भारत-चीन सैनिकों की हिंसक झड़प पर पहली बार बोला अमेरिका- शहीदों को याद रखेंगे

भारत-चीन सैनिकों की हिंसक झड़प पर पहली बार बोला अमेरिका- शहीदों को याद रखेंगे
अमेरिका ने भारत के प्रति जताई संवेदना

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने ट्वीट कर शहीद हुए भारतीय सैनिकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. हालांकि अमेरिका और चीन रिश्तों में आई खटास दूर करने की कोशिशें कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 19, 2020, 11:40 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. भारत और चीन के सैनिकों में हुई हिंसक झड़प (India-China Rift) पर अमेरिका (US) की तरफ से पहली बार कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया आई है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने ट्वीट कर शहीद हुए भारतीय सैनिकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. हालांकि अमेरिका और चीन (China) रिश्तों में आई खटास दूर करने की कोशिशें कर रहे हैं. इसी क्रम में माइक पोम्पियो ने हवाई में गुरुवार को चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जिची के साथ सात घंटे बैठक की थी.

माइक पोम्पियो ने ट्वीट कर कहा- 'हम चीन के साथ हाल में हुए संघर्ष की वजह से हुई मौतों के लिए भारत के लोगों के साथ गहरी संवेदना जताते हैं. हम इन सैनिकों के परिवारों, उनके आत्मीय जनों और समुदायों को हमेशा याद रखेंगे. ऐसे समय जब वो शोक मना रहे हैं.' बता दें कि एक तरफ भारत-चीन की समा पर तनाव जारी है वहीं अमेरिका और चीन के बीच अब रिश्तों की तल्खियां कम होती नज़र आ रही हैं. मिली जानकारी के मुताबिक पोम्पियो और यांग जिची के बीच डिनर टेबल पर भी काफी देर बातचीत हुई और दोनों मुस्कुराते हुए प्रेस के सामने आए.

 
 




बीच का रास्ता निकाल रहे हैं चीन-अमेरिका
जानकारों के मुताबिक खासकर व्यापार में अमेरिका और चीन के बीच अरबों डॉलर का रिश्ता है. कोरोना संक्रमण से दोनों देशों की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंचा है ऐसे में दोनों ही देश कटुता छोड़कर बीच का रास्ता निकालने के लिए तैयार हो गए हैं.

ये भी पढें:

मणिपुर में क्यों अचानक खतरे में आ गई बीजेपी सरकार?

क्या होगा अगर सारे वायरस दुनिया से गायब हो जाएं तो?

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने ट्वीट कर शहीद हुए भारतीय सैनिकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. हालांकि अमेरिका और चीन रिश्तों में आई खटास दूर करने की कोशिशें कर रहे हैं.दोनों देशों के बीच की इस बैठक को इस रूप में भी देखा जा रहा है कि अमरीका और चीन तनाव को बढ़ने नहीं देना चाहते हैं. यांग ने अमरीका से कहा है कि वो हॉन्ग कॉन्ग, ताइवान और शिन्जियांग मामले में कोई दखल ना दे क्योंकि यह उसका आंतरिक मामला है. उधर पोम्पियो ने कहा है कि कोविड-19 महामारी को लेकर चीन सूचना साझा करने के मामले में पूरी पारदर्शिता दिखाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज