए बंद

एक बयान में यह कहा गया कि उसने करीब छह देशों से सैकड़ों ट्विटर खाते हटा दिए हैं (फाइल फोटो)

एक बयान में यह कहा गया कि उसने करीब छह देशों से सैकड़ों ट्विटर खाते हटा दिए हैं (फाइल फोटो)

Twitter Removes China Propaganda Accounts: ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (एएसपीआई) के अनुसार, ट्विटर द्वारा बंद किए गए 2,160 खातों की शर्मनाक सामग्री उत्पादित की जाती थी. ट्विटर ने बताया कि बंद किए गए 97 प्रतिशत खाते में फॉलोअर्स की संख्या पांच से भी कम थी और 73 फीसदी खातों में एक भी फॉलोअर्स नहीं थे. इसके अलावा 98 प्रतिशथ ट्वीट पर किसी भी तरह का कोई लाइक या फिर रिट्वीट नहीं था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: ट्वीटर ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए चीन (China) के हजारों ऐसे ट्विटर अकाउंट को बंद कर दिया है जो किसी न किसी तरह से सरकारी प्रोपेगेंडा (Propaganda) और मानवाधिकारों के हनन से संबंधित एक्टीविटी हो रही थी. ट्विटर (Twitter New CEO) की तरफ से यह कदम ऐसे समय पर उठाया गया जब हाल में इसकी बागडोर एक भारतीय अमेरिकी पराग अग्रवाल (Twitter CEO Parag Agrawal) के हाथों में पहुंची है. एक रिपोर्ट के अनुसार ट्विटर ने सिर्फ चीन (Twitter) ही नहीं बल्कि करीब छह देशों के खिलाफ ऐसा कदम उठाया है, लेकिन सबसे ज्यादा अकाउंट चीन में ही बंद हुए हैं.

    माइक्रोब्लागिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर (Microblogging Platform Twitter) ने गुरुवार को इस बात की जानकारी दी कि उसने ऐसे करीब 3400 से अधिक अकाउंट को बंद कर दिया है जो कि सरकार के समर्थन में पोस्ट करते हैं. इनमें से सबसे अधिक खाते चीन (China Twitter Ban) के है. एक बयान में यह कहा गया कि उसने करीब छह देशों से सैकड़ों ट्विटर खाते हटा दिए हैं लेकिन इसमें से अधिकांश उस नेटवर्क का हिस्सा थे जो कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के फेवर में पोस्ट कर रहे थे जो कि झिंजियांग क्षेत्र के उइगरों के मुस्लिम अल्पसंख्यक के संबंधित थे.

    एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रत्येक नेटवर्क से 30,000 से अधिक ऐसे ट्वीट्स की पहचान की गई थी, जो हैशटैग #StopXinjiangRumours के साथ पोस्ट किए गए थे. ये सभी ट्वीट या तो शी जिनपिंग की बढ़ाई कर रहे थे या फिर इनमें से कई में विदेशी राजनेताओं को लक्षित किया गया था.

    यह भी पढ़ें- पंजाब के कीरतपुर में बुरी फंसी कंगना, किसानों ने रोका काफिला, मांफी मांगने के बाद जाने दिया

    ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटेजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (एएसपीआई) के अनुसार, ट्विटर द्वारा बंद किए गए 2,160 खातों की शर्मनाक सामग्री उत्पादित की जाती थी. ट्विटर ने बताया कि बंद किए गए 97 प्रतिशत खाते में फॉलोअर्स की संख्या पांच से भी कम थी और 73 फीसदी खातों में एक भी फॉलोअर्स नहीं थे. इसके अलावा 98 प्रतिशत ट्वीट पर किसी भी तरह का कोई लाइक या फिर रिट्वीट नहीं था. इसके अतिरिक्त खातों को अक्सर चीनी राजनयिकों और अधिकारियों द्वारा बढ़ावा दिया जाता था.

    यहां सबसे ज्यादा ध्यान देने की बात यह है कि ट्विटर की तरफ से यह कदम उठाने के एक दिन बाद ही मेटा ने खुलासा किया कि उसने 600 से अधिक चीनी खातों और ग्रुप्स को “इंटरनेट पर COVID-19- से संबंधित भ्रामक खबर फैलाने के लिए हटा दिया गया है. मेटा के सुरक्षा नीति के प्रमुख, नथानिएल ग्लीचर ने समन्वित अप्रमाणिक व्यवहार पर अपनी पहली रिपोर्ट का पेश की और कहा कि कंपनी ने चीन, यूरोपीय देशों, फिलिस्तीन में कई खातों को हटा दिया है.

    Tags: China, Parag Agrawal, Twitter, Twitter Account

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर