ट्रंप का दावा- US ने किए सबसे ज्यादा Covid-19 टेस्ट, दूसरे नंबर पर है भारत

अमेरिका ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए की भारत की तारीफ
अमेरिका ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए की भारत की तारीफ

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए भारत सरकार (Modi Government) द्वारा उठाए गए क़दमों की एक बार फिर तारीफ की है. ट्रंप ने मंगलवार को दावा किया कि सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण टेस्ट अमेरिका ने किए हैं जबकि इस मामले में दूसरे नंबर पर भारत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 22, 2020, 10:42 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटने के लिए भारत सरकार (Modi Government) द्वारा उठाए गए क़दमों की एक बार फिर तारीफ की है. ट्रंप ने मंगलवार को दावा किया कि सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण टेस्ट अमेरिका ने किए हैं जबकि इस मामले में दूसरे नंबर पर भारत है. ट्रंप ने इससे पहले भी सबसे ज्यादा टेस्ट किए जाने का दावा किया था हालांकि कोरोना से जुड़े आंकड़े उपलब्ध कराने वाली संस्थाओं के मुताबिक चीन ने सबसे ज्यादा टेस्ट किए हैं.

बता दें कि अमेरिका में अभी तक 1,40,000 से अधिक लोगों की कोविड-19 से जान जा चुकी है और संक्रमण के 38 लाख मामले सामने आए हैं. ट्रंप ने कोरोना वायरस की जानकारी देने के लिए कई सप्ताह बाद व्हाइट हाउस में आयोजित किए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हम संक्रमण के कारण मारे गए लोगों के लिए एक परिवार के तौर पर शोक मनाते हैं. मैं उनके सम्मान में संकल्प करता हूं कि हम टीका बनाएंगे और वायरस को मात देंगे. हम टीका बनाने और चिकित्सीय निदान ढूंढने की दिशा में बेहतर कर रहे हैं. हमने वायरस के बारे में बहुत कुछ जान लिया है और हमें पता है कि कौन खतरे में हैं और हम उनकी रक्षा करेंगे. ट्रंप ने आश्वासन दिया कि कोरोना वायरस का टीका उम्मीद से काफी पहले आ जाएगा.


अमेरिका है सबसे बेहतर स्थिति में: ट्रंपभले ही अमेरिका में दुनिया के सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमण के करीब 40 लाख से ज्यादा केस आ चुके हों ट्रंप का मानना है कि अमेरिका फ़िलहाल बेहतर स्थिति में है. ट्रंप ने कहा है कि कोविड-19 संबंधी अमेरिका का जांच कार्यक्रम दुनिया में सबसे बड़ा है, जो कि रूस, चीन, भारत और ब्राजील जैसे बड़े देशों से बेहतर है. ट्रंप ने कहा, 'हमारा देश उन देशों में शामिल है, जहां मरने वालों की दर सबसे कम है.' उन्होंने कहा, 'हम बाकियों की तुलना में अधिक जांच करते हैं. जब आप जांच करते हैं तो मामले सामने आते हैं. मैं आपको बता सकता हूं कि कुछ देश किसी के अस्पताल या डॉक्टर के पास आने पर ही जांच करते हैं. वे इस तरह से जांच करते हैं, इसलिए उनके देश में मामले सामने नहीं आ रहे.



ट्रंप ने कोविड-19 की जांच के संबंध में किए गए सवाल के जवाब में कहा कि अमेरिका इसमें 'सबसे आगे' है. उन्होंने कहा, 'हम जल्द ही पांच करोड़ का आंकड़ा पार कर देंगे. दूसरे नंबर पर भारत है, जिसने 1.2 करोड़ जांच की हैं. मुझे लगता है कि हम व्यापक स्तर पर जांच कर रहे हैं.' वहीं एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वायरस की स्थिति बेहतर होने से पहले बदतर हो सकती है. उन्होंने कहा, 'यह दुर्भाग्यवश, बेहतर होने से पहले बदतर हो सकती है.' इस दौरान ट्रंप ने कई बार कोरोना वायरस को ‘चीनी वायरस’ भी कहा. राष्ट्रपति ने मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील भी की. उन्होंने कहा, 'आपको अच्छा लगे या नहीं, लेकिन इससे फायदा हो रहा है.'

चीन और रूस का नहीं लिया नाम
वेबसाइट वर्ल्डमीटर के मुताबिक चीन और रूस के मामले में ट्रंप का दावा गलत है क्योंकि अमेरिका में 10 लाख लोगों में से 1,50,745 का टेस्ट किया जा रहा है जबकि रूस में ये दर 1,74,383 है. भारत-ब्राजील देशों में ये दर काफी कम है लेकिन फिर भी यूके में ये 199,874, क़तर में 160,684, UAE में 462,389, सिंगापुर में 199,908, बहरीन में 3,96,678 और डेनमार्क में 2,14,880 है, जो कि अमेरिका से काफी ज्यादा है. कुल टेस्ट की बात करें तो चीन 9 करोड़ से ज्यादा टेस्ट कर चुका है जबकि अमेरिका अभी 5 करोड़ पर ही है. रूस में करीब 2.5 करोड़ जबकि भारत में 1.4 करोड़ से कुछ ज्यादा ही लोगों के कोरोना टेस्ट हुए हैं.

चीन पर फिर साधा निशाना
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोनावायरस को लेकर चीन पर एक और बेहद गंभीर आरोप लगाया है. ट्रंप ने कहा- इसमें कोई शक नहीं कि कोरोनावायरस चीन से आया है. वो चाहता तो इसे रोक सकता था. उसे यही करना भी चाहिए था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया. ट्रंप ने फरवरी में ही आरोप लगाया था कि कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर की लैब से निकला. व्हाइट हाउस के ओवल ऑफिस में मीडिया से बातचीत के दौरान ट्रंप चीन को लेकर काफी सख्त दिखे. एक सवाल के जवाब में उन्होंने साफ कहा, 'इसमें कोई शक नहीं कि कोरोनावायरस चीन से ही निकला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज