लाइव टीवी
Elec-widget

डोनाल्‍ड ट्रंप की अफगान यात्रा में बरती गई गोपनीयता, एयर फोर्स वन की विंडोज और लाइट्स तक रखी गई थीं बंद

News18Hindi
Updated: November 29, 2019, 1:06 PM IST
डोनाल्‍ड ट्रंप की अफगान यात्रा में बरती गई गोपनीयता, एयर फोर्स वन की विंडोज और लाइट्स तक रखी गई थीं बंद
अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के साथ गए पत्रकारों को भी लैंडिंग से दो घंटे पहले ही बताया गया कि वे कहां जा रहे हैं.

अफगानिस्‍तान के लिए अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) की 25 घंटे की हवाई यात्रा को पूरी तरह से गोपनीय रखा गया था. साथ गए पत्रकारों को भी नहीं पता था कि वे कहां जा रहे हैं. दरअसल, जब भी अमेरिका के कमांडर-इन-चीफ (US commander-in-chief) युद्ध क्षेत्र में सैनिकों से मिलने जाते हैं तो इस तरह की गोपनीयता (Secrecy) प्रोटोकॉल का हिस्‍सा होती है. ट्रंप अमेरिकी सैनिकों के साथ 'थैंक्सगीविंग' (Happy Thanksgiving) छुट्टियां मनाने के लिए अचानक अफगानिस्तान (Afghanistan) की यात्रा पर पहुंच गए थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 29, 2019, 1:06 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) 'थैंक्‍सगिविंग डे' की पूर्व संध्‍या पर चंद करीबी अधिकारियों को लेकर सैन्‍य विमान से अफगानिस्‍तान (Afghanistan) पहुंच गए. ट्रंप फ्लोरिडा (Florida) से उड़ान भरने के करीब 25 घंटे बाद पहली बार अफगानिस्‍तान में खड़े थे. यह किसी युद्ध क्षेत्र (War Zone) में बतौर राष्‍ट्रपति यह उनकी दूसरी यात्रा थी. पिछले साल वह क्रिसमस की पूर्व संध्‍या पर इराक (Iraq) पहुंच गए थे. तीन करीबी लोगों के साथ अमेरिकी राष्‍ट्रपति (US President) की 25 घंटे की हवाई यात्रा और काबुल के उत्‍तरी इलाके में बगराम एयर फील्‍ड (Bagram Air Field) पर बिताया गया समय पूरी तरह से गोपनीय रखा गया.

युद्ध क्षेत्र की यात्रा में प्रोटोकॉल का हिस्‍सा है गोपनीयता
अमेरिका के कमांडर-इन-चीफ (US commander-in-chief) जब भी युद्ध क्षेत्र में सैनिकों से मिलने जाते हैं तो इस तरह की गोपनीयता (Secrecy) प्रोटोकॉल का हिस्‍सा होती है. उनके साथ गए पत्रकारों को भी गुरुवार देर रात 2 बजे राष्‍ट्रपति ट्रंप की अफगानिस्‍तान यात्रा की रिपोर्टिंग की अनुमति दी गई. इसके तुरंत बाद ट्रंप फिर एयर फोर्स वन (Air Force One) में बैठे और सैन्‍य विमान ने फ्लोरिडा के लिए उड़ान भर ली. ट्रंप की अफगानिस्‍तान यात्रा बुधवार शाम को शुरू हुई थी. ट्रंप के सवार होने के बाद एयर फोर्स वन ने बुधवार शाम 7.20 बजे अनजान हवाई अड्डे से उड़ान भरी.

फ्लोरिडा से वाशिंगटन, फिर अफगान के लिए भरी उड़ी

फ्लोरिडा से उड़ा विमान वाशिंगटन (Washington) के नजदीक मौजूद एक ज्‍वाइंट मिलिट्री बेस पहुंचा. जिस विमान से ट्रंप फ्लोरिडा गए थे, वो अफगानिस्‍तान यात्रा के दौरान पाम बीच इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर ही खड़ा रहा. ताकि लोगों को लगे कि ट्रंप फ्लोरिडा में हैं. ट्रंप बुधवार रात 9.30 बजे ज्‍वाइंट मिलिट्री बेस पहुंचे. यहां से दूसरे एयर फोर्स वन ने ट्रंप को लेकर रात 10.08 बजे अफगानिस्‍तान के लिए उड़ान भरी. विमान ने जब उड़ान भरी तो उसकी सभी विंडोज और अंदर की लाइट्स बंद थीं. विमान में मौजूद पत्रकारों को नहीं पता था कि उन्‍हें कहां ले जाया जा रहा है. उन्‍हें अफगानिस्‍तान पहुंचने से दो घंटे पहले ही डेस्टिनेशन के बारे में बताया गया था.



पत्रकारों को पहुंचते ही रिपोर्टिंग की नहीं दी अनुमति
ट्रंप के साथ गईं व्‍हाइट हाउस की प्रेस सचिव स्‍टेफनी ग्रिशम (Stephanie Grisham) ने पत्रकारों को बताया कि राष्‍ट्रपति ट्रंप एक खतरनाक इलाके में अमेरिकी सैनिकों (US Troops) से मुलाकात करने जा रहे हैं. राष्‍ट्रपति ने सोचा है कि छुट्टियों में अपने परिवारों से दूर रह रहे अमेरिकी सैनिकों को चौंकाया जाए. ट्रंप का विमान गुरुवार रात 8.33 बजे बगराम एयर बेस पर उतरा. यात्रा की गोपनीयता को बनाए रखने के लिए एक बार फिर विमान की विंडोज और लाइटें बंद कर दी गई थीं. पत्रकारों को ट्रंप की यात्रा की रिपोर्टिंग की तुरंत अनुमति नहीं दी गई. व्‍हाइट हाउस (White House) के बहुत ही भरोसे के अधिकारियों ने कई हफ्ते पहले ही इस यात्रा की योजना बनानी शुरू कर दी थी.

ट्रंप के साथ यात्रा पर गए थे सिर्फ करीबी अधिकारी
ट्रंप के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट (@realDonaldTrump) से गुरुवार सुबह थैंक्‍सगिविंग डे (Thanksgiving) की बधाई दी गई. इस अकाउंट से बुधवार रात और गुरुवार सुबह किए गए तमाम ट्वीट पहले ही शेड्यूल कर दिए गए थे. यह ट्रंप की पहली अफगानिस्‍तान और किसी भी युद्ध क्षेत्र की दूसरी यात्रा थी. ट्रंप ने पिछले साल क्रिसमस की पूर्व संध्‍या पर भी अचानक इराक पहुंचकर सैनिकों से मुलाकात की थी. हालांकि, तब उनकी इराक यात्रा की गोपनीयता बनी नहीं रह पाई थी. तब ब्रिटेन ने एयर फोर्स वन की कुछ तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर डाल दी थीं. अफगानिस्‍तान यात्रा पर ट्रंप के साथ मिक मलवैनी, रॉबर्ट ओ-ब्रायन, जूड डेयरे और ग्रिशम भी थीं.

ये भी पढ़ें:

थैंक्स गिविंग डे पर अफगानिस्तान पहुंचे ट्रंप, तालिबान के साथ फिर करेंगे बात
पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने 6 महीने के लिए बढ़ाया जनरल बाजवा का कार्यकाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 12:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...