PAK समर्थक बाइडन को मिल चुका है 'हिलाल-ए-पाकिस्‍तान', भारत को रहना होगा संभल कर

पाकिस्तान के समर्थक माने जाते हैं जो बाइडन
पाकिस्तान के समर्थक माने जाते हैं जो बाइडन

US Election Result 2020: डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन (Joe Biden) के जीत के करीब पहुंचने से पाकिस्तान (Pakistan) भी काफी खुश नज़र आ रहा है. बाइडन पुराने पाकिस्तान समर्थक माने जाते हैं. बाइडन को साल 2008 में पाकिस्तान का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'हिलाल-ए-पाकिस्‍तान' भी दिया जा चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 3:50 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद/वाशिंगटन. अमेरिका राष्ट्रपति चुनाव (US Election result) में डेमोक्रेट उम्मीदवार जो बाइडन (Joe Biden) अब बहुमत से कुछ ही कदम दूर रह गए हैं. डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) प्रशासन में मुश्किलों से जूझ रहे पाकिस्तान (Pakistan) के लिए बाइडन की जीत काफी उम्मीदें लेकर आ रही है. बाइडन पुराने पाकिस्तान समर्थक माने जाते हैं. बाइडन को साल 2008 में पाकिस्तान का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'हिलाल-ए-पाकिस्‍तान' भी दिया जा चुका है. बाइडन उन कुछ अमेरिकी नेताओं में शामिल रहे हैं जो पाकिस्तान को आर्थिक मदद देने के समर्थक रहे हैं.

बाइडन को 'हिलाल-ए-पाकिस्‍तान' मिलने के पीछे भी एक कहानी है. बताया जाता है कि साल 2008 में बाइडन के प्रयासों से पाकिस्‍तान को हर साल डेढ़ बिलियन डॉलर की गैर-सैन्‍य मदद दी गयी थी. सीनेट में ये प्रस्ताव बाइडन और सीनेटर रिचर्ड लुगर लेकर आए थे. तत्कालीन पाकिस्तानी राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ने 'लगातार पाकिस्‍तान का साथ देने के लिए' बाइडन का शुक्रिया भी अदा किया था. बाइडन का मानना है कि पाकिस्तान आतंक से पीड़ित राष्ट्र है और उसकी आर्थिक मदद रोकी नहीं जानी चाहिए.

भारत को लेकर दिए हैं विवादित बयान
बता दें कि बाइडन के चुनाव प्रचार के दौरान भी कश्‍मीर मुद्दे को लेकर भारत विरोधी बयान सामने आ चुके हैं. मुस्लिम अमेरिकियों के बीच इलेक्शन कैम्पेन में उनकी टीम ने कहा कि कश्‍मीर के मुस्लिमों की तुलना बांग्‍लादेश में रोहिंग्‍या और चीन में उइगर मुसलमानों से की थी. प्रचार में भारत सरकार से आर्टिकल 370 बहाल करने को कहा गया था. बाइडन की उपराष्ट्रपति कैंडिडेट भारतवंशी कमला हैरिस भी कश्‍मीर में दखल की बात करती रही हैं. पाकिस्तान भी लगातार अमेरिका से कश्मीर मामले में दखल के लिए गुहार लगाता रहा है.
पाकिस्तान के जानकारों के मुताबिक व्हाइट हाउस में बाइडन की उपस्थिति से कर्ज में डूबे पाकिस्तान को काफी राहत मिलने जा रही है. बाइडन अपनी विदेश नीति में पाकिस्तान के साथ संबंधों को नया आयाम दे सकते हैं. पाकिस्तानी सेना के रिटॉयर्ड लेफ्टिनेंट जनरल और राजनीतिक-सैन्य मामलों के एक वरिष्ठ विश्लेषक तलत मसूद के मुताबिक बाइडन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद पाकिस्तान के साथ अमेरिका के संबंध फिर से पटरी पर लौट आएंगे. बाइडन के साथ से अंतरराष्ट्रीय मंचों पर पाकिस्तान की गरिमा लौट आने की उम्मीद है.





बता दें कि आतंकवाद और टेरर फंडिंग जैसे मुद्दों पर डोनाल्‍ड ट्रंप ने जिस तरह सार्वजनिक मंचों से बार-बार पाकिस्‍तान को लताड़ा है. उनके चार साल के कार्यकाल के दौरान अमेरिका और पाकिस्तान के संबंध काफी खराब हुए हैं. पाकिस्तान को डर है कि ट्रंप फिर से चुने गए तो वे पाकिस्तान सहित मुस्लिम-बहुल राष्ट्रों के खिलाफ अधिक कड़े कदम उठा सकते हैं. ट्रंप पहले भी मुस्लिम देशों से आने वाले नागरिकों को लेकर कई कानून बना चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज