लाइव टीवी

UN प्रमुख एंतोनियो गुतोरस ने म्यांमार से रोहिंग्या की ‘सुरक्षित’ वापसी का किया आग्रह

भाषा
Updated: November 3, 2019, 4:55 PM IST
UN प्रमुख एंतोनियो गुतोरस ने म्यांमार से रोहिंग्या की ‘सुरक्षित’ वापसी का किया आग्रह
संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस

बैंकॉक (Bangkok) में दक्षिण पूर्व एशियाई नेताओं के एक शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए एंतोनियो गुतारेस (António Guterres) ने कहा कि वह रोहिंग्याओं (Rohingya) की दुर्दशा पर बहुत चिंतित हैं.

  • Share this:
बैंकॉक. संयुक्त राष्ट्र (UN) प्रमुख एंतोनियो गुतारेस (António Guterres) ने म्यांमार (Myanmar) से सैन्य अभियानों में निकाले गए रोहिंग्या शरणार्थियों (Rohingya people) की ‘सुरक्षित’ वापसी सुनिश्चित करने का रविवार को आग्रह किया. रोहिंग्या समुदाय के खिलाफ चलाए गए अभियान के दो साल से ज्यादा समय बाद वहां की नेता आंग सान सू की के सामने ये अनुरोध किया गया.

बैंकॉक में दक्षिण पूर्व एशियाई नेताओं के एक शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए एंतोनियो गुतारेस (António Guterres) ने कहा कि वह रोहिंग्याओं की दुर्दशा पर बहुत चिंतित हैं. उनके संबोधन के दौरान म्यांमार की नेता सू की, भी वहां मौजूद थीं.

40 हजार रोहिंग्या बांग्लादेश में पनाह
वर्ष 2017 में रखाइन प्रांत में हिंसा के कारण सात लाख 40 हजार रोहिंग्या को देश छोड़कर पड़ोस के बांग्लादेश में शरणार्थी कैंपों में पनाह लेनी पड़ी. संयुक्त राष्ट्र के जांच अधिकारियों ने रोहिंग्या के खिलाफ सेना के अभियान को नरसंहार बताया था. म्यामां रोहिंग्या को अपना नागरिक नहीं मानता है.

शरणार्थियों के लिए बनाया जाए सुरक्षित माहौल
गुतारेस ने कहा कि म्यांमार की जिम्मेदारी है कि वह शरणार्थियों की सुरक्षित, गरिमापूर्ण और स्थायी वापसी के लिए अनुकूल माहौल बनाए. संयुक्त राष्ट्र और मानवाधिकार समूहों, वैश्विक नेताओं के लगातार अनुरोधों के बावजूद रोहिंग्या के प्रति म्यामां का रूख नहीं बदल रहा है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 4:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...