अमेरिका को हवाई हमले का अंदेशा, बैन कर सकता है अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में लैपटॉप

अमेरिका के आंतरिक सुरक्षा मंत्री जॉन केली ने कहा कि 'वास्तविक खतरे की आशंका' के मद्देनज़र देश में आने वाली और वहां से जाने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में लैपटॉप लाने-ले जाने पर प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं.

अमेरिका के आंतरिक सुरक्षा मंत्री जॉन केली ने कहा कि 'वास्तविक खतरे की आशंका' के मद्देनज़र देश में आने वाली और वहां से जाने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में लैपटॉप लाने-ले जाने पर प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं.

  • Share this:
    अमेरिका के आंतरिक सुरक्षा मंत्री जॉन केली ने रविवार को कहा कि 'वास्तविक खतरे की आशंका' के मद्देनज़र वो देश में आने वाली और वहां से जाने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में लैपटॉप लाने-ले जाने पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं.

    एक सवाल के जवाब में केली ने कहा, 'वास्तविक खतरा है. उड़ानों के खिलाफ कई खतरे हैं.' केली ने कहा कि आतंकवादी 'उड़ान भर रहे विमान, विशेष रूप से अमेरिकी विमान, को मार गिराने की फिराक में हैं.'

    केली ने ये बयान मेमोरियल डे वीकेंड पर दिया. ये बयान ऐसे समय पर आया है जब मैंचेस्टर में एक कॉन्सर्ट के दौरान धमाके हुए हैं और ब्रिटेन ने इस बात पर चिंता ज़ाहिर की है कि आगे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में बारूद भरकर धमाके किए जा सकते हैं

    प्रतिबंध लगने से यूरोप और अमेरिका के बीच उड़ानों पर काफी असर पड़ेगा. विमानन इंडस्ट्री के आंकड़ों के मुताबिक एक हफ्ते में यूरोपी संघ और अमेरिका के बीच करीब 3,250 उड़ाने भरी जाएंगी.

    अगर केली के लैपटॉप बैन पर अमल होता है तो स्मार्टफोन से बड़ी सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइज़ पर प्रतिबंध लग जाएंगे. इसमें मध्य पूर्व और उत्तर अफ्रीका के 10 एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाली हवाई जहाज़ों पर ये लागू होगा.

    इस नियम से जो देश प्रभावित होंगे उनमें से तुर्की, जॉर्डन, मिस्र, सऊदी अरब, कुवैत, कतर, यूएई और मोरक्को शामिल होंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.