• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा- भारत से व्यापार के मामले में मतभेद भी 'दोस्ती के दायरे' में ही

अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा- भारत से व्यापार के मामले में मतभेद भी 'दोस्ती के दायरे' में ही

माइक पोम्पियो ने कहा है कि भारत के साथ व्यापार को लेकर मतभेद भी दोस्ती के दायरे में हैं (पीएम मोदी के साथ अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो)

माइक पोम्पियो ने कहा है कि भारत के साथ व्यापार को लेकर मतभेद भी दोस्ती के दायरे में हैं (पीएम मोदी के साथ अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो)

H1- B वीज़ा, व्यापार, युद्ध और भारत के रूस से S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की खरीद को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत हो रही है.

  • Share this:
    अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत आए हुए हैं. उन्हें इस दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से मुलाकात करनी है. H1- B वीज़ा, व्यापार, युद्ध और भारत के रूस से S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की खरीद को लेकर दोनों देशों के बीच बातचीत हो रही है. यह बातचीत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम मोदी की जापान के ओसाका में जी20 सम्मेलन में 28-29 जुलाई को होने वाली मुलाकात से पहले हो रही है.

    अपनी यात्रा के दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो भारत और अमेरिका के बिजनेस लीडर्स से भी एक गोलमेज सम्मेलन में मुलाकात करेंगे और इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में नीतियों को लेकर एक भाषण देंगे.

    पोम्पियो ने अपने ईरान एजेंडे पर भारत से की बात
    इस दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने यह भी कहा है कि ईरान, राज्य के जरिये आतंक को बढ़ावा देने वाला सबसे बड़ा देश है और भारतीय भी पहले आतंक से जूझते रहे हैं. भारत और अमेरिका दोनों ही देशों की मिलकर आतंक से जूझने के मामले में आपसी सहमति रही है.

    भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो की स्थानीय मुद्दों पर विस्तार से द्विपक्षीय चर्चा हुई है. इनमें आतंकवाद, दोनों ही देशों की आर्थिक वृद्धि, अंतरराष्ट्रीय मामले जैसे ईरान, अफगानिस्तान और हिंद-प्रशांत महासागर क्षेत्र आदि पर भी चर्चा हुई. पोम्पियो काबुल के बाद सीधे भारत आए हैं.

    भारतीय विदेश सचिव ने किया साफ, वैश्विक एनर्जी का गणित समझ गए पोम्पियो
    जब अमेरिका की ईरान के प्रति चिंताओं के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अमेरिका और ईरान की तनातनी से भारत की ईरान के तेल पर निर्भरता प्रभावित होगी. उन्होंने कहा कि यह सभी के लिए अच्छा होगा कि हमें पता रहे कि वैश्विक एनर्जी सप्लाई कैसे काम करती है? उन्होंने भरोसा दिलाया कि पोम्पियो इस बात को समझ गए हैं.

    भारत-अमेरिका की व्यापार असहमतियां भी दोस्ती से बाहर नहीं
    दोनों देशों के बीच व्यापार संबंधों पर बात करते हुए माइक पोम्पियो ने कहा कि दोनों ही नेताओं की व्यापार संबंधों को लेकर असहमतियां रही हैं. लेकिन यह असहमतियां भी दोस्ती के दायरे में ही आती हैं. उन्होंने कहा कि वो आशा करते हैं कि जल्द ही अमेरिकी-भारतीय व्यापार की अड़चनों को दूर कर लेंगे और इसके अलावा भविष्य में आने वाले किसी भी आर्थिक विवाद को आसानी से निपटा लेंगे.

    एस जयशंकर ने कहा है कि वो इन समस्याओं को सुलझाने के प्रति आश्वस्त हैं. और उन्होंने रिश्तों में मजबूती लाने की बात कही है. लेकिन उन्होंने इन पर और काम किए जाने की बात कही और यह भी कहा कि हमेशा कुछ काम किया जा सकता है.

    यह भी पढ़ें: UNSC में भारत को जगह दिलाने के लिए PAK भी आया साथ

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज