US Election Result के बीच बीते 24 घंटे में अमेरिका में कोरोना के 99,660 नए केस मिले

अमेरिका में कोरोना के करीब 1 लाख नए केस मिले
अमेरिका में कोरोना के करीब 1 लाख नए केस मिले

US Coronavirus Update: अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों में जारी मतगणना के बीच देश में 99000 से भी ज्यादा नए केस सामने आए हैं. WHO ने कहा है कि अमेरिका और यूरोप में दूसरी लगर की शुरूआत हो चुकी है, सर्दियों में हालात और भी ख़राब हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 11:10 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका में राष्ट्रपति चुनावों के नतीजों (US Election Result) में डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) और जो बाइडन (Joe Biden) की कड़ी टक्कर के बीच कोरोना वायरस (Coronavirus) ने भी फिर से कोहराम मचाना शुरू कर दिया है. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी (Johns Hopkins University) के अनुसार अमेरिका में पिछले 24 घंटों में कोरोना ने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. एक दिन में 99,000 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी शुरुआत से ही देश में कोरोना के मामलों पर नजर बनाए हुए है.

यूनिवर्सिटी की कोरोना अपडेट के मुताबिक मंगलवार रात 8:30 बजे से लेकर बुधवार रात 8:30 बजे तक अमेरिका में कोरोना के 99,660 नए मामले सामने आए. इस दौरान 1,112 लोगों की मौत हुई. मंगलवार को ही अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोट डाले गए थे. बता दें कि अमेरिका में कोरोना के मामले 94 लाख का आंकड़ा पार कर चुके हैं. अब तक 2,33,000 मरीजों की मौत हुई है. दूसरे नंबर पर भारत है. भारत में कोरोना के मामले 83 लाख पार हैं. 1,23,611 लोगों की मौत हुई है. इस फेहरिस्त में तीसरे नंबर पर ब्राजील है, जहां कोरोना मामलों की संख्या 55,66,049 हो गई है. वहां अब तक 1,60,496 संक्रमितों की मौत हुई है.

यूरोप में तेजी से फैल रहा है कोरोना वायरस WHO
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि यूरोप में कोविड-19 के प्रसार में “ और तेजी“ आई है. पिछले हफ्ते दुनिया में सामने आए आधे से ज्यादा मामले यहीं से थे. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी ने मंगलवार देर रात प्रकाशित अपनी साप्ताहिक रिपोर्ट में कहा कि यूरोप के देशों में पिछले हफ्ते की तुलना में मृतक संख्या में 46 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. हालांकि अमेरिका में भी मौतों का आंकड़ा बढ़ा है,लेकिन वहां यह सिर्फ दो प्रतिशत था. यूरोप में फ्रांस, इटली और ब्रिटेन में सबसे ज्यादा नए मामले सामने आए हैं.
कोविड-19 से फेफड़े नष्ट होने का कारण मिला


वैज्ञानिकों ने कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों के अंगों के नमूनों का विश्लेषण किया और पाया है कि ज्यादातर मामलों में 'आपस में जुड़ी' असामान्य कोशिकाओं की मौजूदगी की वजह से फेफड़े बेकार हो गए. यह एक ऐसा तथ्य है जो बीमारी की गंभीरता पर अधिक प्रकाश डाल सकता है. ब्रिटेन स्थित किंग्स कॉलेज लंदन के अनुसंधानकर्ताओं ने कोविड-19 से जान गंवाने वाले 41 लोगों के फेफड़े, हृदय, यकृत और वृक्क (गुर्दा) का विश्लेषण किया, ताकि नए कोरोना वायरस ‘सार्स-कोव-2’ के व्यवहार के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त की जा सके.'



यह अनुसंधान रिपोर्ट पत्रिका ‘ईबॉयोमेडिसिन’ में प्रकाशित हुई है जिसमें विषाणु के विशेष व्यवहार का खुलासा हुआ है. इससे इस बारे में व्याख्या की जा सकती है कि क्यों कई मरीजों में थकान और सांस में दिक्कत सहित बीमारी के लक्षण महीनों तक बने रहते हैं जिसे ‘दीर्घ कोविड’ कहा जाता है. विश्लेषण में ज्यादातर मामलों में फेफड़े काफी क्षतिग्रस्त पाए गए. वैज्ञानिकों के अनुसार लगभग 90 प्रतिशत रोगियों में अतिरिक्त तरह के लक्षण पाए गए जो निमोनिया के अन्य स्वरूपों की तुलना में काफी अलग थे. उन्होंने कहा कि इन लोगों के फेफड़ों की धमनियों और शिराओं में रक्त के थक्के काफी अधिक थे और फेफड़ों की अनेक कोशिकाएं असामान्य रूप से बड़ी थीं तथा कई नाभिकों से युक्त थीं. इससे विभिन्न कोशिकाएं आपस में जुड़कर एकल बड़ी कोशिकाओं के रूप में तब्दील हो गईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज