• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • US-चीन ट्रेड वॉर: पहले चरण की बातचीत में टैरिफ वापस लेने को राजी हुआ वाशिंगटन

US-चीन ट्रेड वॉर: पहले चरण की बातचीत में टैरिफ वापस लेने को राजी हुआ वाशिंगटन

अमेरिका और चीन के बीच पहले चरण के बातचीत में ट्रेड को लेकर ऐतिहासिक समझौता हुआ है.

अमेरिकी-चीन (US and China) के बीच हुई पहले चरण की बातचीत में चीन आर्थिक और व्यापारिक संरचना में व्यापक सुधार और परिवर्तनों करने पर सहमत हो गया है.

  • Share this:
    बीजिंग. अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने चीन के साथ व्यापार समझौते को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि अमेरिका और चीन के बीच पहले चरण के बातचीत में ट्रेड को लेकर ऐतिहासिक समझौता हुआ है. साथ ही अमेरिका उत्तरोत्तर टैरिफ वापस लेने पर भी सहमत हो गया है. जिसके बाद 18 महीने से दोनों देशों के बीच चले आ रहे ट्रेड वार खत्म होने के आसार नजर आ रहे हैं.

    गौरतलब है कि विश्व की दो बड़ी आर्थिक शक्तियों के बीच चल रहे ट्रेड वॉर के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था खतरे में है. पहले चरण की बातचीत में हुए समझौते में चीन आर्थिक और व्यापारिक संरचना में व्यापक सुधार और परिवर्तनों करने पर सहमत हो गया है. जिसके तहत चीन बौद्धिक संपदा, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, कृषि, वित्तीय सेवाओं और मुद्रा और विदेशी मुद्रा के क्षेत्रों में व्यापक सुधार और परिवर्तन करेगा.

    अमेरिकी वस्तुओं को खरीदने की बनी सहमति
    इसके अलावा चीन आने वाले वर्षों में अमेरिकी वस्तुओं और सेवाओं की अतिरिक्त खरीद करने पर भी अपनी प्रतिबद्ध जाहिर की है. इस समझौते का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह है कि दोनों देशों के बीच किसी भी विवाद के त्वरित समाधान के लिए एक प्रभावी समाधान प्रणाली स्थापित किया गया है. इसी के तहत अमेरिका भी टैरिफ नियमों को संशोधित करने के लिए सहमत हो गया है.

    शुक्रवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने ट्वीट कर जानदारी दी कि अमेरिका चीन के साथ एक बड़ी डील करने पर समहत हो गया है. उन्होंने कहा कि चीन कृषि उत्पाद, ऊर्जा और निर्मित वस्तुओं में कई संरचनात्मक परिवर्तन करने और बड़े खरीद को लेकर समहत हो गया है. वहीं चीन के उप वाणिज्य मंत्री वांग शॉवेन ने भी अमेरिका के साथ व्यापारिक बातचीत में समझौते की पुष्टि की है.

    समझौते में कई विषयों पर सहमति
    उन्होंने कहा कि इस समझौते में कई विषयों पर सहमति बनी है. जिसमें बौद्धिक संपदा संरक्षण, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, कृषि उत्पादों की खरीद और व्यापार का विस्तार शामिल है. समझौते की जानकारी साझा करते हुए ट्रंप ने कहा कि 25 प्रतिशत टैरिफ यथावत रहेंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि 15 दिसंबर के लिए निर्धारित जुर्माना शुल्क नहीं नहीं लेने पर भी सहमति बनी है.

    ट्रंप ने कहा कि वो 2020 के चुनाव के बाद तक इंतजार करने के बजाय दूसरे चरण के समझौते पर बातचीत शूरू करेंगे. समझौते को लेकर अमेरिका के ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन ने कहा कि यह आर्थिक एजेंजे को आगे बढ़ाने वाला एक महत्वपूर्ण समझौता है. इस ऐतिहासिक समझौते से संतुलित व्यापारिक संबंध और अमेरिका के श्रमिकों व कंपनियों का विकास सुनिश्चित होगा.

    अमेरिकी चैंबर ऑफ कॉमर्स ने इस समझौते की घोषणा का स्वागत किया है. अंतर्राष्ट्रीय मामलों की प्रमुख चैंबर्स माय्रोन ब्रिलिएंट ने कहा कि इस समझौते ने महीनों से चली आ रही अनिश्चितता के बाद अमेरिकी बिजिनेश के लिए महत्वपूर्ण है.

    ये भी पढ़ें: 

    नागरिकता कानून: असम, मेघालय, बंगाल में उग्र प्रदर्शन, दिल्ली-अरुणाचल में बवाल

    भारत बचाओ रैली या राहुल गांधी के रीलॉन्च की तैयारी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज