US Election Result: मतगणना रोकने की मांग पर रिपब्लिकन नेता ही ट्रंप से सहमत नहीं

रिपब्लिकन नेता ही छोड़ने लगे हैं ट्रंप का साथ
रिपब्लिकन नेता ही छोड़ने लगे हैं ट्रंप का साथ

US Election Result 2020: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भले ही मतगणना रोकने के लिए काउंटिंग में गड़बड़ी के आरोप लगा रहे हों लेकिन उन्हीं की पार्टी में सभी लोग उनसे सहमत नहीं हैं. फ्लोरिडा से रिपब्लिकन सीनेटर मार्को रूबियो ने ट्वीट किया, 'वैध मतों की गिनती में अगर दिन लगते हैं तो यह धोखाधड़ी नहीं है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 2:36 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) भले ही चुनावों में धांधली और मतगणना रोकने की मांग लेकर जोर-शोर से कैंपेन कर रहे हों लेकिन उन्हीं की पार्टी में अब इस मुद्दे पर दो फाड़ हो गयी है. पेनसिल्वेनिया तथा अन्य राज्यों में मतगणना रोकने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रयासों से कुछ रिपब्लिकन नेताओं ने खुद को अलग कर लिया और फिर से राष्ट्रपति बनने के लिए उतावले ट्रंप को ऐसे में अपनी पार्टी में मजबूत समर्थन नहीं मिल रहा है. केंटकी में मंगलवार को सीनेट का चुनाव जीत चुके ट्रंप के सहयोगी एवं सीनेट के बहुमत नेता मिच मैककॉनेल ने संवाददाताओं से कहा कि मतगणना समाप्त नहीं हुई है और चुनाव जीतने का दावा किया जा रहा है.

फ्लोरिडा से रिपब्लिकन सीनेटर मार्को रूबियो ने ट्वीट किया, 'वैध मतों की गिनती में अगर दिन लगते हैं तो यह धोखाधड़ी नहीं है.' सीनेटर लिजा मुर्कोस्की ने कहा कि चुनाव परिणाम आ रहे हैं और सभी को संयम बरतना चाहिए. उन्होंने एक बयान में कहा, 'यह जरूरी है कि हम चुनाव अधिकारियों को उनका काम पूरा करने का समय दें और हम सुनिश्चित करें कि सारे मतों की वैध तरीके से गिनती हो.' डेमोक्रेटों पर चुनाव गलत तरह से जीतने की कोशिश करने के ट्रंप के आरोपों पर रिपब्लिकन नेता एडम किजिंगर ने कहा, 'वोट गिने जाएंगे और आप जीतेंगे या हारेंगे और अमेरिका इसे स्वीकार करेगा.' ट्रंप से सार्वजनिक रूप से मतभेद जताते हुए दिये गये रिपब्लिकन नेताओं के बयान अहमियत रखते हैं.

जनता अपना राष्ट्रपति चुनती है, राष्ट्रपति अपने मतदाता नहीं
उधर न्यूयार्क की अटॉर्नी जनरल लेटिटिया जेम्स ने अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव की निष्पक्षता पर सवाल उठाने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रति नाराजगी जताई है और कहा है कि अमेरिका में जनता अपना राष्ट्रपति खुद चुनती है और जनता की जो इच्छा है वह सुनी जाएगी. जेम्स ने कहा, 'ट्रंप की भड़काऊ, भ्रामक और विभाजनकारी बयानबाजी के बावजूद देशभर की अमेरिकी जनता को यह भरोसा दिलाया जाना चाहिए कि दोनों प्रमुख सियासी दलों के राज्यों के अधिकारियों ने इस चुनाव को निष्पक्ष और सुरक्षित तरीके से आयोजित करवाया है. देशभर के चुनाव कर्मी सभी वैध मतों की गणना पूरी मेहनत से कर रहे हैं, जैसा पहले के चुनावों में होता आया है.' उन्होंने कहा कि अमेरिका में जनता अपना राष्ट्रपति चुनती है, राष्ट्रपति अपने मतदाता नहीं चुनते. दरअसल ट्रंप ने चुनाव में धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कहा था कि 'अगर वैध मतपत्र गिने जाएं तो मैं आसानी से जीत सकता हूं.'
फेसबुक ने ‘स्टाप द स्टील’ पर पाबंदियां लगाईं


उधर फेसबुक ने बृहस्पतिवार को ‘‘स्टॉप द स्टील’’ नामक एक बड़े समूह पर पाबंदिया लगाई है जिसका इस्तेमाल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक राष्ट्रपति चुनाव की मतगणना के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए कर रहे थे. समूह के कुछ सदस्यों ने इसमें हिंसा की बात की है, तो कई ने यह गलत दावा किया है कि डेमोक्रेट्स रिपब्लिकन्स से चुनाव हड़प रहे हैं. फेसबुक की इस कार्रवाई के पहले ही 3,50,000 से अधिक उपयोक्ता समूह का सदस्य बन चुके थे. गौरतलब है कि अनेक राज्यों में मतगणना के दिन बढ़ाए जाने के बाद अचानक बहुत से समूह सामने आए हैं.

फेसबुक ने एक बयान जारी करके कहा, 'ऐसे वक्त में जब तनाव चरम पर है, हमने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए ‘स्टाप द स्टील’’ समूह को हटा दिया है.' फेसबुक ने कहा कि वह उसके नियमों का उल्लंघन करने वाले पर नजर बनाए रखेगी और ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेगी. बृहस्पतिवार दोपहर तक ‘स्टाप द स्टील’ के तर्ज पर बने एक दूसरे समूह में जुड़ने वालों की संख्या बढ़ रही थी और यह 12,000 तक पहुंच गई थी. समूह के अंदर सदस्यों ने मतदान फर्जीवाड़ा होने के गलत दावे किए और प्रदर्शन की योजना बनाई.



हिंसा के उनके आह्वान के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं है, लेकिन ‘सेंटर फॉर काउंटरिंग डिजिटल हेट’ ने उक्त समूह की एक पोस्ट की तस्वीर साझा की जिसमें कहा गया था कि 'कोई भी पक्ष हार मानने वाला नहीं। बंदूकों को साफ करने और सड़कों पर उतरने का वक्त.' ‘सेंटर फॉर काउंटरिंग डिजिटल हेट’ के सीईओ इमरान अहमद ने कहा कि समूह के संचालकों ने समूह को अन्य प्लेटफॉर्म पर स्थानांतरित करने की भी योजना बनाई थी. उन्होंने कहा, 'सबसे बड़े को बाहर निकालने से दूसरों को भी संदेश गया.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज