अपना शहर चुनें

States

ट्रंप की जिद के बीच पुतिन का बड़ा बयान- मैं फिलहाल बाइडन को राष्ट्रपति नहीं मानता

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (फाइल फोटो)
रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (फाइल फोटो)

Vladimir Putin on Joe Biden: रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने कहा है कि फिलहाल जो बाइडन को अमेरिका का नया राष्ट्रपति मानकर उन्हें आधिकारिक बधाई देने का सही समय नहीं आया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2020, 3:17 PM IST
  • Share this:
मॉस्को. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने चुनावों (US Election Result) में हार मानने से इनकार करते हुए कानूनी लड़ाई का रुख किया है, हालांकि ज्यादातर जगह उनके धांधली से जुड़े आरोप कोर्ट में औंधे मुंह ही गिर रहे हैं. रविवार को पेनसेल्वेनिया की अदालत ने भी उनका केस खारिज कर दिया और जॉर्जिया में भी टीम ट्रंप को दूसरी बार रीकाउंट की अपील करनी पड़ी है. उधर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने ये कहकर सबको चौंका दिया है कि फिलहाल प्रेजिडेंट इलेक्ट जो बाइडन (Joe Biden) को आधिकारिक बधाई देने का सही समय नहीं आया है, रूस फिलहाल उन्हें राष्ट्रपति नहीं मानता है.

पुतिन ने कहा कि हम किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ काम करने के लिए तैयार हैं, लेकिन फिलहाल जो बाइडन की इलेक्शन में जीत के दावे को मानने के लिए कुछ और इंतज़ार करने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि अमेरिका की जनता ने जिसे भी लीडर पर भरोसा जताया हो हम उसके साथ काम करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. रशियन स्टेट टीवी से बातचीत में पुतिन ने कहा- किसी भी कैंडिडेट कि जीत को निश्चित तभी माना जा सकता है जब विपक्षी पार्टी ने उसकी जीत स्वीकार कर ली हो, या फिर उसकी जीत के नतीजे वैध और कानूनी तरीके से घोषित किये गए हों.





रूस पर लगे हैं आरोप
बता दें कि पुतिन उन कुछ वर्ल्ड लीडर्स में शामिल हैं जिन्होंने अभी तक बाइडन की जीत को वैध मानने और उन्हें बधाई देने से दूरी बनाई हुई है. रूस पर साल 2016 के अमेरिकी चुनावों में भी हस्तक्षेप और हैकिंग के जरिए ट्रंप को फायदा पहुंचाने के आरोप लगे थे. रूस को डर है कि बाइडन के सत्ता में आने के बाद अमेरिकी सरकार रूस को लेकर सख्त रवैया अपना सकती है.

ट्रंप के मुकदमे अदालतों में औंधे मुंह गिर रहे
बता दें कि ट्रंप एक ओर तो चुनाव परिणामों को पलटने के अपने प्रयासों को तेज करने का संकल्प ले रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनके द्वारा दी गई कानूनी चुनौतियों को देशभर के न्यायाधीश लगातार खारिज कर रहे हैं. ट्रंप का अभियान चुनाव में बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी के अपने आरोपों के समर्थन में कुछ सबूत पेश नहीं कर सका है ऐसे में अदालतों में ये मुकदमे ठहर नहीं पा रहे. विशेषज्ञों का मानना है कि चुनाव में धोखाधड़ी जैसा कुछ नहीं हुआ है तथा ट्रंप नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को जनवरी में पदभार संभालने से रोकने में कामयाब नहीं होंगे.



इस हफ्ते एक दिन के भीतर ट्रंप और उनके रिपब्लिकन सहयेागी तीन राज्यों में चुनाव परिणामों के प्रमाण-पत्र को रोकने की खातिर दर्ज करवाए गए मुकदमों में या तो हार गए या फिर वे मुकदमे खारिज कर दिए गए. एरिजोना में न्यायाधीश ने बृहस्पतिवार को रिपब्लिकन सदस्यों की ओर से चुनाव परिणामों के प्रमाण-पत्र को स्थगित करने की मांग करने वाले मुकदमे को खारिज कर दिया. इसी दिन जॉर्जिया के एक न्यायाधीश ने भी इसी तरह की मांग को लेकर दायर अनुरोध खारिज कर दिया. वहीं, मिशिगन में ट्रंप के अभियान ने अपना मुकदमा बृहस्पतिवार को वापस ले लिया. उधर पेनसेल्वेनिया की अदालत ने भी ट्रंप का मुकदमा खारिज कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज