US ने शिनजियांग में उइगर मुसलमानों पर अत्याचार के चलते 28 चीनी कंपनियों को किया ब्लैक लिस्ट

अमेरिका ने चीन की 28 संस्थाओं को किया ब्लैक लिस्ट

अमेरिका ने चीन की 28 संस्थाओं को किया ब्लैक लिस्ट

अमेरिका (America) ने उइगर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने तथा उनके साथ दुर्व्यवहार करने के मामले में चीन की 28 कम्पनियों को ब्लैक लिस्ट (Black List) में डाला.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय (US Ministry of Commerce) ने चीन के अशांत शिनजियांग (Xinjiang) क्षेत्र में उइगर मुसलमानों और अन्य अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने तथा उनके साथ दुर्व्यवहार करने के मामले में चीन की 28 संस्थाओं (28 Chinese Companies) को सोमवार को ब्लैक लिस्ट (Black List) में डाल दिया. अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रोस ने इस फैसले की घोषणा की. इससे ये संस्थाएं अब अमेरिकी सामान नहीं खरीद पाएंगी.



रॉस ने कहा कि अमेरिका चीन के भीतर जातीय अल्पसंख्यकों के क्रूर दमन को बर्दाश्त नहीं करता है और ना ही करेगा. अमेरिकी फेडरल रजिस्टर (US Federal Register) में अद्यतन की गई जानकारी के अनुसार ब्लैक लिस्ट में डाली कई संस्थाओं में वीडियो निगरानी कम्पनी हिकविज़न कृत्रिम मेधा कम्पनियां, मेग्वी टेक्नोलॉजी और सेंस टाइम शामिल हैं.



विभाग द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार यह फैसला संस्थाओं को मानवाधिकार उल्लंघन, सामुदायिक जेल में डालना एवं मुस्लिम अल्पसंख्यक के उपर निगरानी आदि के कारण लिया गया है. अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि इस फैसले का संबंध इस हफ्ते शुरू होने वाली चीन के साथ व्यावसायिक वार्तालाप से नही है.





अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने पिछले हफ्ते वेटिकन में कहा था कि जब राज्य पूरी तरह से शासन करता है, तो वह अपने नागरिकों से ईश्वर की नहीं बल्कि सरकार की पूजा करने को कहता है. यही कारण है कि चीन ने एक मिलियन से अधिक उइघुर मुसलमानों को नजरबंद शिविरों में रखा है और ईसाई पादरियों को जेल में डाल देता है.
अगस्त में ट्रम्प प्रशासन ने पांच चीनी कंपनियों से हुआवेई और हिकविजन सहित दूरसंचार उपकरणों की खरीद पर प्रतिबंध लगाने वाला एक अंतरिम नियम भी जारी किया था. हुआवेई ने इस बात से इनकार करते हुए कहा कि वह चीनी सरकार, सैन्य या खुफिया एजेंसी द्वारा कंट्रोल किया जाता है और उसने अमेरिकी सरकार के प्रतिबंधों के खिलाफ मुकदमा दायर किया है. (भाषा इनपुट के साथ)



ये भी पढ़ें : पाकिस्तान को मदीना जैसा बनाना चाहते हैं इमरान, गरीबों के लिए शुरू किया लंगर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज