Home /News /world /

संयुक्त राष्ट्र की अदालत में अजरबैजान ने आर्मेनिया पर लगाया हत्या का आरोप, जानिए पूरा मामला

संयुक्त राष्ट्र की अदालत में अजरबैजान ने आर्मेनिया पर लगाया हत्या का आरोप, जानिए पूरा मामला

संयुक्त राष्ट्र की अदालत में अजरबैजान ने आर्मेनिया पर साधा निशाना. (फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र की अदालत में अजरबैजान ने आर्मेनिया पर साधा निशाना. (फाइल फोटो)

UN Court Azerbaijan vs Armenia: अजरबैजान ने संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत के न्यायाधीश से अनुरोध किया है कि वह आर्मेनिया को बारूदी सुरंगे बिछाना बंद करने का निर्देश दे.

  • ए पी
  • Last Updated :

    द हेग. अजरबैजान के विदेश उपमंत्री ने आर्मेनिया पर जातीय आधारित हत्याएं और छह सप्ताह लंबे युद्ध के बाद पिछले साल के अंत में संघर्षविराम समझौता होने के बावजूद नागोर्नो-काराबाख इलाके में बारूदी सुरंगे बिछाना जारी रखने का आरोप लगाया. संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अदालत में युद्ध से जुड़े दूसरे मामले की सुनवाई शुरू होने के दौरान यह आरोप लगाया गया.

    अदालत ने पिछले सप्ताह अजरबैजान के खिलाफ आर्मेनिया की शिकायत पर सुनवाई की थी. वह मामला भी पिछले साल की युद्ध से जुड़ा हुआ था जिसमें 6,600 से ज्यादा लोग मारे गए थे. एल्नुर मम्मादोव ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस को बताया कि ‘‘अजरबैजान के लोगों के खिलाफ जातीय आधार पर हत्याएं और हिंसा भड़काने का अभियान जारी है.’’

    अजरबैजान ने ICJ के जज से किया ये अनुरोध
    अजरबैजान ने विश्व अदालत के न्यायाधीश से अनुरोध किया है कि वह आर्मेनिया को बारूदी सुरंगे बिछाना बंद करने, अजरबैजान को बारूदी सुरंगों का नक्शा मुहैया कराने का निर्देश दे ताकि उन्हें सुरक्षित तरीके से हटाया जा सके और आर्मेनिया समूहों को जातीय घृणा भड़काने से रोकने तथा अजरबैजान के लोगों के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए कदम उठाएं.

    COVID-19: कैसे मुंबई ने 18 महीने की लंबी जंग के बाद हासिल किया ज़ीरो कोरोना डेथ का मुकाम

    अजरबैजान और आर्मेनिया में फिलहाल संघर्षविराम समझौता
    मम्मादोव ने कहा कि आर्मेनिया की सेना द्वारा बिछाए गए बारूदी सुरंगों ने युद्ध के दौरान और उसके बाद, अभी तक कम से कम 106 अजरबैजानी नागरिकों की जान ली है जिनमें से 65 असैन्य नागरिक हैं. गौरतलब है कि रूस की हस्तक्षेप के बाद दोनों देशों के बीच फिलहाल संघर्षविराम समझौता लागू है. उन्होंने अदालत से कहा, “आर्मेनिया के पास कोई वैध सैन्य या अन्य कारण नहीं है कि वह इस तरह से अजरबैजानी नागरिकों को परेशान करता रहे.”

    इस मामले को अजरबैजान अदालत तक लेकर आया है, उसका आरोप है कि आर्मेनिया की गतिविधियां जातीय भेदभाव के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय प्रस्ताव के खिलाफ है. वहीं आर्मेनिया ने अपने अलग मामले में कहा है कि अजरबैजान जिस तरीके से आर्मेनिया लोगों के साथ पेश आता है वह भी प्रस्ताव का उल्लंघन है.

    Tags: Azerbaijan Facts, ICJ, United nations

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर