लाइव टीवी

पाकिस्तान के इन दो शहरों में लड़कियों के लिए अनिवार्य नहीं रहा बुर्का पहनना, रद्द हुआ आदेश

News18Hindi
Updated: September 18, 2019, 1:28 PM IST
पाकिस्तान के इन दो शहरों में लड़कियों के लिए अनिवार्य नहीं रहा बुर्का पहनना, रद्द हुआ आदेश
जिला शिक्षा अधिकारियों ने खैबर पख्तूनख्वा (Khyber Pakhtunkhwa) प्रांत की राजधानी पेशावर (Peshawar) और हरिपुर (Haripur) में छात्राओं के बुर्का पहनकर स्‍कूल आने को अनिवार्य कर दिया था.

खैबर पख्तूनख्वा (Khyber Pakhtunkhwa) प्रांत के शिक्षा विभाग के अधिकारियों के फैसले का पूरे पाकिस्‍तान (Pakistan) में विरोध हुआ. फैसले में कहा गया था कि लड़कियों को अनैतिक घटनाओं से बचने के लिए खुद को पूरी तरह से ढक कर रहना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2019, 1:28 PM IST
  • Share this:
पेशावर. पाकिस्तान (Pakistan) के दो पश्चिमोत्तर शहरों में छात्राओं के लिए बुर्का (Burqa) पहनकर स्‍कूल आना अनिवार्य नहीं है. दरअसल, जबरदस्‍त विरोध के बाद शिक्षा विभाग (Education Department) के अधिकारियों ने पहले जारी किया गया बुर्का पहनकर स्‍कूल आने की अनिवार्यता का आदेश रद्द कर दिया है. जिला शिक्षा अधिकारियों ने खैबर पख्तूनख्वा (Khyber Pakhtunkhwa) प्रांत की राजधानी पेशावर (Peshawar) और हरिपुर (Haripur) में पिछले सप्ताह एक आदेश जारी किया था. इसमें कहा गया था कि लड़कियों को किसी भी प्रकार की अनैतिक दुर्घटना से बचने के लिए खुद को पूरी तरह ढक कर आना होगा.

महिला अधिकार कार्यकर्ताओं ने फैसले को महिलाओं पर नया प्रतिबंध बताया था
बुर्का पहनकर स्‍कूल आने की अनिवार्यता के फैसले की पूरे पाकिस्‍तान में कड़ी निंदा हुई. सोशल मीडिया यूजर्स और महिला अधिकार कार्यकर्ताओं (Women Rights Activists) ने इसे पुरुष प्रधान देश में महिलाओं के अधिकारों पर एक नया प्रतिबंध करार दिया था. इसके बाद शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने मंगलवार को जारी नए आदेश में कहा कि पिछले निर्देशों को वापस लिया जा रहा है. छात्राओं के लिए बुर्का पहनकर स्‍कूल आने की अनिवार्यता खत्‍म कर दी गई है.

जमात-ए-इस्लामी पार्टी का फैसले को समर्थन, पूरे प्रांत में लागू करने की मांग की

पाकिस्तान की महिला अधिकार कार्यकर्ता ताहिरा अब्दुल्ला ने कहा कि दुनिया अपने बच्चों की शिक्षा (Education), सुरक्षा (Security) और विकास (Development) के साथ आगे बढ़ रही है. वहीं, पाकिस्तान ऐसे आदेशों के कारण निश्चित तौर पर पीछे की ओर जा रहा है. हालांकि, क्षेत्र में कुछ लोगों ने इस अनिवार्यता का समर्थन भी किया था. एक प्रांतीय विधायक सिराजुद्दीन खान ने चेतावनी दी, 'उनकी कट्टरपंथी पार्टी जमात-ए-इस्लामी (Jamaat-e-Islami) फैसला रद्द करने का विरोध करेगी. साथ ही सरकार पर दबाव बनाएगी कि वह पूरे प्रांत में बुर्का पहनकर स्‍कूल आना अनिवार्य करे.

ये भी पढ़ें:

ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी ने 'Woman' का मतलब बताया 'Bitch', लोगों ने की अपमानजनक शब्‍द हटाने की मांग
Loading...

पाकिस्तान को अब चीन ने भी दिया झटका, मोदी-जिनपिंग की मुलाकात में कश्मीर नहीं होगा अहम मुद्दा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 1:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...