लाइव टीवी
Elec-widget

डेमोक्रेट नैंसी पलोसी ने कहा, अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप स्‍वीकार चुके हैं रिश्‍वतखोरी की बात

News18Hindi
Updated: November 15, 2019, 1:06 PM IST
डेमोक्रेट नैंसी पलोसी ने कहा, अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप स्‍वीकार चुके हैं रिश्‍वतखोरी की बात
अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की स्‍पीकर नैंसी पलोसी ने कहा कि राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने जो भी स्‍वीकार किया है वो उनके खिलाफ महाभियोग के लिए काफी है.

कांग्रेस में शीर्ष डेमोक्रेट नैंसी पलोसी (Nancy Pelosi) ने कहा, अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) ने यूक्रेन (Ukraine) के राष्ट्रपति पर सैन्य मदद की घूस के बदले प्रतिद्वंद्वी डेमोक्रेट (Democrat) के खिलाफ राजनीतिक जांच के लिए दबाव बनाया. ये एक तरह से घूसखोरी (Bribery) ही है. हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्‍स (House of Representatives) की स्‍पीकर ने कहा कि ये पूरा घटनाक्रम अमेरिकी संविधान में महाभियोग चलाए जाने लायक अपराध है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 15, 2019, 1:06 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका (US) में राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ महाभियोग (Impeachment) की सुनवाई चल रही है. इस बीच, डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) ने ट्रंप के फैसलों के खिलाफ अपना रुख कड़ा कर लिया है. हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव्‍स की स्‍पीकर नैंसी पलोसी (Nancy Pelosi) ने गुरुवार को कहा कि ट्रंप यूक्रेन के मामले में घूसखोरी की बात पहले ही स्‍वीकार कर चुके हैं. उन्‍होंने कहा कि यह अमेरिकी संविधान के तहत महाभियोग चलाने लायक मामला है. इस मामले की पहली सार्वजनिक सुनवाई के बाद कांग्रेस में शीर्ष डेमोक्रेट सांसद पलोसी ने कहा कि ट्रंप ने यूक्रेन (Ukraine) के राष्ट्रपति पर सैन्य मदद की घूस के बदले प्रतिद्वंद्वी डेमोक्रेट (Democrat) के खिलाफ राजनीतिक जांच के लिए दबाव बनाया. ये एक तरह से घूसखोरी (Bribery) ही है.

दो डेमोक्रेट्स के खिलाफ जांच के लिए यूक्रेन पर बनाया दबाव
पलोसी ने कहा कि राष्‍ट्रपति ने जो भी स्‍वीकार किया है वो उनके खिलाफ महाभियोग के लिए काफी है. ये घूसखोरी है. ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने अपने विरोधी जो बिडेन (Joe Biden) और उनके बेटे के खिलाफ यूक्रेन की गैस कंपनी में भ्रष्टाचार के मामले (Corruption Case) की जांच के लिए यूक्रेन पर दबाव डाला. इस मामले में जांच समिति ने कहा था कि राष्ट्रपति ने ताकत का दुरुपयोग कर राष्ट्रीय सुरक्षा और चुनाव प्रक्रिया की गोपनीयता से समझौता किया. समिति के पास इसके सबूत हैं. सदन की 4 समितियों ने संयुक्त बयान में कहा था कि इन सबूतों से स्पष्ट हो जाएगा कि राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने 2020 के चुनावों को प्रभावित करने के लिए ताकत का दुरुपयोग किया. डेमोक्रेट जांच कर रहे हैं कि अपने राजनीतिक फायदे के लिए ट्रंप ने यूक्रेन को 391 डॉलर की अमेरिकी सैन्‍य मदद मुहैया कराई ताकि दो डेमोक्रेट्स की जांच के लिए दबाव बनाया जा सके.

ट्रंप को हटाए जाने पर सीनेट में सहमति बनना है मुश्किल

प्रतिनिधि सभा (House of Representatives) ने अमेरिका के एक सहयोगी देश को रूस समर्थित अलगाववादियों (Russia-backed Separatists) के खिलाफ लड़ाई के लिए यह मदद देने की मंजूरी दी थी, जो यूक्रेन को दे दी गई. हालांकि, ट्रंप ने कुछ भी गलत करने से इनकार कर दिया है. अब शुक्रवार को दूसरी सार्वजनिक सुनवाई के दौरान यूक्रेन में अमेरिका की पूर्व राजदूत मारिया योवानोविच (Marie Yovanovitch) की गवाही होगी. अमेरिका में नवंबर, 2020 में होने वाले राष्‍ट्रपति चुनाव से पहले ही ट्रंप पर पद से हटाए जाने का खतरा बढ़ गया है. अगर प्रतिनिधि सभा ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के अनुच्‍छेदों (Articles of Impeachment) में औपचारिक आरोप लगाने की अनुमति दे देती है तो सीनेट (Senate) राष्‍ट्रपति को दोषी मानते हुए हटाए जाने या बनाए रखने पर सुनवाई करेगी. बता दें कि सीनेट में रिपब्लिकन (Republicans) का दबदबा है. ऐसे में ट्रंप को हटाए जाने पर सीनेट में सहमति बन पाना मुश्किल है.

डेमोक्रेट्स ने ट्रंप के बारे में घूसखोरी शब्‍द का इस्‍तेमाल शुरू किया
पलोसी के बयान से समझा जा सकता है कि डेमोक्रेट्स डोनाल्‍ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के अनुच्‍छेदों में आरोप लगाने की मंजूरी दे देंगे. पलोसी ने कहा, 'ट्रंप प्रशासन भी स्‍वीकार कर चुका है कि जांच में गवाही के लिए बुलाए गए अधिकारियों को रोका जा रहा है.' अमेरिकी संविधान के मुताबिक, देशद्रोह, घूसखोरी या इससे बड़े अपराध और दुराचार महाभियोग के लायक अपराध हैं. डेमोक्रेट्स ने ट्रंप के बारे में बातचीत के दौरान घूसखोरी शब्‍द का इस्‍तेमाल करना शुरू कर दिया है. जांच में बाधा डालना महाभियोग का एक और अनुच्‍छे हो सकता है. रिपब्लिकंस का कहना है कि प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेट्स ने राष्‍ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के अनुच्‍छेदों में आरोप तय करने को मंजूरी बनाने का मन पहले ही बना लिया है. पलोसी ने इस पर इनकार करते हुए कहा कि किसी भी निर्णय के लिए जांच जरूरी है. मामले में जांच के बाद ये फैसला लिया गया है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

UNESCO में भारत ने कहा - पाकिस्‍तान के डीएनए में ही है आतंकवाद

ब्राजील में पुतिन से मिले PM, और मजबूत हुई भारत-रूस की रणनीतिक साझेदारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 15, 2019, 1:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...