ब्रिटेन सरकार ने मासिक धर्म उत्पादों पर लगने वाला 'टैम्पोन टैक्स' को किया खत्म

ब्रिटेन सरकार ने मासिक धर्म उत्पाद से टैक्स हटा दिया है. (सांकेतिक तस्वीर)

ब्रिटेन सरकार ने मासिक धर्म उत्पाद से टैक्स हटा दिया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Britain Government Abolished Tampon Tax: ब्रिटेन ने मासिक धर्म उत्पादों 'टैम्पोन टैक्स' (Tampon Tax) को समाप्त कर दिया है. ब्रिटेन ने मासिक धर्म उत्पादों (Mensural Products) पर लगने वाले 5 प्रतिशत वैट (VAT) को खत्म कर दिया है. इसे टैम्पोन टैक्स के रूप में जाना जाता है. इसका मतलब है कि अब ब्रिटेन में 1 जनवरी 2021 से मासिक धर्म उत्पादों पर पर वैट नहीं लगेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 3, 2021, 12:27 PM IST
  • Share this:

लंदन. ब्रिटेन ने मासिक धर्म उत्पादों 'टैम्पोन टैक्स' (Tampon Tax) को समाप्त कर दिया है. ब्रिटेन ने मासिक धर्म उत्पादों (Mensural Products) पर लगने वाले 5 प्रतिशत वैट (VAT) को खत्म कर दिया है. इसे टैम्पोन टैक्स के रूप में जाना जाता है. इसका मतलब है कि अब ब्रिटेन में 1 जनवरी 2021 से मासिक धर्म उत्पादों पर पर वैट नहीं लगेगा. 1 जनवरी 2021 से महिलाओं के सैनिटरी उत्पादों पर वैट लागू नहीं होगा. यह कदम उस व्यापक सरकारी कार्रवाई का एक हिस्सा है जिसके अंतर्गत जिसमें स्कूलों, कॉलेजों और अस्पतालों में मुफ्त सैनिटरी उत्पादों का वितरण शामिल है. इस कदम से महिलाओं को मासिक धर्म संबंधित उत्पाद आसानी से प्राप्त हो पाएंगे और उनकी समस्याएं कम होंगी. इस स्थिति को पीरियड पॉवर्टी (Period Poverty) को कम या समाप्त करना कहा जाता है.

'सैनेटरी उत्पाद पर हम वैट की वसूली ना करें'

ब्रिटेन सरकार ने एक बयान में कहा कि संक्रमण काल के समाप्त होने तक यह कदम उठाया जा सकता है. इसके साथ सैनेटरी उत्पादों पर वैट को अनिवार्य करने के यूरोपीय संघ के कानून से मुक्ति मिलेगी. सरकार ने बयान में यह भी कहा है कि टैम्पोन टैक्स को समाप्त करने और सैनिटरी उत्पादों को सस्ता करने और सभी महिलाओं के लिए उपलब्ध कराने की सरकार की व्यापक रणनीति और प्रतिबद्धता को दर्शाता है. चांसलर ऋषि सुनक ने टैम्पोन टैक्स समाप्त करने के वाडे को पूरा करने पर गर्व करते हुए कहा कि सैनिटरी उत्पाद अनिवार्य हैं और उसके लिए जरूरी है कि हम VAT की वसूली न करें.

सैनेटरी उत्पादों पर न्यूनतम 5 फीसदी लग रहा था टैक्स
चांसलर ऋषि सुनक ने यह भी कहा कि मार्च 2020 के बजट में 1 जनवरी 2021 से टैम्पोन कर को समाप्त किया जाना तय किया गया था क्योंकि ट्रांजीशन पीरियड 31 दिसंबर को खत्म हो रहा है जिसका अर्थ यह है कि ब्रिटेन अब यूरोपीय संघ के वैट निर्देश को मानने के लिए बाध्य नहीं है जिसमें सभी सैनेटरी उत्पादों पर न्यूनतम 5% कर अनिवार्य है.

ये भी पढ़ें: अमेरिका: कोविड-19 का प्रकोप बढ़ा, कब्रिस्तानों में शवों के लिए नहीं बची जगह




जाकिर नाइक ने पाकिस्तान में हिंदू मंदिर तोड़े जाने का किया समर्थन, ये कहा...

नवंबर 2020 में स्कॉटलैंड सार्वजनिक सुविधाओं में टैम्पोन और पैड सहित मासिक धर्म उत्पादों को आम जनता के लिए मुफ्त करने वाला दुनिया का पहला देश बना था. विश्व स्तर पर कुछ मुट्ठी भर देशों में ही सैनिटरी उत्पादों पर कोई कर नहीं लगाया जाता है जिसमें कनाडा, भारत, ऑस्ट्रेलिया, केन्या और कई अमेरिकी राज्य शामिल हैं. जर्मनी ने भी स्त्री स्वच्छता उत्पादों पर टैक्स को कम किया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज