लाइव टीवी

कोरोना से बेपरवाह अमेरिकियों का चर्च में लगा जमावड़ा, कहा- 'शैतान हमें दूर रखने की कोशिश कर रहा'

News18Hindi
Updated: April 5, 2020, 4:17 PM IST
कोरोना से बेपरवाह अमेरिकियों का चर्च में लगा जमावड़ा, कहा- 'शैतान हमें दूर रखने की कोशिश कर रहा'
अमेरिका में कई चर्चोंं ने अपनी सेवाएं ऑनलाइन देनी शुरू कर दी हैं, मगर कुछ अब भी आदेश का उल्‍लंंघन कर रहे हैं. फाइल फोटो

बैपटिस्ट चर्च के पादरी केली बर्टन ने इस संबंध में फेसबुक पोस्ट में लिखा है, 'हम उसे जीतने नहीं देंगे. शैतान हमें अलग रखने की कोशिश कर रहा है, वह हमें एक साथ प्रार्थना करने से रोक रहा है.'

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (America) इस समय उन देशों में शुमार है, जहां कोरोना वायरस (Corona virus) की वजह से हजारों लोग मारे जा चुके हैं और संक्रमित हैं. इसके बावजूद लोग आस्‍थावश चर्चों में प्रार्थना के लिए इकट्ठा हो रहे हैं. वहीं पाम संडे के पवित्र अवसर को देखते हुए यह खतरा और बढ़ गया है. ओहियो मेगाचर्च सड़क के नीचे सॉलिड रॉक एक अलग कोर्स का चार्ट बनाया जा चुका है. स्थानीय और राज्य के अधिकारियों की चेतावनियों के बावजूद सॉलिड रॉक व्यक्तिगत रूप से अपनी एक हजार सभाएं आयोजित करता रहा है और इस बार भी पवित्र सप्ताह की शुरुआत में पाम संडे को चर्च को खुला रख कर की जानी है.

सैंड्रा ने कहा, 'मुझे लगता है कि उन्हें धरती के नियमों का पालन करना चाहिए, जिस तरह से बाइबल हमें बताती है.' वह कुछ मील की दूरी पर रहती है. हालांकि स्थानीय महापौर और स्वास्थ्य अधिकारियों ने चर्च को बंद करने के लिए कहा है, अब तक इसका कोई असर दिखाई नहीं दिया है. वहीं सॉलिड रॉक चर्च की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है, लेकिन उन्‍होंने अपनी वेबसाइट पर एक बयान में कहा है कि 'हम सॉलिड रॉक चर्च में आने वाले किसी भी व्यक्ति के स्वास्थ्य और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक सावधानी बरत रहे हैं. हमारी सामान्य सेवाएं जारी हैं, मगर यहां बड़ी संख्या में लोग नहीं हैं. हालांकि हमारा अभ्‍यास जारी है और हम अपनी आस्‍था बनाए हुए हैं.'

कुछ चर्चों ने अपनी सेवाओं को ऑनलाइन शुरू कर दिया है
लाखों अमेरिकी ईसाई इस सप्ताह के अंत में पाम रविवार को घर पर ही रहेंगे, क्योंकि अमेरिका के अधिकांश चर्चों ने घर पर रहने के नियमों का पालन करने के लिए सेवाओं अपनी सेवाओं को ऑनलाइन शुरू कर दिया है. लेकिन, वहीं सॉलिड रॉक चर्च जैसे भी कई चर्च हैं जो फ्लोरिडा और टेक्सास से लेकर कैलिफ़ोर्निया तक इस अवसर पर दरवाजे खुले रख कर इस सप्ताह के अंत में लोगों को प्रार्थना के लिए आमंत्रित कर रहे हैं.



लुइसियाना के पादरी टोनी स्पेल ने रॉयटर्स को दिए एक साक्षात्कार में कहा, 'हम नियमों को चुनौती दे रहे हैं, क्योंकि परमेश्वर की आज्ञा और पवित्र किताब के संदेश को फैलाना है.' वहीं 42 वर्षीय स्पेल, जो पाम संडे पर बैटन रूज उपनगर में अपने एक हजार सदस्यीय लाइफ टैबरर्नकल मेगाचर्च में तीन सेवाओं को रखने की योजना बना रहे हैं. उन्होंने कहा, 'स्पेल और अन्य के लिए स्‍वास्थ्‍य को लेकर दिए गए सार्वजनिक आदेशों से धार्मिक स्वतंत्रता और संवैधानिक अधिकारों के लिए खतरे की आशंका है.'



'शैतान हमें अलग रखने की कोशिश कर रहा है'
वहीं टेक्‍सास में लोन स्टार में बैपटिस्ट चर्च के पादरी केली बर्टन इस संबंध में फेसबुक पर एक पोस्ट में लिखा है, 'हम उसे जीतने नहीं देंगे. शैतान हमें अलग रखने की कोशिश कर रहा है, वह हमें एक साथ प्रार्थना करने से रोक रहा है.' वहीं दो चर्च जिसमें से एक फ्रांस में है और दूसरा दक्षिण कोरिया में. सभाएं आयोजित करके कोरोना वायरस के प्रसार से जुड़े हुए हैं. वहीं कैलिफोर्निया में सैक्रामेंटो काउंटी के अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने एक चर्च की पहचान की है जिसमें 71 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. उन्होंने कुछ विवरण पेश किए हैं. लेकिन कहा है कि जब चर्च बंद हो जाता है, तो चर्च के सदस्य साथी इकट्ठा होते हैं.

रॉब मैककॉय उनमें से एक हैं. जहां वह पाम संडे पर रहेंगे. हालांकि वह यह भी कहते हैं कि वह प्रार्थना करने वालों को छह फीट अलग खड़े होने के लिए कहते हैं. वहीं इन हालात को लेकर शहर के प्रवक्ता जेफ हूड ने ब्रॉयर्स ने रॉयटर्स को बताया, 'यह एक गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा है.' सीधे शब्दों में कहें, नहीं, हम इसे मानने वाले नहीं हैं.'

ये भी पढ़ें - कोरोना से निपटने को ट्रंप ने भारत से मांगी ये खास दवा, कहा- मैं खुद भी खाऊंगा

                कोरोना वायरस: WHO और IMF ने कहा- ये मानवता के लिए सबसे अंधकारमय समय

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 5, 2020, 3:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading