इजरायल और खाड़ी देशों के बीच संबंध सुधारने के लिए डोनाल्ड ट्रंप के दामाद पहुंचे यूएई

इजरायल और खाड़ी देशों के बीच संबंध सुधारने के लिए डोनाल्ड ट्रंप के दामाद पहुंचे यूएई
आबूधाबी में यूएई और इजरायल के बीच संबंध सुधारने के लिए डोनाल्ड ट्रंप के दामाद भी पहुंचे.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) के शीर्ष सहयोगियों ने सोमवार को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के लिए उड़ान भरी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 5:45 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) और इजरायल के प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू (Benjamin Netanyahu) के शीर्ष सहयोगियों ने सोमवार को संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के लिए उड़ान भरी. यह यात्रा खाड़ी शक्तियों और इजरायल के बीच संबंध स्थापित करने से जुड़े समझौते को आखिरी रूप देने के लिए की गई है. अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख प्रतिनिधि ट्रम्प के वरिष्ठ सलाहकार और दामाद जेयर्ड कुशनर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ'ब्रायन हैं. इजरायली टीम का नेतृत्व मीर बेन-शब्बात कर रहे हैं.

आबू धाबी में होगी चर्चा

अबू धाबी में चर्चा शुरू होने से पहले ही इन प्रतिनिधियों द्वारा कमर्शियल एयरलाइनर से तेल अवीव से सीधे यूएई की राजधानी सऊदी क्षेत्र तक उड़ान भरकर विमान से जुड़ा इतिहास बनाया जाएगा. नेतन्याहू ने इस यात्रा को लेकर एक ट्वीट किया जिसमें लिखा था कि शांति शांति की तरह ही दिखती है. नेतन्याहू ने इस डील को एक अरब देश के साथ औपचारिक गठबंधन बताया है जिसमें 1967 के युद्ध में इजरायल द्वारा कब्जा कर ली गई जमीन को वापस लौटाने को लेकर कोई बात नहीं जुडी है. यह सौदा एक अरब देश और इजरायल के बीच 20 से अधिक वर्षों में पहला समझौता है. इस समझौते को करने दिखाई जा रही जल्दी की वजह ईरान का भय है.



इस समझौते से फिलिस्तीन को हुई निराशा
फिलिस्तीनियों को यूएई के इस कदम से निराशा हुई है. वह इस बात से चिंतित है यह समझौटा लम्बे समय से चल रहे पैन-अरब स्थिति को कमजोर कर देगा जो इजरायल के कब्जे वाले क्षेत्र से इजरायल की वापसी और अरब देशों के साथ सामान्य संबंधों के बदले फिलिस्तीनी राज्य की स्वीकृति की मांग कर रहा है. इस प्रतिनिधिमंडल ने विमान बोइंग 737 में तेल अवीव के बेन-गुरियन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से अबू धाबी के लिए उड़ान भरी. यह उड़ान लगभग 3 घंटे 20 मिनट की थी. इस विमान के कॉकपिट विंडो के ऊपर अरबी, अंग्रेजी और हिब्रू में "शांति" शब्द छपा हुआ था.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान में बाढ़ का कहर, इमरान की पार्टी के नेता ने कहा-कोई सुनवाई नहीं हो रही 

प्रदर्शनकारियों ने कनाडा के प्रथम प्रधानमंत्री की प्रतिमा गिराई, पुलिस फंड बंद करने की मांग की 

ताइवान में पतंग के साथ हवा में उड़ती रही तीन साल की बच्ची, आई मामूली खरोंच

अमरीकी प्रतिनिधि मंडल के अध्यक्ष कुशनर ने बेन-गुरियन हवाई अड्डे पर संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि मैंने कल प्रार्थना की है कि दुनिया भर के मुसलमान और अरब इस फ्लाइट को देख रहे हैं और यह मान रहे हैं कि हम सभी ईश्वर की संतान हैं और भविष्य को गुजर चुकी घटनाओं के आधार पर तय नहीं किया जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज