लाइव टीवी

अमेरिका में कोरोना वायरस के 8 मामले, हांगकांग जाने वाली सभी फ्लाइट्स कैंसिल

News18Hindi
Updated: February 5, 2020, 10:35 AM IST
अमेरिका में कोरोना वायरस के 8 मामले, हांगकांग जाने वाली सभी फ्लाइट्स कैंसिल
कोरोना वायरस चीन से दूसरे देशों में भी फैल चुका है.

चीन में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से मरने वालों की संख्या 500 के करीब हो गई और यह आंकड़ा 2002-03 के सार्स संकट में 349 लोगों के मरने के आंकड़े से आगे निकल गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2020, 10:35 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. चीन के ज्यादातर शहर जानलेवा कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में हैं. इस वायरस से अब तक 490 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, कोरोना वायरस दूसरे देशों में भी फैल रहा है. ऐसे में दूसरे देश इससे बचने के लिए हर संभव कोशिशें कर रहे हैं. इस बीच अमेरिका ने हांगकांग जाने वाली सभी फ्लाइट्स अगले आदेश तक सस्पेंड कर दी हैं. हांगकांग में कोरोना वायरस के 18 मामले सामने आए हैं. वहीं, अमेरिका में भी कोरोना वायरस के 8 मामलों की पुष्टि हुई है.

कोरोना वायरस से ग्रसित चीन ने अमेरिका पर मदद नहीं करने का आरोप भी लगाया है. हालांकि, अमेरिका ने इन आरोपों से साफ इनकार किया. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, 'हम चीन की सरकार का सहयोग कर रहे हैं. हम कोरोना वायरस से निपटने के लिए साथ मिल कर काम कर रहे हैं.'

ट्रंप ने स्थानीय समयानुसार मंगलवार को संयुक्त राज्य कांग्रेस के संयुक्त सत्र में अपने वार्षिक राज्य संघ (SOTU) संबोधन में ये बातें कही. उन्होंने कहा, 'चीन और राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi xinping) के साथ हमारे संबंध बेहद अच्छे हैं. हम मौजूदा हालत में चीन की हर संभव मदद कर रहे हैं '

बीते दिनों चीन ने अमेरिका पर कोरोना वायरस को लेकर ‘दहशत’ पैदा करने का आरोप लगाया था. चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा था कि अमेरिका ने ‘कोई ठोस सहायता मुहैया नहीं कराई है’ और इसे लेकर वह केवल ‘दहशत’ पैदा कर रहा है.

 अमेरिका में कोरोना वायरस पब्लिक हेल्थ डिज़ास्टर घोषित
बीते शुक्रवार को ट्रंप प्रशासन ने इसे पब्लिक हेल्थ डिज़ास्टर घोषित करते हुए दो सप्ताह में चीन की यात्रा करने वाले विदेशी नागरिकों के देश में प्रवेश पर अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया था. ये नए प्रतिबंध वायरस की चपेट में आए प्रांत की यात्रा करने वाले अमेरिकी नागरिकों पर भी लागू होंगे.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस विषाणुओं का एक बड़ा समूह है, लेकिन इनमें से केवल छह विषाणु ही लोगों को संक्रमित करते हैं. इसके सामान्य प्रभावों के चलते सर्दी-जुकाम होता है, फिर बुखार आता है और सांस की दिक्कत होने लगती है. ठीक से सांस नहीं ले पाने के कारण इस वायरस से संक्रमित शख्स की मौत हो जाती है.‘सिवीयर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम’ (सार्स) ऐसा कोरोना वायरस है, जिसके प्रकोप से 2002-03 में चीन और हांगकांग में करीब 650 लोगों की मौत हो गई थी.

यह भी पढ़ें:  बलरामपुर: कोरोना वायरस के संदेह में चीन से लौटा एक छात्र अस्पताल में भर्ती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 9:58 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर