US ELECTION 2020: रिपब्लिकन पार्टी ने ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ को डांट लगाई

रिपब्लिकन पार्टी ने ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ को डांट लगाई है.
रिपब्लिकन पार्टी ने ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ को डांट लगाई है.

US ELECTIONS 2020: रिपब्लिकन पार्टी (Republican Party) ने बुधवार को हुई सीनेट की सुनवाई में ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ (CEOs Of Twitter, Facebook And Google) को डांट लगाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 11:56 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका में अगले सप्ताह होने जा रहे चुनावों (US ELECTIONS 2020) से जुड़े हंगामे के बीच रिपब्लिकन पार्टी (Republican Party) ने बुधवार को हुई सीनेट की सुनवाई में ट्विटर, फेसबुक और गूगल के सीईओ (CEOs Of Twitter, Facebook And Google) को डांट लगाई. यह सब तीनों कंपनियों की भाषण और विचारों को प्रसारित करने की जबरदस्त शक्ति के चलते हुआ. इस सुनवाई में तीनों कंपनियों के सोशल मीडिया प्लेटफार्मों में कथित रूढ़िवादी पूर्वाग्रह के लिए डांटा गया और साथ ही आगे आने वाले प्रतिबंधों की चेतावनी भी दी. ट्रम्प प्रशासन ने रूढ़िवादी विचारों के खिलाफ पूर्वाग्रह के निराधार आरोपों को जब्त करते हुए कांग्रेस से इन कंपनियों के सुरक्षा आधारों को हटाने के लिए कहा है. ये वे सुरक्षा आधार हैं, जो आम तौर पर तकनीकी कंपनियों को लोगों को उनके प्लेटफार्म पर पोस्ट की गई सामग्री की कानूनी जिम्मेदारी लेने से बचाते हैं.

फ्री पास को समाप्त करने का वक्त आ गया है: सेन रोजर विकर

सीनेट कॉमर्स, साइंस एंड ट्रांसपोर्टेशन कमेटी के अध्यक्ष सेन रोजर विकर ने कहा कि उस फ्री पास को समाप्त होने का समय आ गया है, उनका अर्थ था कि ऑनलाइन भाषण को नियंत्रित करने वाले कानूनों को अपडेट किया जाना चाहिए क्योंकि इंटरनेट के खुलेपन और स्वतंत्रता पर हमला किया जा रहा है. रिपब्लिकन ने सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर, सबूत के बिना, रूढ़िवादी, धार्मिक और गर्भपात विरोधी विचारों को जानबूझकर दबाने का आरोप लगाया है.



ये भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति की वेबवाइट Hacked, हैकरों ने कहा- ट्रंप की फेक खबरें अब बंद
सेशल्स के राष्ट्रपति बने बिहार के रामकलावान, पेशे से रह चुके हैं पुजारी

अपनी गवाही में डोरसी, जुकरबर्ग और पिचाई ने 1996 के एक कानून के प्रावधान में बदलाव के प्रस्तावों को संबोधित किया जिसने इंटरनेट पर मुक्त भाषण की नींव के रूप में कार्य किया. जुकरबर्ग ने स्वीकार किया कि कांग्रेस को "कानून को अपडेट करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह काम कर रहा है. डोरसी और पिचाई ने कोई भी बदलाव करने में सावधानी बरतने का आग्रह किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज