UN बोला - कश्‍मीर मुद्दे को सुलझाने के लिए मध्‍यस्‍थता नहीं चाहते PM मोदी

संयुक्‍त राष्‍ट्र ने कहा, भारत और पाकिस्‍तान (India-Pakistan) सकारात्‍मक माहौल में बातचीत करें ताकि दोनों परमाणु शक्ति संपन्‍न (Nuclear Power) देशों के संबंध बेहतर हो सकें.

संयुक्‍त राष्‍ट्र ने कहा, भारत और पाकिस्‍तान (India-Pakistan) सकारात्‍मक माहौल में बातचीत करें ताकि दोनों परमाणु शक्ति संपन्‍न (Nuclear Power) देशों के संबंध बेहतर हो सकें.

अमेरिका (US) के विदेश मंत्रालय (State Department) में दक्षिण एशियाई मामलों की वरिष्‍ठ अधिकारी एलिस वेल्‍स ने कहा, अगर भारत-पाकिस्‍तान (India-Pakistan) चाहेंगे तो राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) कश्‍मीर मुद्दे (Kashmir Issue) पर मध्‍यस्‍थता करने को तैयार हैं. साथ ही अमेरिका चाहता है कि कश्‍मीर घाटी (Kashmir Valley) में लगाई गई पाबंदियां जल्‍द से जल्‍द हटाई जाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2019, 11:38 AM IST
  • Share this:
संयुक्‍त राष्‍ट्र. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने दुनिया के सामने कश्‍मीर मुद्दे (Kashmir Issue) को लेकर अपना स्‍टैंड साफ कर दिया है. भारत ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कि यह द्विपक्षीय मामला है. इस पर अब संयुक्‍त राष्‍ट्र (UN) की ओर से कहा गया है कि भारत इस मामले में किसी तरह की मध्‍यस्‍थता (Mediation) नहीं चाहता है. हालांकि, संयुक्‍त राष्‍ट्र की ओर से कहा गया है कि भारत कश्‍मीर घाटी (Kashmir Valley) में लगाई गई पाबंदियों (Restrictions) को जल्‍द से जल्‍द हटाए. साथ ही माहौल में सुधार के साथ नजरबंद और हिरासत में लिए गए लोगों को छोड़ा जाए.

'बातचीत के जरिये संबंध बेहतर करें भारत और पाकिस्‍तान'
अमेरिका (US) के विदेश मंत्रालय (State Department) में दक्षिण एशियाई मामलों की वरिष्‍ठ अधिकारी एलिस वेल्‍स ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्‍मीर मुद्दे पर अपनी स्थिति बिलकुल स्‍पष्‍ट कर दी है. वह किसी भी तरह की मध्‍यस्‍थता नहीं चाहते हैं. हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि भारत और पाकिस्‍तान (India-Pakistan) अपने सभी मुद्दों पर सकारात्‍मक माहौल में बातचीत करें ताकि दोनों परमाणु शक्ति संपन्‍न (Nuclear Power) देशों के संबंध बेहतर हो सकें. उन्‍होंने कहा कि अगर दोनों देश चाहेंगे तो राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (President Donald Trump) कश्‍मीर मसले पर मध्‍यस्‍थता को तैयार हैं.

भारत-पाक के बीच तनाव घटने से दुनिया को होगा फायदा
वेल्‍स ने कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र (United States) जम्‍मू-कश्‍मीर में बड़ी संख्‍या में नेताओं और कारोबारियों को हिरासत में लेने के मामले पर चिंतित है. साथ ही सूबे में आम नागरिकों पर लगाई गई पाबंदियां भी चिंता का विषय हैं. हम चाहते हैं कि भारत की सरकार कश्‍मीरी नेताओं के साथ मिलकर काम करे. साथ ही जितनी जल्‍दी संभव हो सके राज्‍य में चुनाव कराए. उन्‍होंने कहा कि ट्रंप के पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान (PM Imran Khan) और भारत के पीएम नरेंद्र मोदी से मजबूत संबंध हैं. दोनों देशों के बीच तनाव कम होने और बातचीत बढ़ने से पूरी दुनिया को फायदा मिलेगा.



UN को भरोसा, पीएम मोदी कश्‍मीर पर अपनी बात करेंगे पूरी
एलिस ने कहा कि पीएम मोदी के मुताबिक अनुच्‍छेद-370 (Article-370) हटने से आम कश्‍मीरियों का जीवन बेहतर होगा. हमें भरोसा है कि वह अपनी बात पूरी करेंगे. वेल्‍स ने कहा कि संयुक्‍त राष्‍ट्र (UN) ने कश्‍मीर मुद्दे को पूरी गंभीरता के साथ उच्‍चस्‍तर पर उठाया है. हालांकि, इस दौरान उन्‍होंने यह नहीं बताया कि ट्रंप ने पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान इस मुद्दे पर कोई बात की या नहीं. बता दें कि ट्रंप ने ह्यूस्‍टन में हुए हाउडी मोदी कार्यक्रम में पीएम मोदी के साथ मंच साझा किया था.

ये भी पढ़ें:

कश्मीर पर आज PAK की बोलती बंद कर देंगे PM मोदी, UNGA में शाम 7:50 बजे भाषण

हमें SAARC क्षेत्र बचाने के लिए आतंक को खत्म करना ही होगा: विदेश मंत्री
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज