रेप करने वालों के खिलाफ बना कड़ा कानून, जबरन लगाए जाएंगे नपुंसक बनाने वाले इंजेक्शन

बच्चों से रेप की सजा पाने वाले दोषियों को हर साल ऐसा इंजेक्शन लगाया जाएगा. यह इंजेक्शन केवल 16 से 65 साल के दोषियों को लगाया जाना है.

News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 4:22 PM IST
रेप करने वालों के खिलाफ बना कड़ा कानून, जबरन लगाए जाएंगे नपुंसक बनाने वाले इंजेक्शन
यूक्रेन में बाल यौन शोषण के दोषियों को अब नपुंसकता का इंजेक्शन लगाया जाएगा (सांकेतिक फोटो)
News18Hindi
Updated: July 14, 2019, 4:22 PM IST
यूक्रेन में एक कानून बनाया गया है जिसके अनुसार अगर कोई व्यक्ति बच्चों से रेप के मामले में दोषी पाया जाता है तो उसे जबरन नपुंसक बनाने वाले इंजेक्शन लगाए जाएंगे. इंजेक्शन लगाकर नपुंसक बनाने की इस प्रक्रिया को कैमिकल कैस्ट्रैक्शन कहते हैं. कानून अगर वहां की संसद में पास हो जाता है तो अब से यूक्रेन में बच्चों से रेप की सजा पाने वाले दोषियों को हर साल ऐसा इंजेक्शन लगाया जाएगा. यह इंजेक्शन केवल 16 से 65 साल के दोषियों को लगाए जाने का प्रस्ताव है.

अगर यह कानून पास हो जाता है तो यूक्रेन की जेलों में बंद ऐसे हजारों दोषियों को यह इंजेक्शन लगाए जा सकते हैं. इस कानून में रेप ही नहीं बल्कि यौन शोषण के आरोपियों को भी ऐसे इंजेक्शन लगाए जाने का प्रस्ताव है. अमेरिका के कुछ राज्य भी पहले ऐसा कानून बना चुके हैं. बता दें कि अमेरिका के हर राज्य को अपने लिए अलग-अलग कानून बनाने का अधिकार है. हाल ही में अमेरिका के अलबामा राज्य ने ऐसा कानून बनाया था.



यूक्रेन में बढ़ रहे बाल यौन शोषण के मामले
मीडिया में सामने आई कानून की जानकारियों के मुताबिक ऐसे इंजेक्शन लगाने के बाद दोषियों में सेक्स की क्षमता घटने लगती है. यूक्रेन के आधिकारिक मामले के मुताबिक सिर्फ 2017 में देशभर में बच्चों के साथ रेप के 320 मामले सामने आए थे. हालांकि कुल यौन शोषण के मामले इस देश में हजारों में थे. इसी हफ्ते यूक्रेन की पुलिस ने यह भी कहा था कि एक ही दिन के भीतर बच्चों के साथ रेप के पांच मामले सामने आए थे. हालांकि इन मामलों में तमाम डर के बावजूद पेरेंट्स ने घटना की रिपोर्ट की थी.

रेप की सजा भी बढ़ाई गई
नये कानून में बच्चों के साथ सेक्स क्राइम करने वाले लोगों के लिए एक रजिस्टर बनाने का फैसला किया है. इनमें सभी दोषियों की डीटेल्स को सेफ रखा जाएगा. सिर्फ इतना ही नहीं यूक्रेन की पुलिस इन मामलों में सजा काट चुके लोगों पर पूरी जिंदगी नज़र रखेगी. कानून में बच्चों के साथ रेप के मामलों में अधिकतम सजा 12 साल से बढ़ाकर 15 साल कर दी गई है.

बंद हो जाता है टेस्टस्टिरोन हार्मोन का बनना
Loading...

यह केमिकल इंजेक्शन, टेस्टस्टिरोन बनने बंद हो जाता है. जिससे जिस व्यक्ति को यह इंजेक्शन दिए जा रहे होते हैं, उसकी सेक्स क्षमता घटती जाती है. हालांकि यह भी देखा गया है कि ट्रीटमेंट बंद होने के बाद इसका असर घटने लगता है और इंसान फिर से अपनी सेक्स क्षमता वापस भी कर सकता है.

यह भी पढ़ें: टीचर 13 साल के छात्र के साथ बनाती थी संबंध, एप से हुआ खुलासा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...