VIDEO: अमेरिकी कमांडर ने किया एलियन शिप देखने का दावा, कहा- कई राज छुपे हैं

अमेरिकी वायुसेना के कमांडर ने किये चौंकाने वाले दावे
अमेरिकी वायुसेना के कमांडर ने किये चौंकाने वाले दावे

Nimitz UFO US: अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कबूल किया है कि निमित्ज जहाज का सामना साल 2004 में एक अनजान एलियन शिप से हुआ था, ये शिप लगातार दो दिनों तक नज़र आई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 2:24 PM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिकी एयर फोर्स (United States Air Force) के एक कमांडर ने बताया कि साल 2004 में सैन डिएगो के तट के करीब उनके जहाज निमित्ज का सामना एक यूएफओ (Nimitz UFO) या एलियन शिप से हुआ था. कमांडर का मानना है कि ये शिप सरकार के पास हो सकती है या फिर कम से कम उन्हें इसकी काफी जानकारी है. ये अनजान शिप के नज़र आने की घटना पर अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने भी मुहर लगाई है. बाद में राष्ट्रपति ट्रंप ने भी इसे चौंकाने वाली घटना बताया था.

कमांडर डेविड फ्रेवर ( David Fravor) यूएसएफ के उन दो पायलटों में शामिल थे जो साल 2004 में टिक टैक (Tic Tac) एयर क्राफ्ट से सैन डियागे के तट पर पहुंचे थे. पेंटागन ने माना कि उस दौरान उनके कैमरे में एक बहुत ही अजीब सी चीज कैद हुई थी, लेकिन वे इसे पहचान पाने में सक्षम नहीं थे. फ्रेवर का मानना है कि वो चीज पृथ्वी के बाहर से आई थी. उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर अब दुनिया की कई सरकारें इस एलियन तकनीक के बारे में जानकारी रखती होगी और शायद कईयों के पास यह हो भी सकती है. फ्रेवर लेक्स फ्रीडमैन के पॉडकास्ट में पहुंचे थे.





सरकार छुपा रही है कई बातें
लेक्स फ्रीडमैन के पोडकास्ट कार्यक्रम में उनसे कई सवाल भी पूछे गए. जब फ्रेडर से पूछा गया कि क्या वाकई में ऐसी कोई एलियन तकनीक कई देशों के प्रभाव में हैं? तो इस पर फ्रेडर ने जवाब दिया 'अगर आप दुनियाभर में नजर घुमाएंगे तो यकीनन आपको इसकी जानकारी मिल सकती है. प्रोजेक्ट ब्लू बुक की बात करें तो इस पर कितने देशों की नजर है? फ्रेडर ने कहा 'प्रोजेक्ट ब्लू बुक में 1952 से 1970 तक यूएसएएफ ने यूएफओ का अध्ययन किया है. फ्रेवर ने आगे बोलते कहा कि उनका टिक टैक एयर क्राफ्ट का अनुभव भी उनमें से एक हैं लेकिन इसके बारे में ज्यादा विस्तार से नहीं बता सकते, फ्रेवर ने कहा कि सरकार भी इस बारे में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है.'



फ्रेवर से पूछा गया कि क्या इस दौरान कोई एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हुआ, अगर हुआ है तो कहीं उसका मलबा पाया गया? फ्रेवर ने कहा कि अगर यह एक अक्षत प्रणाली है तो मुझे इसकी कोई परवाह नहीं है और इस पर हम ज्यादा विस्तार से नहीं समझा सकते हैं.' फ्रेवर से सवाल किया गया 'क्या दुनिया में किसी भी सरकार या हमारे देश की सरकार के पास यूएफओ जैसी कोई तकनीकी चीज है या फिर किसी देश ने इसका निर्माण किया है? इस पर फ्रेवर ने जवाब दिया ' हो सकता है कि यह एक ड्रोन हो, ऐसी स्थिति में हमें इससे भी अलग सोचने की जरूरत है, हां, यह हमारे पास है लेकिन हम इसका और जिक्र नहीं कर सकते.'





क्या है यूएफओ ( UFO)?
यूएफओ यानि Unidentified Flying Object इन्हें उड़नतश्तरी भी कहा जाता है. बता दें कि यूफएओ और एलियन्स को लेकर पूरी दुनिया में नई बहस जारी है. इतना ही नहीं यूएफओ को देखे जाने की कई घटनाएं सामने आती रही हैं, लेकिन साइंस के लिए यह अभी भी एक रहस्य बनी हुई हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज