Home /News /world /

अमेरिका ने पाकिस्तान को दी 862 करोड़ रुपये की सैन्य ब्रिक्री मंजूरी

अमेरिका ने पाकिस्तान को दी 862 करोड़ रुपये की सैन्य ब्रिक्री मंजूरी

पेंटागन ने कांग्रेस को अपने इस फैसले की जानकारी शुक्रवार को दी. इसके तहत एफ-16 लड़ाकू विमानों के प्रयोग पर नजर रखी जा सकेगी.

पेंटागन ने कांग्रेस को अपने इस फैसले की जानकारी शुक्रवार को दी. इसके तहत एफ-16 लड़ाकू विमानों के प्रयोग पर नजर रखी जा सकेगी.

यह मंजूरी एफ-16 लड़ाकू विमानों पर 24 घंटे नजर रखने के लिए है. इस धन का उपयोग पाकिस्तान में एफ-16 विमानों के प्रयोग पर नजर रखने के लिए 60 अमेरिकी ठेकेदारों के वेतन के लिए किया जाएगा.

    अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की बैठक के कुछ दिन बाद पेंटागन ने पाकिस्तान को 862 करोड़ रुपये (12.50 करोड़ डॉलर) की सैन्य बिक्री की मंजूरी दे दी है. पेंटागन ने कांग्रेस को अपने इस फैसले की जानकारी शुक्रवार को दी. इसके तहत एफ-16 लड़ाकू विमानों के प्रयोग पर नजर रखी जा सकेगी. पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा सहायता से जुड़ी अमेरिका की नीति में इससे कोई बदलाव नहीं आया है. बता दें कि अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा सहायता पर रोक लगा रखी है.

    'अधिसूचना का मतलब पाक को सैन्य सहायता शुरू करना नहीं'

    राजनयिक सूत्रों के मुताबिक, पेंटागन की यह अधिसूचना पाकिस्तान के लिए फिर से सैन्य सहायता शुरू करना नहीं है. लड़ाकू विमान के लिए 12.50 करोड़ डॉलर मामूली राशि है. यह मंजूरी लड़ाकू विमानों पर 24 घंटे नजर रखने के लिए है. यह विदेशी सैन्य बिक्री (एफएमएस) के तहत है. आसान शब्दों में समझें तो पाकिस्तान को इसके लिए भुगतान करना होगा. इसमें अमेरिकी करदाता का पैसा शामिल नहीं होगा. इस धन का उपयोग पाकिस्तान में एफ-16 विमानों के प्रयोग पर नजर रखने के लिए 60 अमेरिकी ठेकेदारों के वेतन के लिए किया जाएगा.

    सुरक्षा सहायता पर रोक के आदेश में नहीं किया गया है बदलाव 

    अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान को दी जाने वाली सुरक्षा सहायता पर रोक लगाने के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के जनवरी, 2018 के आदेश में कोई बदलाव नहीं किया गया है. अधिकारी ने कहा, 'राष्ट्रपति ट्रंप ने हाल में दोहराया था कि हम हमारे संबंधों के व्यापक स्वरूप के अनुरूप कुछ सुरक्षा सहायता कार्यक्रम बहाल करने पर विचार कर रहे हैं.' यह अधिसूचना पेंटागन की ओर से शुक्रवार को कांग्रेस को भेजी गई. अधिकारी ने कहा कि इससे अमेरिकी प्रौद्योगिकी की रक्षा होगी, जिससे अमेरिका की विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूती मिलेगी.

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल में दोहराया था कि हम पाकिस्तान के साथ संबंधों के व्यापक स्वरूप के अनुरूप कुछ सुरक्षा सहायता कार्यक्रम बहाल करने पर विचार कर रहे हैं.


    पाक ने अमेरिका से किया था तकनीकी सहयोग जारी रखने का आग्रह 

    रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी ने कहा कि विदेश मंत्रालय ने एफ-16 कार्यक्रम को सहयोग करने के लिए तकनीकी सुरक्षा दल (टीएसटी) के लिए पाकिस्तान को 12.50 करोड़ डॉलर की अनुमानित कीमत की संभावित विदेशी सैन्य बिक्री की मंजूरी देने का निर्णय लिया है. पाकिस्तान ने 'पाकिस्तान शांति मुहिम' उन्नत एफ- 16 कार्यक्रम के सहयोग में अभियानों पर नजर रखने में मदद के लिए अमेरिकी सरकार से तकनीकी सहयोग सेवा जारी रखने का अनुरोध किया था. बता दें कि पाकिस्तान ने बालाकोट में भारतीय वायुसेना के हवाई हमले के बाद भारत के खिलाफ एफ-16 लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल किया था.

    ये भी पढ़ें:

    जानिए अब भारत से कौन सा सामान सबसे ज्यादा खरीद रहा है अमेरिका

    Tags: Defence Ties, Donald Trump, Fighter jet, Imran khan, US Pakistan

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर