साइबर अटैक कर चीनी नागरिकों ने चुराया अमेरिका और भारत सरकार का जरूरी डाटा : US

कॉन्सेप्ट इमेज.
कॉन्सेप्ट इमेज.

पांच चीनी नागरिकों (Citizen Of China) ने अमेरिका और भारत सरकार के कंप्यूटर नेटवर्क समेत दुनिया की 100 से ज्यादा कंपनियों साइबर अटैक (Cyber Attack) किया. इस काम में मलेशिया के दो नागरिकों ने भी उनकी मदद की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 10:28 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी न्याय विभाग ने पांच चीनी नागरिकों पर अमेरिका (America) और भारत सरकार के कंप्यूटर नेटवर्क समेत दुनिया की 100 से ज्यादा कंपनियों और संस्थानों पर साइबर हमला (Cyber Attack) कर डाटा तथा कारोबार संबंधी सूचनाएं चुराने का आरोप लगाया है. अमेरिकी के उप अटॉर्नी जनरल जेफ्री रोसेन ने बुधवार को कहा कि मामले में अभियोग को सामने रखा गया है. इसके तहत पांच चीनी नागरिकों ने कंप्यूटर सिस्टम को हैक किया तथा मलेशिया के दो नागरिकों पर हैकरों की मदद करने के आरोप लगाए गए हैं. न्याय विभाग के एक बयान के मुताबिक मलेशिया के नागरिकों को रविवार को गिरफ्तार किया गया और चीनी नागरिकों को भगोड़ा घोषित किया गया. रोसेन ने चीनी सरकार की भी आलोचना की.

उप अटॉर्नी जनरल ने कहा, 'न्याय विभाग ने इन चीनी नागरिकों के साइबर हमलों और कंप्यूटर में सेंधमारी की कोशिशों को नाकाम बनाने के लिए हर उपलब्ध तकनीक का इस्तेमाल कियाय चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की शह पर चीन के बाहर के कंप्यूटर को निशाना बनाया गया और चीन के लिए मददगार बौद्धिक संपदा अधिकार संबंधी सूचनाएं चुरायी गयी.' अभियोग में कहा गया, '2019 में साजिशकर्ताओं ने भारत सरकार की वेबसाइटों के साथ ही भारत सरकार के सहायक वचुर्अल प्राइवेट नेटवर्क और डाटाबेस सर्वर को भी निशाना बनाया. साजिशकर्ताओं ने भारत सरकार के वीपीएन नेटवर्क में सेंधमारी करने के लिए वीपीएस प्रोवाइडर सर्वर का इस्तेमाल किया.' हैकरों ने भारत सरकार के संरक्षित कंप्यूटरों पर 'कोबाल्ट स्ट्राइक' मालवेयर को इंस्टाल्ड कर दिया.

ये भी पढ़ें: चीन ने फिर से लगाया आरोप, कहा- हमारे सैनिकों को उकसाने में लगी रहती है भारतीय सेना




100 से ज्यादा कंपनियों के कंप्यूटर नेटवर्क पर असर
आरोपों के मुताबिक सेंधमारी से अमेरिका और विदेशों में 100 से ज्यादा कंपनियों के कंप्यूटर नेटवर्क पर असर पड़ा. सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, कंप्यूटर हार्डवेयर, दूरसंचार, सोशल मीडिया, वीडियो गेम कंपनियां भी हैकरों का निशाना बनीं. गैर सरकारी संगठनों, विश्वविद्यालयों , थिंक टैंक, हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक नेताओं और कार्यकर्ताओं के कंप्यूटरों को भी निशाना बनाया गया. अभियोग में कहा गया कि चीनी हैकरों ने अमेरिका के अलावा ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, चिली, हांगकांग, भारत, इंडोनेशिया, जापान, मलेशिया, पाकिस्तान, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया, ताइवान, थाइलैंड , वियतनाम और ब्रिटेन की कंपनियों, संगठनों और लोगों के कंप्यूटरों भी निशाना बनाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज