ईरान को इतना निचोड़ेंगे कि सिर्फ गुठली बचेगी: अमेरिका

उल्लेखनीय है कि ईरान के साथ परमाणु समझौते में शामिल अन्य पक्ष अमेरिका के प्रतिबंधों का विरोध कर रहे हैं. विरोध करने वाले देश ब्रिटेन, फ्रांस, चीन और रूस हैं. ये देश समझौते को जारी रखना चाहते हैं.

भाषा
Updated: November 13, 2018, 10:01 PM IST
ईरान को इतना निचोड़ेंगे कि सिर्फ गुठली बचेगी: अमेरिका
अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन (File photo)
भाषा
Updated: November 13, 2018, 10:01 PM IST
अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने एक बार फिर कहा कि उनका देश ईरान को इतना निचोड़ देगा कि उसके अंदर केवल गुठली ही बची रह जाएगी. बोल्टन ने ये बातें ऐसे समय में की है जब एक सप्ताह पहले ही ईरान पर कड़े प्रतिबंध लागू हुए हैं.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने नाटकीय तरीके से ईरान के साथ परमाणु समझौते से बाहर निकलकर एकतरफा प्रतिबंध लगाए हैं. इन प्रतिबंधों को अब तक का सबसे कड़ा कदम माना जा रहा है. इसमें ईरान के तेल आयात को निशाना बनाया गया है और उसके बैंकों को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय प्रणाली से अलग-थलग करने की कोशिश की गई है.

बोल्टन ने एक सम्मेलन से पहले सिंगापुर में कहा, ‘मुझे लगता है कि ईरान की सरकार वास्तविक दबाव में है और हमारा उद्देश्य उन्हें निचोड़ कर रख देना है. जैसा कि अंग्रेज कहते हैं कि तब तक निचोड़ो जब तक की गुठली न चीखने लगे. हम प्रतिबंधों को और बढ़ाने जा रहे है.’



उल्लेखनीय है कि ईरान के साथ परमाणु समझौते में शामिल अन्य पक्ष अमेरिका के प्रतिबंधों का विरोध कर रहे हैं. विरोध करने वाले देश ब्रिटेन, फ्रांस, चीन और रूस हैं. ये देश समझौते को जारी रखना चाहते हैं. संयुक्त राष्ट्र निरीक्षकों का भी मानना है कि ईरान समझौते की शर्तों पर बना हुआ है.

इस मुद्दे पर सउदी अरब अमेरिका का एकमात्र समर्थक है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर