लाइव टीवी

UN ने सीरिया में तुर्की आक्रमण पर दी प्रतिक्रिया, कहा- तुरंत रोकें हिंसा

भाषा
Updated: October 11, 2019, 12:11 PM IST
UN ने सीरिया में तुर्की आक्रमण पर दी प्रतिक्रिया, कहा- तुरंत रोकें हिंसा
गुतारेस ने कहा, ‘वर्तमान समय में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम इसे रोकें और निश्चित रूप से मैं इसको लेकर चिंतित हूं.’

एंतोनियो गुतारेस (Antonio Gutares) ने कहा, ‘वर्तमान समय में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम इसे रोकें और निश्चित रूप से मैं इसको लेकर चिंतित हूं.’ उन्होंने कहा कि संघर्ष के किसी भी समाधान में क्षेत्र की संप्रभुता और सीरिया की एकता का सम्मान किया जाना चाहिए.’

  • Share this:
कोपेनहेगन. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) महासचिव एंतोनियो गुतारेस (Antonio Gutares) ने सीरिया में कुर्द-नियंत्रित क्षेत्रों पर तुर्की के हमले पर बृहस्पतिवार को गहरी चिंता व्यक्त की है. एंतोनियो नें सीरिया में बढ़ती हिंसा को तुरंत रोकने का आह्वान किया है. एंतोनियो गुतारेस ने कोपेनहेगन में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मैं पूर्वी सीरिया में संघर्षों की बढ़ती घटनाओं को लेकर अपनी गहरी चिंता व्यक्त करना चाहता हूं.’

गुतारेस ने कहा, ‘वर्तमान समय में हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम इसे रोकें और निश्चित रूप से मैं इसको लेकर चिंतित हूं.’ उन्होंने कहा कि संघर्ष के किसी भी समाधान में क्षेत्र की संप्रभुता और सीरिया की एकता का सम्मान किया जाना चाहिए. उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के पांच यूरोपीय सदस्य देशों- फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, बेल्जियम और पोलैंड ने तुर्की से सीरिया में कुर्द बलों के खिलाफ अपने ‘‘एकतरफा’’ सैन्य अभियान को रोकने का आह्वान किया है.

तुर्की ने कुर्द नियंत्रित सीरिया पर किया हमला
गौैरतलब है कि तुर्की ने कुर्द नियंत्रित पूर्वोत्तर सीरिया पर बुधवार को हमले किए थे और जमीनी लड़ाई में मदद के लिए बम गिराए. रविवार को अमेरिका द्वारा अपने सैनिकों को वापस बुलाने की घोषणा के बाद यह हमला हुआ. ट्रंप ने ट्वीट किया, 'तुर्की कुर्द पर हमले की लंबे समय से योजना बना रहा था. वे लगातार लड़ रहे हैं. हमले के आसपास के इलाके में हमारा कोई सैनिक या सैन्य केंद्र नहीं है. मैं इस अंतहीन लड़ाई को समाप्त करने की कोशिश कर रहा हूं. उन्होंने कहा कि उनका प्रशासन दोनों पक्षों से बातचीत कर रहा है.'

ट्रंप ने कहा है कि कुछ लोग हजारों सैनिकों को उस इलाके में भेजना और नई लड़ाई फिर से शुरू करना चाहते हैं. तुर्की की नाटो सदस्यता को रेखांकित करते हुए कहा, 'अन्य देश कहते हैं बाहर रहो और कुर्दों को अपनी लड़ाई लड़ने दो. मैंने कहा तुर्की अगर नियमों का पालन नहीं करता तो आर्थिक क्षति और प्रतिबंधों से उसपर वार करो. मैं पूरे प्रकरण को नजदीक से देख रहा हूं.'

ये भी पढ़ें: 

अमेरिका ने दक्षिण अफ्रीका के गुप्ता परिवार को ‘ब्लैकलिस्ट’ किया
Loading...

क्यों दुनिया के ज्यादातर देश प्राइवेट सेक्टर को सौंप रहे हैं रेलवे?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 12:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...