लाइव टीवी

UNSC में समर्थन को लेकर मोदी ने ओबामा को बोला शुक्रिया

भाषा
Updated: September 28, 2015, 11:33 PM IST
UNSC में समर्थन को लेकर मोदी ने ओबामा को बोला शुक्रिया
पीएम मोदी ने नियत समयसीमा के भीतर यूएन में सुधार प्रक्रिया को पूरा करने में अमेरिका का समर्थन मांगते हुए सुरक्षा परिषद की स्थाई सदस्यता की भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किए जाने पर वहां के राष्ट्रपति ओबामा का धन्यवाद किया।

पीएम मोदी ने नियत समयसीमा के भीतर यूएन में सुधार प्रक्रिया को पूरा करने में अमेरिका का समर्थन मांगते हुए सुरक्षा परिषद की स्थाई सदस्यता की भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किए जाने पर वहां के राष्ट्रपति ओबामा का धन्यवाद किया।

  • भाषा
  • Last Updated: September 28, 2015, 11:33 PM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारत अमेरिकी सामरिक साझेदारी को और बेहतर बनाने का आज निर्णय किया और सुरक्षा, आतंकवाद एवं कट्टरवाद से निपटने, रक्षा, आर्थिक साझेदारी और जलवायु परिवर्तन पर सहयोग को और गति देने पर सहमति व्यक्त की।

प्रधानमंत्री मोदी ने नियत समयसीमा के भीतर संयुक्त राष्ट्र में सुधार प्रक्रिया को पूरा करने में अमेरिका का समर्थन मांगते हुए सुरक्षा परिषद की स्थाई सदस्यता की भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किए जाने पर वहां के राष्ट्रपति बराक ओबामा का धन्यवाद किया।

विश्व के सबसे पुराने और सबसे बड़े लोकतंत्रों के दोनों नेताओं के बीच आज करीब एक घंटे तक चली बातचीत के बाद ओबामा ने कहा है कि हमने हमारे सामरिक दृष्टि को और आगे बेहतर बनाने के बारे में चर्चा की। भारत के महत्व को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि पेरिस में जलवायु परिवर्तन पर होने वाली वैश्विक सम्मेलन में भारतीय नेतृत्व आने वाले दशकों के लिए रूख तय करेगा।



ओबामा ने कहा कि सुरक्षा, अर्थव्यवस्था व्यापार, निवेश और रक्षा खरीद में सहयोग जैसे मुद्दों पर प्रधानमंत्री मोदी बेहतरीन साझेदार हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति से द्विपक्षीय बातचीत के बाद संयुक्त बयान में मोदी ने कहा कि हमारी साझेदारी व्यापक सामरिक और सुरक्षा चिंताओं के संदर्भ में है और रक्षा व्यापार और प्रशिक्षण सहित हमारे बीच रक्षा सहयोग बढ़ रहा है ।



उन्होंने कहा है कि आतंकवाद के वर्तमान खतरों के बढ़ने और नए के पैदा होने को देखते हुए हमने संकल्प किया है कि आतंकवाद और कट्टरवाद के खिलाफ हम अपने सहयोग को और गहरा करेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार के बाद भारत की स्थायी सदस्यता के दावे का समर्थन किए जाने के लिए मैं राष्ट्रपति ओबामा का धन्यवाद करता हूं। मैं एक नियत समयसीमा के भीतर संयुक्त राष्ट्र में सुधार की प्रक्रियाओं को पूरा करने में भी अमेरिका का समर्थन चाहता हूं। मोदी ने अंतरराष्ट्रीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्था में एक लक्षित समयसीमा के भीतर भारत की सदस्यता के दावे का समर्थन किये जाने के लिए भी अमेरिकी राष्ट्रपति का धन्यवाद किया।

प्रधानमंत्री ने जापान सहित क्षेत्रीय सहयोगियों के साथ एशिया, प्रशांत और हिन्द महासगर क्षेत्रों में भारत अमेरिका के बीच संयुक्त रणनीति में हो रही प्रगति का भी स्वागत किया। मोदी ने कहा कि इससे हमारा समुद्री सुरक्षा सहयोग और मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में हमारे सामरिक साझेदारी को और बढ़ाने के लिए मैं एशिया प्रशांत आर्थिक समुदाय में भारत की जल्द सदस्यता के बारे में अमेरिका के साथ काम करने को लेकर आशान्वित हूं ।

मोदी ने कहा है कि मानवता के विकास की आकांक्षाओं की क्षमता को प्रभावित किये बिना जलवायु परिवर्तन पर राष्ट्रपति और मैं अपनी प्रतिबद्धताओं से किसी तरह का समझौता नहीं करने वाला रूख रखते हैं। हम दोनों ने महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय एजेंडा तय किये हैं।

जलवायु परिवर्तन के विषय पर ओबामा और मोदी दोनों ने दुनिया के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों से निपटने की प्रतिबद्धता व्यक्त की। ओबामा ने कहा है कि आज हुई हमारी चर्चा मुख्यत: जलवायु परिवर्तन पर पेरिस में होने वाली आगामी सम्मेलन पर केंद्रित रही। स्वच्छ उर्जा के प्रति प्रधानमंत्री मोदी के आक्रामक प्रतिबद्धता से हम उत्साहित हुए। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि हम जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सकारात्मक एजेंडे के साथ पेरिस में व्यापक और ठोस परिणामों की उम्मीद करते हैं।
First published: September 28, 2015, 8:40 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading