अमेरिका: प्रेग्नेंट औरत का पेट काटकर बच्चा लेकर भागी थी महिला, ऐसे दी जाएगी मौत

अमेरिका में प्रेग्नेंट औरत की हत्या कर पेट काट बच्चा लेकर एक महिला फरार हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
अमेरिका में प्रेग्नेंट औरत की हत्या कर पेट काट बच्चा लेकर एक महिला फरार हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Deat Penality in America: अमेरिका में किसी भी महिला को सजा ए मौत 67 साल बाद मिल रही है. अमेरिका में करीब 20 साल की रोक के बाद 3 महीने पहले ही मौत की सजा फिर से बहाल हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2020, 1:49 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका में एक महिला को हत्या (Murder) के जुर्म में सजा ए मौत (Death Penality) की सजा दी जा रही है. अमेरिका के पुलिस विभाग ने यह बताया कि मौत की सजा पाने वाली महिला ने एक प्रेग्नेंट औरत (Pregnant Women) की हत्या कर दी. अपराधी महिला इस घटना को अंजाम देने के बाद भी नहीं रूकी. उसने गर्भवती महिला की पेट काटकर (Slit Stomach And Ran away) उसका बच्चा निकाल लिया और फरार हो गई. महिला पर लगे आरोप सिद्ध हो गए हैं और अब उसे 8 दिसंबर को जहर का इंजेक्शन देकर मौत की सजा दी जाएगी. अमेरिका में किसी भी महिला को सजा ए मौत 67 साल बाद मिल रही है. अमेरिका में करीब 20 साल की रोक के बाद 3 महीने पहले ही मौत की सजा फिर से बहाल हुई है.

बच्ची अब 16 साल की हो चुकी है, पिता को सौंपने का आदेश

मांटोगोमैरी की उम्र अब 52 साल हो गई है और उसे इंडियाना के जेल में रखा गया है. यहीं पर उसे 8 मौत की सजा दी जाएगी. बच्ची अब 16 साल की हो चुकी है और कोर्ट ने उसे पिता को सौंपने का आदेश दिया.



रस्सी से गला घोंट कर 8 महीने की गर्भवती की जान ली
36 वर्षीय मांटोगैमरी नाम की महिला वर्ष 2004 में कुत्ता खरीदने के बहाने 23 वर्षीय बॉबी स्टीनेट के घर पहुंच गई. इसके बाद मांटोगोमैरी ने 8 महीने की गर्भवती स्टीनेट का रस्सी से गला घोंट दिया और फिर उसका पेट फाड़कर बच्चे को लेकर फरार हो गई. पुलिस ने मांटोगोमैरी को गिरफ्तार कर लिया.

कई अदालतों में अपराधी महिला ने अपील की

पुलिस द्वारा मिसौरी की एक कोर्ट में मांटोगोमैरी को पेश किया गया, जहां, उन्होंने अपना अपराध स्वीकार कर लिया था. हत्या के चार साल बाद वर्ष 2008 में उसे अपहरण और हत्या का दोषी ठहराया गया था. मांटोगोमैरी ने कई फेडरल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन हर जगह उसकी सजा को बरकरार रखा गया.

ये भी पढ़ें: US ELECTION 2020: अंतिम डिबेट से पहले ट्रंप ने जताई आपत्ति, विषय बदले जाने की मांग की 

लास वेगास में पादरी ने ट्रंप से कहा- आप प्रभु की आंखों के तारे हैं, दोबारा राष्ट्रपति बनेंगे


गौरतलब है कि अमेरिका में 1953 में आखिरी बार किसी महिला को मौत की सजा दी गई थी. यहां पिछले 67 साल में किसी भी महिला को मौत की सजा नहीं दी गई है. भारत में मौत की सजा में फांसी का प्रचलन है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज