US में हालात ख़राब लेकिन ट्रंप का दावा- हमने सबसे ज्यादा कोविड-19 टेस्ट किए, उठे सवाल

US में हालात ख़राब लेकिन ट्रंप का दावा- हमने सबसे ज्यादा कोविड-19 टेस्ट किए, उठे सवाल
ट्रंप का दावा- अमेरिका ने किए सबसे ज्यादा टेस्ट, उठे सवाल

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) लगातार अपने बयानों को लेकर आलोचनाओं का शिकार हो रहे हैं. ट्रंप ने एक नया दावा किया है कि दुनिया में अमेरिका ही कोरोना टेस्ट (Covid-19) सबसे ज्यादा कर रहा है, हालांकि जॉन होपकिंस यूनिवर्सिटी और कई अन्य स्त्रोत ऐसा नहीं मानते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 14, 2020, 10:20 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से सबसे बुरी तरह प्रभावित देशों में अमेरिका (US) टॉप पर बना हुआ है. यहां 34 लाख से ज्यादा केस मिल चुके हैं जबकि 1 लाख 34 हज़ार से ज्यादा लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है. उधर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) लगातार अपने बयानों को लेकर आलोचनाओं का शिकार हो रहे हैं. ट्रंप ने एक नया दावा किया है कि दुनिया में अमेरिका ही कोरोना टेस्ट (Covid-19) सबसे ज्यादा कर रहा है, हालांकि जॉन होपकिंस यूनिवर्सिटी और कई अन्य स्त्रोत ऐसा नहीं मानते हैं.

ट्रंप ने कहा है कि कोविड-19 संबंधी अमेरिका का जांच कार्यक्रम दुनिया में सबसे बड़ा है, जो कि रूस, चीन, भारत और ब्राजील जैसे बड़े देशों से बेहतर है. ट्रंप ने व्हाइट हाउस में बैठक में कहा, 'हमारा देश उन देशों में शामिल है, जहां मरने वालों की दर सबसे कम है.' राष्ट्रपति ने कहा कि उनके प्रशासन द्वारा व्यापक स्तर पर जांच अभियान चलाने की वजह से इतने अधिक मामले हैं. उन्होंने कहा, 'हम बाकियों की तुलना में अधिक जांच करते हैं. जब आप जांच करते हैं तो मामले सामने आते हैं. मैं आपको बता सकता हूं कि कुछ देश किसी के अस्पताल या डॉक्टर के पास आने पर ही जांच करते हैं. वे इस तरह से जांच करते हैं, इसलिए उनके देश में मामले सामने नहीं आ रहे.

जल्द मिलेगी वैक्सीन
ट्रंप ने एक सवाल के जवाब में कहा, 'हम बेहतरीन काम कर रहे हैं. हम टीका बनाने को लेकर अच्छा काम कर रहे हैं....हम उपचार पद्धति को लेकर अच्छा काम कर रहे हैं. मुझे लगता है कि हमें जल्द ही अच्छी खबर सुनने को मिलेगी.' राष्ट्रपति ने कहा, 'हम अभी तक निश्चित तौर पर अच्छा कर रहे हैं। हमारा जांच कार्यक्रम विश्व में सर्वश्रेष्ठ है. अगर आप चीन, रूस या अन्य किसी देश, या भारत को ही देखेंगे... तो आप पाएंगे कि हम काफी बड़ी संख्या में जांच कर रहे हैं. ब्राजील से भी अधिक. आपको पता है कि ब्राजील एक बड़ी समस्या का सामना कर रहा है लेकिन वे भी हमारी तरह जांच नहीं कर रहा.' एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा कि दुनिया इस संक्रमण के लिए चीन को कभी माफ नहीं करेगी.





दावे में कितनी सच्चाई? 
वेबसाइट वर्ल्डमीटर के मुताबिक रूस के मामले में ट्रंप का दावा गलत है क्योंकि अमेरिका में 10 लाख लोगों में से 1,30,645 का टेस्ट किया जा रहा है जबकि रूस में ये दर 1, 58,973 है. भारत-ब्राजील देशों में ये दर काफी कम है लेकिन फिर भी यूके में ये 1,78,630, क़तर में 1,48,275, UAE में 4,04,275, सिंगापुर में 1,48,056, बहरीन में 3,96,678 और डेनमार्क में 2,14,880 है, जो कि अमेरिका से काफी ज्यादा है. कुल टेस्ट की बात करें तो चीन 9 करोड़ से ज्यादा टेस्ट कर चुका है जबकि अमेरिका अभी 4 करोड़ पर ही है. रूस में करीब 2.3 करोड़ जबकि भारत में 1 करोड़ से कुछ ज्यादा ही लोगों के कोरोना टेस्ट हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading