काबुल - अमेरिका-तालिबान वार्ता पर चर्चा करने के लिए अमेरिकी दूत ने अफगान राष्ट्रपति से मुलाकात की

News18Hindi
Updated: September 2, 2019, 12:09 PM IST
काबुल - अमेरिका-तालिबान वार्ता पर चर्चा करने के लिए अमेरिकी दूत ने अफगान राष्ट्रपति से मुलाकात की
अमेरिका और तालिबान वार्ताकारों के बीच हो सकता है समझौता

अफगानिस्तान में 18 साल से जारी संघर्ष को खत्म करने के लिए अमेरिका और तालिबान वार्ताकारों के बीच जल्द ही समझौता हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 2, 2019, 12:09 PM IST
  • Share this:
अफगानिस्तान (Afghanistan) के एक अधिकारी ने बताया कि अमेरिका (America) के राजदूत जालमे खलीलजाद ने राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) से काबुल में मुलाकात की और उन्हें तालिबान (Taliban) के साथ हाल ही में हुई बातचीत की जानकारी दी. तालिबान के साथ अफगानिस्तान में संघर्ष समाप्त करने के लिए बातचीत हो रही है.

अफगानिस्तान में 18 साल से जारी संघर्ष को खत्म करने के लिए अमेरिका और तालिबान वार्ताकारों के बीच जल्द ही समझौता हो सकता है. दोनों पक्ष समझौते के काफी करीब आ गए हैं और आने वाले कुछ दिनों में दोनों के बीच समझौता हो जाएगा. अमेरिका के एक शीर्ष वार्ताकार ने रविवार को इसकी जानकारी दी.

अमेरिका के अफगान सुलह के लिए विशेष प्रतिनिधि जल्‍माय खलीलजाद ने ट्वीट कर बताया ' हम समझौते के दहलीज पर हैं, इससे यहां हिंसा में कमी आएगी. गनी के प्रवक्ता सादिक सिद्दिकी ने पुष्टि की है कि यह बैठक कतर से खलीलजाद के यहां पहुंचने के शीघ्र बाद राष्ट्रपति निवास में रविवार रात हुई. कतर में तालिबान के साथ नौंवे चरण की वार्ता बिना किसी अंतिम निर्णय के खत्म हुई थी.

सिद्दिकी ने सोमवार को कहा कि इस बैठक का ब्यौरा राष्ट्रपति निवास जल्द ही जारी करेगा. खलीलजाद ने सप्ताहांत में कहा था कि अमेरिका और तालिबान समझौते के करीब हैं. हालांकि इस बीच तालिबान ने कुंदुज प्रांत और बगलान प्रांत की राजधानियों में हमले किए.

उन्होंने बताया कि अमेरिका और तालिबान के बीच इस बात को लेकर सहमति बन गई है कि अफगानिस्तान से विदेशी बलों की वापसी 15 से 24 महीने के अंदर हो जाएगी.

ये भी पढ़ें : लेबनान से इज़राइली सैन्य ठिकानों पर कई हमले किए गए: इज़राइल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 2, 2019, 12:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...