चीन में उइगर मुसलमानों की मस्जिद को सरकार ने तोड़ा, बना दिया पब्लिक टॉयलेट

चीन में उइगर मुसलमानों की मस्जिद को सरकार ने तोड़ा, बना दिया पब्लिक टॉयलेट
चीन ने मस्जिद तोड़कर बना दिया पब्लिक टॉयलेट

Uyghur mosque torn down in china: चीन के मुस्लिम बहुल शिनजियांग प्रांत के अतुश सुंथग गांव में जिनपिंग सरकार ने एक उइगर मस्जिद को गिराकर पब्लिक टॉयलेट बना दिया है जिसका स्थानीय लोग विरोध कर रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2020, 7:25 AM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन (China) में में उइगर मुसलमानों (Uyghur Muslims) पर जिनपिंग सरकार के जुल्म की ख़बरें अक्सर बाहर आती रहती हैं. सरकार ने उइगर मुसलमानों की धार्मिक पहचान ख़त्म करने का एक अभियान चलाया हुआ है. इसी के तहत न सिर्फ उन्हें टोपी पहनने, घरों में कुरान रखने से रोका जा रहा है बल्कि अब मस्जिदों को गिराना भी शुरू कर दिया गया है. मुस्लिम बहुल शिनजियांग के अतुश सुंथग गांव में एक मस्जिद (Tokul mosque torn down) को पब्लिक टॉयलेट में बदल दिया गया जबकि दो मस्जिदों को गिरा दिया गया है.

रेडियो फ्री एशिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक दो साल पहले तक इस गांव में 3 मस्जिदें थीं. इनमें से तोकुल और अजना मस्जिद गिरा दी गई हैं और तोकुल मस्जिद की जगह पब्लिक टॉयलेट बना दिया गया है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ये जिनपिंग सरकार के सुधार कार्यक्रम के तहत चल रहा है. साल 2016 में मस्जिदों में सुधार करने के लिए और कट्टरता कम करने के लिए ये अभियान शुरू किया गया था. सरकार इसकी आड़ में बड़े पैमाने पर मस्जिदों, दरगाहों और कब्रिस्तानों को तोड़ रही है. अतुश सुंथग गांव के उइगर मुस्लिम कमेटी के चीफ के मुताबिक, गांव में सभी घर में टॉयलेट पहले से ही हैं और मस्जिद को टॉयलेट बनाने की कोई ज़रुरत नहीं थी.






टॉयलेट बनाने का हो रहा विरोध
उइगर मुस्लिम कमेटी के चीफ ने सरकार के पास मस्जिद को टॉयलेट में तब्दील करने का विरोध भी दर्ज कराया है. लोगों का आरोप है कि गांव में टूरिस्ट न के बराबर आते हैं और सार्वजनिक शौचालय की जरूरत ही नहीं थी ऐसे में तोकुल मस्जिद की जगह टॉयलेट बनाकर संदेश दिया गया है. तोड़ी गई दूसरी मस्जिद की जगह एक ऐसा स्टोर खोला गया है जिसमें शराब और सिगरेट बेची जाती है. मस्जिदों को तोड़ने और उनकी जगह नई इमारतें बनाने के काम में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़े लोग शामिल हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मस्जिदों को सुधारने के नाम पर बीते दो साल में चीन की सरकार ने शिनजियांग की करीब 70% मस्जिदें ढहा दी है.

न्यूज एजेंसी एएफपी की रिपोर्ट के मुताबिक, इस इलाके में 2014 से अक्टूबर 2019 के बीच करीब 45 कब्रिस्तानों को तोड़ा गया है. इनकी जगह पर बाद में पार्क या पार्किंग लॉट बना दिए गए. वॉशिंगटन के उइगर ह्यूमन राइट्स प्रोजेक्ट (यूएचआरपी) ने अपनी स्टडी में 2016 से 2019 के बीच शिनजियांग में 15 हजार मस्जिदों और दरगाहों को तोड़े जाने का दावा किया है. चीन में 2014 के बाद से आतंकवाद विरोधी अभियान के तहत 20 लाख उइगर मुस्लिम और अन्य अल्पसंख्यकों को कई शिविरों में हिरासत में रखा गया है. चीन लगातार कहता रहा है कि वह इस क्षेत्र में चरमपंथ से निपटने के लिए ‘वोकेशनल ट्रेनिंग कैम्प’ चला रहा है. हालांकि, पूर्व बंदियों ने आरोप लगाया है कि वहां कैदियों को यातनाएं दी जाती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज