कोरोना वैक्सीन की 50 करोड़ खुराक के लिए UN प्रोग्राम का मॉडर्ना के साथ करार, जानें किन देशों को मिलेगा फायदा

कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन मॉडर्ना. (Reuters File)

कोरोना वायरस रोधी वैक्सीन मॉडर्ना. (Reuters File)

Coronavirus Vaccine: कई विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 संकट अब तीक्ष्ण है, खासकर भारत में मामले अप्रत्याशित रूप से तेजी से बढ़ रहे हैं.

  • ए पी
  • Last Updated: May 3, 2021, 5:54 PM IST
  • Share this:

जिनेवा. मॉडर्ना एवं टीका प्रवर्तक गावी ने एक सौदे की घोषणा की है, जिसके तहत दवा कंपनी 2022 के आखिर तक निम्न एवं मध्यम आय वाले देशों में जरूरतमंद लोगों तक कोरोना वायरस टीका पहुंचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र समर्थित कार्यक्रम के वास्ते 500 करोड़ खुराक प्रदान करेगी.



सोमवार को घोषित किये गये इस अग्रिम खरीद समझौते से महज कुछ दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कई सप्ताह की देरी के बाद मॉडर्ना टीके को आपात मंजूरी देने की घोषणा की थी. इससे संयुक्त राष्ट्र समर्थित कोवैक्स कार्यक्रम को प्रारंभ करने का मार्ग प्रशस्त होगा.



लेकिन इस साल की आखिरी तिमाही से पहले टीकों की आपूर्ति शुरू नहीं हो पाएगी और सौदे के तहत खुराकों का बड़ा हिस्सा- 46.6 करोड़ खुराक के अगले साल तक मिलने की योजना है. बाकी 3.4 करोड़ खुराक इस साल मिल जाने की उम्मीद है. सौदे की वित्तीय शर्तों का खुलासा नहीं किया गया है.



कई विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 संकट अब तीक्ष्ण है, खासकर भारत में मामले अप्रत्याशित रूप से तेजी से बढ़ रहे हैं. मॉडर्ना टीका (कोरोना वायरस की) नई किस्म, एक, जो भारत में फैल रहा है, से निपटने में अब तक के सबसे प्रभावी टीकों में एक समझा जा रहा है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज