US: लॉरा तूफान के चलते एक हफ्ते से बिजली व पानी गुल, जनरेटर के धुएं से हो रही मौत

अमेरिका में आए लॉरा तूफ़ान ने बहुत तबाही मचाई.

अमेरिका में आये विनाशकारी तूफ़ान (Laura Storm) के हल्के पड़ने के बाद साफ सफाई का काम शुरू हो गया है. हालांकि सरकार अभी भी वापिस लौट रहे निवासियों को हफ्तों बिजली, पानी (No Water, No Electricity) जैसी सुविधाओं के बहाल न हो पाने की चेतावनी दे रही है.

  • Share this:
    वाशिंगटन. अमेरिका में आये विनाशकारी तूफ़ान (Laura Storm) के हल्के पड़ने के बाद साफ सफाई का काम शुरू हो गया है. हालांकि सरकार अभी भी वापिस लौट रहे निवासियों को हफ्तों बिजली, पानी (No Water, No Electricity) जैसी सुविधाओं के बहाल न हो पाने की चेतावनी दे रही है. शनिवार को इस तूफ़ान से मरने वालों की संख्या बढ़कर 16 तक पहुँच गई. इनमें से कई मौतें जनरेटर के असुरक्षित संचालन से पैदा हुई कार्बन मोनोऑक्साइड (People Died With Carbon Mono Oxyide) की विषाक्तता के कारण हुई हैं. हालिया मौतों में 80 वर्षीय एक महिला और 84 वर्षीय एक व्यक्ति भी शामिल हैं जिनकी मौत इसी तरह के जहर से हुई थी.

    राष्ट्रपति तूफ़ान पीड़ित जगहों का दौरा करेंगे

    राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को लुइसियाना और टेक्सास में तूफ़ान से हुए नुकसान का दौरा करने की योजना बनाई है. साथ ही उनके द्वारा राहत कार्यों पर ब्रीफिंग लेने की भी उम्मीद है. व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जुड डीरे ने कहा कि ट्रम्प लौरा तूफ़ान से प्रभावित हुए लोगों से मिलने के लिए यह दौरा करेंगे. दक्षिण-पश्चिमी लुइसियाना के लोग तूफ़ान से हुई तबाही की गंदगी सफाई कर रहे थे. यह तूफ़ान गुरूवार की सुबह आया था जिस दौरान 150 मील प्रति घंटे (240 किलोमीटर प्रति घंटे) की हवा चल रही थी. इस तूफ़ान के बाद लोग यह तय नहीं कर पा रहे कि स्थितियों में अपने घर लौटें या तब तक इन्तजार करें जब तक उनके इलाके में बुनियादी सुविधाएं बहाल नहीं हो जाती.

    सड़कों पर अभी भी चलना हो रहा है मुश्किल

    तूफ़ान ने अपने पीछे तलछट और मलबा छोड़ दिया है जिसके चलते सड़क पर चलना भी असम्भव सा है. तूफ़ान ने क्रियोल के साउथ कैमरन हाई स्कूल में इमारत की इमारत की छत के कुछ हिस्सों को बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया है. लेक चार्ल्स के एक फर्स्ट यूनाइटेड मेथोडिस्ट चर्च में शुक्रवार को तूफ़ान के कारण पानी भर गया. शहर की सड़कों पर गाडी चला लेना एक उपलब्धि जैसा हो गया है. टूटी पावर लाइन्स और पेड़ों ने सड़कों को ब्लॉक कर दिया है जिसके चलते ड्राइवरों को यातायात से निबटने के लिए उनके हाल पर छोड़ दिया गया है. सड़कों पर स्ट्रीट साइन अपने स्थान से हट गए हैं.

    ये भी पढ़ें: फ्रांसीसी पत्रिका ने अश्वेत महिला सांसद को दास के रूप में दिखाया, बवाल हुआ तो मांगी माफी 

    जापान में शिंजो आबे के इस्तीफे के बाद सुगा प्रधानमंत्री पद के सबसे प्रमुख दावेदार

    मेयर निक हंटर ने आगाह किया कि बिजली पानी बहाल करने के लिए कोई समयसीमा नहीं दी जा सकती. हंटर ने फेसबुक पर लिखा कि तूफ़ान के चलते इलाके से निकल गए निवासी अगर वापिस अपने घर लौटना चाहते हैं तो उन्हें वास्तविक स्थितियों के लिए खुद को तैयार रखना होगा और बिना बिजली पानी के कई दिन रहना होगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.