US Election 2020: फ्लोरिडा तय करेगा, कौन होगा US का नया राष्ट्रपति ट्रंप या बाइडन?

अमेरिका चुनाव में इतना अहम क्यों है फ्लोरिडा?
अमेरिका चुनाव में इतना अहम क्यों है फ्लोरिडा?

US Elections 2020: बता दें कि साल 1964 से फ्लोरिडा के मूड से पूरे अमेरिका के नतीजे का पता चलता रहा है. फ्लोरिडा के पास 29 इलेक्टोरल वोट हैं और ये सबसे बड़े स्विंग स्टेट में से एक माना जाता है. साल 2016 में ट्रंप ने ये राज्य 1% मार्जिन से जीता था, इलेक्टोरल मत के लिहाज से यह तीसरा बड़ा राज्य है. बता दें कि अगर ट्रंप फ्लोरिडा हार जाते हैं तो उनके जीतने की संभावना महज 1% रह जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 3, 2020, 5:19 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) में बस कुछ ही घंटों बाद राष्ट्रपति चुनाव (US Election 2020) के लिए वोटिंग शुरू हो जाएगी. उधर इलेक्शन-डे से पहले ट्रंप (Donald Trump) और बाइडन (Joe Biden) समर्थकों के बीच पूरे देश से झड़पों की ख़बरें भी आ रहीं हैं. राष्ट्रपति ट्रंप और फेसबुक सीईओ मार्क जुकरबर्ग समेत कई नामी लोग इलेक्शन रिज़ल्ट के दौरान हिंसा की आशंका जाहिर कर चुके हैं. हालांकि इस बार भी मामला फ्लोरिडा पर ही अटकता नज़र आ रहा है और जिसके खाते में यहां के 29 इलेक्टोरल वोट जाएंगे वही अमेरिका का नया राष्ट्रपति होगा.

फ्लोरिडा क्यों है अहम?
बता दें कि साल 1964 से फ्लोरिडा के मूड से पूरे अमेरिका के नतीजे का पता चलता रहा है, सिर्फ 1992 में ऐसा हुआ था कि फ्लोरिडा अपना कमाल नहीं दिखा पाया था. साल 2016 में ट्रंप ने ये राज्य 1% मार्जिन से जीता था, इलेक्टोरल मत के लिहाज से यह तीसरा बड़ा राज्य है. बता दें कि अगर ट्रंप फ्लोरिडा हार जाते हैं तो उनके जीतने की संभावना महज 1% रह जाएगी, फ्लोरिडा जीते तो लड़ाई में बने रहेंगे. एजेंसी-538 की रिसर्च के मुताबिक, अगर फ्लोरिडा में बाइडेन जीते तो ट्रंप के जीतने की संभावना 11% से 1% रह जाएगी.

बता दें कि हिलेरी क्लिंटन को 232 इलेक्टोरल मत मिले थे, जिसमें से एक भी बाइडन नहीं हार रहे हैं. फ्लोरिडा के 29 मत जुड़ गए तो 261 हो जाएंगे और उन्हें 10 राज्यों से मात्र एक जीतना होगा. ऐसे में मंगलवार को नए राष्ट्रपति का स्पष्ट पता चल जाएगा. लेकिन अगर ट्रंप ने फ्लोरिडा जीत लिया तो बाइडेन के लिए मामला फंस सकता है. फिलहाल ट्रंप के पास सिर्फ 60 सुरक्षित इलेक्टोरल वोट हैं, ट्रंप के सभी वोट मिला भी दें तो रिपब्लिकन्स के पास कुल 134 वोट ही होते नज़र आ रहे हैं. ऐसे में अगर उन्हें फ्लोरिडा के 29 वोट मिल भी जाते हैं तो भी उन्हें जीतने के लिए 107 मत और चाहिए होंगे. इस स्थिति में रिजल्ट में करीब एक हफ्ते की देरी हो सकती है.
ट्रंप ने देरी को लेकर जताई चिंता


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर अमेरिकी चुनाव रिजल्ट में देरी होने पर देश में अशांति फैलने की आशंका जाहिर की है. उन्होंने रविवार को कहा- 'वोटों की गिनती की प्रक्रिया का लंबे समय तक चलना भयावह है.' चुनाव में जीत के लिए इलेक्टोरल कॉलेज के 270 वोट काफी अहम हैं और दोनों नेताओं के बीच टक्कर कड़ी दिख रही है. चुनाव में अहम भूमिका निभाने वाले राज्यों में ट्रंप ने ताबड़तोड़ रैलियां की हैं.

अमेरिका में चुनाव नतीजे के लिए एक दो हफ्ते तक इंतजार करना पड़ सकता है. 1904 से परंपरा रही है कि चुनाव के आखिरी दिन ही नए राष्ट्रपति का खुलासा होता रहा है. इस बार कोरोना की वजह से लोग डाक से वोट भेज रहे हैं. इनके पोलिंग बूथ तक पहुंचने और गिनती में समय लग सकता है. ट्रंप लंबे वक्त तक चलने वाली इस वोटिंग को धांधली बता रहे हैं और कोर्ट जाने के संकेत दे रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज