अमेरिका में कोरोना से हुईं 1 लाख मौतें, 44 साल जंग लड़कर भी नहीं गंवाई इतनी जानें

ट्विटर ने फिर मार्क किया ट्रंप का ट्वीट
ट्विटर ने फिर मार्क किया ट्रंप का ट्वीट

अमेरिका (US) ने बीते 44 सालों में कोरिया, वियतनाम, इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान में भीषण जंग लड़ी हैं लेकिन कोरोना (Coronavirus) से सिर्फ तीन महीने में उससे ज्यादा अमेरिकियों की मौतें हो चुकीं हैं.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) में कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से मौतों का आंकड़ा 1 लाख से भी ज्यादा हो गया है. हालांकि वर्ल्डमीटर और कई अन्य वेबसाइट्स ने बुधवार को ही 1 लाख मौतें होने की घोषणा कर दी थी लेकिन अमेरिका का ऑफिशियल डेटा जारी करने वाली जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी ने गुरुवार को इसकी घोषणा की है. अमेरिका ने बीते 44 सालों में कोरिया, वियतनाम, इराक़ और अफ़ग़ानिस्तान में भीषण जंग लड़ी हैं लेकिन कोरोना से सिर्फ तीन महीने में उससे ज्यादा अमेरिकियों की मौतें हो चुकीं हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) लगातार दावा कर रहे हैं कि अमेरिका से कोरोना संक्रमण का सबसे बुरा दौर गुजर गया है लेकिन बुधवार को भी यहां 20,000 से ज्यादा संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं और 1500 से ज्यादा लोगों की इससे मौत हो गयी है. ट्रंप कोरोना वायरस को चीनी वायरस कह रहे हैं और लगातार चीन पर हमलावर बने हुए हैं, लेकिन लगातार अमेरिकी वैज्ञानिक ही उनकी कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर जारी नीतियों पर सवाल खड़े करते रहे हैं. दुनिया का सबसे ताकतवर देश अमेरिका ही कोरोना संक्रमण से सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ है.

 
4 जुलाई के आयोजन पर उठे सवालकोरोना वायरस संक्रमण से 1 लाख मौतों के बावजूद डोनाल्‍ड ट्रंप 4 जुलाई के स्‍वतंत्रता दिवस समारोह के आयोजन के लिए प्रतिबद्ध हैं. उधर डेमोक्रेटिक सांसदों ने कोरोना वायरस संक्रमण के बीच चेतावनी दी है कि क्षेत्र इतने बड़े आयोजन के लिए तैयार नहीं है. इसके बावजूद अमेरिकी राष्‍ट्रपति अपना इरादा बदलने को तैयार नहीं हैं. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जुड डीरे ने दोहराया कि डोनाल्‍ड ट्रंप एक स्वतंत्रता दिवस समारोह आयोजित करना चाहते हैं, जबकि कांग्रेस के सदस्यों ने मंगलवार को रक्षा सचिव मार्क एरिज़ोना और आंतरिक सचिव डेविड बर्नहार्ट को इस तरह के आयोजन की सुरक्षा के बारे में अपनी चिंताओं को व्‍यक्त करते हुए पत्र लिखा था.




अप्रैल महीने में ट्रंप ने कहा था कि कोरोना वायरस के कारण नेशनल मॉल पर पिछले साल के 'सैल्यूट टू अमेरिका' इवेंट की तुलना में यह कार्यक्रम छोटा होगा, जिसने हजारों लोगों को आकर्षित किया. इसके बाद व्‍हाइट हाउस की ओर से कहा गया, 'जैसा कि राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा है कि इस वर्ष भी स्वतंत्रता दिवस समारोह होगा और इसमें भाग लेने वालों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए 2019 की तुलना में एक अलग नज़रिया होगा.'

23 राज्यों ने ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया
उधर कैलिफोर्निया की अगुआई में डिस्टि्रक्ट ऑफ कोलंबिया और चार बड़े शहरों समेत अमेरिका के 23 राज्यों ने ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुकदमा किया है. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन द्वारा ईंधन दक्षता के मानकों को कमजोर करने के फैसले के खिलाफ यह कदम उठाया गया है ट्रंप प्रशासन ने बराक ओबामा के समय में तय ईंधन दक्षता के मानकों में बदलाव किया है. मार्च में ट्रंप प्रशासन ने अंतिम नियम जारी किए थे, जिनके मुताबिक, 2026 तक सालाना 1.5 फीसद ईंधन दक्षता बढ़ाने का लक्ष्य तय किया गया है.

 

ये भी पढ़ें:-

भारत-मलेशिया की 'नई दोस्ती' तो हो गई है लेकिन जाकिर नाईक का प्रत्यर्पण नहीं आसान

स्वीडन के इतिहास में छिपा है लॉकडाउन न करने का राज, जानें पूरी कहानी

रिपोर्ट में खुलासा: पाकिस्तान से दोस्ती की बड़ी कीमत वसूल रहा है चीन

जानिए पांच वजहें, कैसे अमेरिका में कोरोना से 1 लाख लोगों ने जान गंवाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज