अपना शहर चुनें

States

भारत को धार्मिक स्वतंत्रता का उपदेश देने वाले अमेरिकी आयोग के प्रमुख समलैंगिक विरोधी, योग को बताते हैं मूर्खता

UNCIRF के प्रमुख टोनी पर्किंस की फाइल फोटो (फोटो- Reuters)
UNCIRF के प्रमुख टोनी पर्किंस की फाइल फोटो (फोटो- Reuters)

भारत ने अमेरिकी आयोग की टिप्पणियों को पक्षपाती और विवादास्पद बताते हुए इस पर कड़ा विरोध जताया था.UNCIRF के प्रमुख टोनी पर्किंस LGBTQ अल्पसंख्यक समुदायों (Minority Communities) के बारे में विवादित टिप्पणियां करते रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 8:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका के जिस अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता आयोग (USCIRF) ने अपनी रिपोर्ट में भारत पर आरोप लगाए, उस आयोग के प्रमुख खुद विवादों में घिरे रहे हैं. UNCIRF के प्रमुख टोनी पर्किंस LGBTQ अल्पसंख्यक समुदायों (Minority Communities) के बारे में कटु टिप्पणियां करते रहे हैं. यहां तक कि वह योगा पर भी विवादित बयान देते रहे हैं.
अमेरिकी अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता आयोग ने धार्मिक स्वतंत्रता पर अपनी सालाना रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि भारत में धार्मिक स्वतंत्रता के मामले में चीजें नीचे की ओर जा रही हैं और भारत में धार्मिक अल्पसंख्यकों पर हमले बढ़ रहे हैं. इस पर भारत ने मंगलवार को अमेरिकी आयोग की रिपोर्ट में खुद पर की गई टिप्पणियों को पक्षपाती (Biased) और विवादास्पद (Tendentious) बताते हुए इस पर कड़ा विरोध जताया था. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, 'इसके भारत के खिलाफ पक्षपाती और विवादास्पद बयान नए नहीं हैं. लेकिन, इस अवसर पर, इसकी गलतबयानी अगले स्तर पर पहुंच गई है.'

मुस्लिमों और LGBTQ कार्यकर्ताओं की तुलना आतंकियों से की थी
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने लंबे समय से साथी रहे टोनी पर्किंस को इस आयोग का प्रमुख बनाया था. पर्किंस को आयोग का प्रमुख बनाए जाने के फैसले का पूरे अमेरिका में बहुत विरोध हुआ था. उन्होंने मुस्लिमों और LGBTQ कार्यकर्ताओं की तुलना आतंकियों से की थी, जिसके बाद भारी विवाद हुआ था.
अमेरिकी सैनिकों के इलाज के लिए योग और ध्यान का प्रयोग करने को बताया था मूर्खतापूर्ण
पर्किंस ने केवल मुस्लिमों को ही नहीं हिंदुओं को भी निशाना बनाया है. 2007 में जब राजन जे़ड नाम के एक हिंदू आदमी ने अमेरिकी सीनेट में पहली बार प्रार्थना की थी तो पर्किंस दो महिलाओं के साथ चिल्लाए थे कि यह प्रार्थना एक 'तिरस्कार' थी.



पर्किंस ने एक अवसर पर यह भी लिखा था कि अमेरिकी सैनिकों को योग और ध्यान का प्रयोग PTSD के इलाज के तौर पर नहीं करना चाहिए. उन्होंने इन दोनों ही प्रक्रियाओं को मूर्खतापूर्ण बताया था.

यह भी पढ़ें: दवा मिलते ही अमेरिका का बदला रुख! व्हाइट हाउस ने PM मोदी को किया अनफॉलो
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज