UN महासचिव ने केरल की विशानकारी बाढ़ को बताया क्लाइमेट चेंज की चेतावनी

गुतारेस ने चेताया कि दुनिया में जलवायु परिवर्तन पर ऐसी स्थिति बनने का संकट है जहां से वापसी नहीं हो सकती है

भाषा
Updated: September 11, 2018, 2:20 PM IST
UN महासचिव ने केरल की विशानकारी बाढ़ को बताया क्लाइमेट चेंज की चेतावनी
File photo of UN Secretary General Antonio Guterres
भाषा
Updated: September 11, 2018, 2:20 PM IST
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने केरल में हाल में आई विनाशकारी बाढ़ और पोर्टो रीको में पिछले साल आए तूफान का हवाला देकर जलवायु परिवर्तन पर निष्क्रियता के परिणामों को लेकर चेताया. इसके साथ ही जलवायु परिवर्तन की दिशा बदलने के लिए अधिक नेतृत्व और अधिक इच्छा शक्ति का आह्वान किया.

गुतारेस ने सोमवार को यहां जलवायु परिवर्तन रोकने पर अहम भाषण में कहा कि जलवायु परिवर्तन हमारे समय का एक अहम मुद्दा है और हम एक महत्तवपूर्ण मोड़ पर हैं. हमारे के लिए अस्तित्व का सीधा संकट है. जलवायु परिवर्तन तेजी से हो रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने जलवायु परिवर्तन की दिशा मोड़ने के लिए प्रयास करने की जरूरत बताई.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने जलवायु संकट को रेखांकित करने के लिए केरल में आई बाढ़ समेत दुनियाभर की विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं का हवाला दिया.

महासचिव ने कहा कि बेहद गर्मी, जंगलों में आग, तूफान और बाढ़ अपने पीछे मौतों और विनाश की दास्तान छोड़ जाते हैं. पिछले महीने भारत के केरल राज्य में हालिया इतिहास की सबसे भीषण बाढ़ आई जिसमें 400 लोगों की मौत हो गई और 10 लाख से ज्यादा लोग बेघर हो गए.

गुतारेस ने पिछले साल पोर्टो रीको में आए तूफान मारिया का भी हवाला दिया जिसमें करीब 3,000 लोगों की मौत हुई. यह अमेरिका के इतिहास में सबसे खराब प्राकृतिक आपदाओं में से एक है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि संकट की तात्कालिकता पर कोई संदेह नहीं होना चाहिए. हम दुनिया भर में रिकॉर्ड तोड़ तापमान का अनुभव कर रहे हैं.
Loading...
गुतारेस ने चेताया कि दुनिया में जलवायु परिवर्तन पर ऐसी स्थिति बनने का संकट है जहां से वापसी नहीं हो सकती है. समूचे ग्रह के लोगों और उन्हें संभालने वाले प्राकृतिक तंत्र के लिए विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं.

गुतारेस ने जलवायु परिवर्तन की दिशा को उलटने के लिए अधिक नेतृत्व और अधिक इच्छाशक्ति का आह्वान किया.

 
Loading...

और भी देखें

Updated: November 18, 2018 04:55 AM ISTअब 1000 ग्राम का नहीं रहा एक किलो! जानिए क्या होगा आप पर असर?
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर